जरूरत की खबर:ओमिक्रॉन से इंफेक्ट होने पर सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता नहीं जाती, जानिए इसके और क्या हैं लक्षण

6 महीने पहले

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (B.1.1.529) ने एक बार फिर से दुनिया के सभी देशों की चिंता बढ़ा दी है। WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) ने भी इसे लेकर चिंता जाहिर की है और इसे वैरिएंट ऑफ कन्सर्न (VoC) के लिस्ट में रखा है।ओमिक्रॉन डेल्टा वैरिएंट से भी ज्यादा संक्रामक हो सकता है। अब तक साउथ अफ्रीका सहित दुनियां के 15 देशों में ओमिक्रॉन के मरीज मिले हैं।

एक्सपर्ट्स का कहना है की ओमिक्रॉन पर मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज थैरेपी, वैक्सीनेशन या नेचुरल इंफेक्शन से होने वाले इम्यून रिस्पॉन्स को भी बेअसर कर सकता है। ओमिक्रॉन के लक्षण के बारें में WHO का कहना है की अभी तक किसी तरह के खास लक्षण सामने नहीं आए हैं, लेकिन साउथ अफ्रीका की डॉ. एंजेलिक कोएट्जी जिसने सबसे पहले COVID-19 ओमाइक्रोन वैरिएंट को रिपोर्ट किया था। उनके अनुसार ओमिक्रॉन के “असामान्य लेकिन हल्के” लक्षण देखे जा रहे हैं। डॉ. एंजेलिक कोएट्जी का कहना है कि ओमिक्रॉन के लक्षण डेल्टा से अलग हैं। कोरोना के दूसरी वैरिएंट से इंफेक्ट होने पर स्वाद और सूंघने की क्षमता पर असर पड़ता था, लेकिन ओमिक्रॉन के मरीजों में ये लक्षण नहीं देखा जा रहा है। साथ ही गले में खराश तो रहती है, लेकिन कफ की शिकायत देखने को नहीं मिल रही है।

जानिए कितना खतरनाक है ओमिक्रॉन और इसके लक्षण। किसी भी तरह के लक्षण दिखने पर ये सावधानियां बरतें….