बारिश-बाढ़ से बढ़े सांप डसने के केस:अस्पतालों में दवा खत्म, क्यों सांप के डसने पर टाइट कपड़ा नहीं बांधना चाहिए

12 दिन पहलेलेखक: अलिशा सिन्हा

आज जरूरत की खबर में बात करेंगे- सांप के डसने पर क्या करें और क्या नहीं। अब आप कहेंगे अचानक ये कौन सा टॉपिक चुन लिया?

जवाब है- अब भी देश के कुछ हिस्सों में तेज बारिश हो रही है। कुछ जगहों पर बाढ़ के हालात हैं। चारों ओर पानी भर जाने की वजह से सांप लोगों के घर और सड़क पर आ गए हैं।

ऐसे में सांपों से बचाव बेहद जरूरी है। बेंगलुरु में बाढ़ के बाद सांप काटने के मामले ज्यादा आने की वजह से वहां के हॉस्पिटल से एंटी स्नेक वेनम सीरम खत्म हो गए हैं।

आगे बढ़ने से पहले इन आंकड़ों पर नजर डाल लीजिए।

सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ यानी Public health specialists ने भारत में सांप डसने से होने वाली मौत की एक रिपोर्ट पेश की है। जिसके मुताबिक-

  • हर साल देशभर में सांप के डसने से करीब 58 हजार लोगों की मौत होती है।
  • दुनियाभर में सांप के डसने से होने वाली मौत में आधे से ज्यादा भारतीय होते हैं।
  • सबसे ज्यादा शिकार किसान, मजदूर, शिकारी, गड़ेरिए, सपेरे, आदिवासी और प्रवासी होते हैं।

ICMR की एक हालिया स्टडी के मुताबिक

दुनियाभर में जहरीले सांपों से होने वाली मौतों में से करीब आधी मौतें भारत में होती हैं। इसके पीछे सबसे बड़ी वजह ये है कि सांप के डसने के बाद सिर्फ 30% भारतीय ही इलाज के अस्पताल जाते हैं।

चलिए अब करते हैं आपके काम की बात

कई बार लोगों को घर या दुकान के अंदर ही सांप डस लेता है। कुछ उपाय ऐसे हैं, जिन्हें अपनाने से घर में सांप घुसने की आशंका कम हो जाती है। जैसे-

  • अपने घर के आसपास की घास समय-समय पर कटवाते रहें।
  • घर या फिर दुकान में किसी तरह का कबाड़ इकट्ठा न होने दें।
  • घर या दुकान या गैरेज में छोटे-छोटे गड्ढे और दरार हैं, तो उसे बंद करें।
  • खेत या फिर किसी टूरिस्ट प्लेस में घूमने जा रहे हैं, तो सावधान रहें।
  • घर की नालियों के मुहाने पर जाली जरूर लगाएं।

इन सबके बावजूद अगर आपके घर में सांप घुस जाता है, तो आप कुछ ऐसे उपाय भी अपना सकते हैं, जिससे सांप खुद ही आपके घर से निकल जाएगा।

सांप घर या दुकान के अंदर घुस जाए, तो ये करें उपाय

छत्तीसगढ़ में पर्यावरण संरक्षण की दिशा में काम कर रहे नोवा नेचर सोसाइटी के सेक्रेटरी मोइज अहमद के मुताबिक

  • सबसे पहले अपने लिए सुरक्षित जगह की तलाश करें।
  • कमरे में मिट्टी का तेल या फिनाइल छिड़क दें, उसकी गंध से सांप खुद-ब-खुद बाहर निकल जाएगा।
  • खुद से सांप को मारने या भगाने के बजाय तुरंत किसी सपेरे या एक्सपर्ट को बुलाना चाहिए।

ऊपर ग्राफिक्स में लिखे उपाय के अलावा अगर आसपास किसी को इंजेक्शन लगाने आता है, तो वो खाली सिरिंज के अगले भाग को काटकर बेलननुमा बना लें। जिस जगह पर सांप ने डसा है, वहां पर सिरिंज लगाकर जहर खीच लें। ऐसा तुरंत करने पर काफी हद तक जहर बाहर आ जाता है। बचाव होने की संभावना रहती है।

ध्यान रखें- किस सांप ने डसा है, अगर इस बात की सही जानकारी हो, तो इलाज करना आसान होता है। क्योंकि अलग-अलग सांप की एंटी स्नेक वेनम इंजेक्शन अस्पताल या मेडिकल स्टोर में मौजूद होती है।

सांप डस ले, तो आस पड़ोस के लोग अक्सर बोलते हैं कि- अरे ये सांप जहरीला नहीं था, अरे ये सांप तो काफी जहरीला था। ऐसे लोगों की बातों पर ध्यान देने से अच्छा है आप मरीज के लक्षण से पहचान लगाने की कोशिश करें कि उसे जहरीले सांप ने डसा है या नहीं-

जहरीले सांप के डसने पर शरीर में इस तरह के 15 लक्षण दिखाई देंगे

  1. काटने वाली जगह पर दर्द और सूजन
  2. ऐंठन
  3. मतली
  4. उल्टी
  5. अकड़न या कंपकंपी
  6. एलर्जी
  7. घाव के चारों ओर जलन या लाल होना
  8. स्किन के कलर में बदलाव
  9. दस्त
  10. बुखार
  11. पेट दर्द
  12. सिरदर्द
  13. प्यास लगना और लो बीपी
  14. घाव से खून बहना
  15. बहुत पसीना आना

अब कुछ लोग सोच रहे होंगे कि ये स्नेक एंटी वेनम क्या है?

चाहे सांप जहरीला हो या न हो, स्नेक एंटी वेनम दवा बहुत प्रभावी होती है, जो इंजेक्शन के जरिए शरीर में पहुंचते ही जहर से मुकाबला कर उसके प्रभाव को खत्म करने लगती है।

अगर आप बाढ़ प्रभावित इलाके में या अधिक बारिश वाली जगह पर हैं, अपने घर, कमरे में पानी निकालने के लिए जा रहे हैं, तो सुरक्षित तरीके से सांप से निपटने के लिए क्या करना होगा, अब यह भी जान लीजिए।

  • अपने घर या बगीचे में मलबा, कीचड़ और गंदगी को साफ करने के लिए फावड़े या लोहे की बड़ी छड़ का इस्तेमाल करें।
  • जिन जगहों पर पानी भरा है, वहां long boots पहनकर ही जाएं।
  • पानी की पाइप को बार-बार फ्लश करें। ज्यादातर सांप वही पर रहते हैं।
  • अगर घर में सांप दिख जाए, तो तुरंत वन विभाग को कॉल करें।

चलते-चलते

BHU में न्यूरोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर डॉ. विजय नाथ मिश्रा के मुताबिक भारत में ज्यादातर दो तरह के सांपों के डसने की घटनाएं सामने आती हैं-

पहला करैत

  • जिस जगह पर करैत काटता, वो जगह मच्छर के काटने जैसी लगती है।
  • काटने वाली जगह पर सूजन, जबड़े और घुटने में दर्द शुरू हो सकता है।
  • जिसका मतलब साफ है कि जिसे सांप ने काटा है, उसके शरीर में जहर फैलने लगा है।

दूसरा कोबरा

  • जिस जगह पर कोबरा ने काटा है, वहां बहुत ज्यादा सूजन आ जाती है।
  • वो जगह घाव की तरह दिखने लगता है। आंखों और पेट में अकड़न जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।