पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीगन डाइट एक नई खोज:75% फल-सब्जी और 25% मीट को मिलाकर तैयार की जाती है खास डाइट, जानें क्या हैं इसके फायदे?

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फ्लोरेंस फैब्रिकेंट. आपने कई तरह की डाइट ली होंगी या उनके बारे में सुना होगा, लेकिन क्या आप पीगन डाइट के बारे में जानते हैं? ये डाइट फिट रहने का एक नया तरीका है, जिसे डॉक्टर मार्क हाइमन ने खोजा है। अमेरिका के नेशनल हार्ट लंग एंड ब्लड इंस्टीट्यूट के मुताबिक इससे शुगर, कोलेस्ट्रॉल, फैट, ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर जैसी बीमारियों को कंट्रोल किया जा सकता है।

क्या होती है पीगन डाइट?

पीगन डाइट प्लान वीगन और पैलिओ डाइट को मिलाकर तैयार की जाती है। पैलियो डाइट मतलब मांस और मछली और वीगन डाइट मतलब हरी और पत्तेदार सब्जियां। इस डाइट में प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है। इस डाइट से एनीमल फैट वाले फूड को कंट्रोल किया जाता है। इसे क्लीवलैंड क्लिनिक सेंटर फॉर फंक्शनल मेडिसिन के डॉयरेक्टर डॉ. मार्क हाइमन ने ईजाद किया है। डॉ. हाइमन के मुताबिक पीगन डाइट में गैर-स्टार्च वाली सब्जियों, फलों और पौधों को शामिल किया जाता है। इसमें प्रोटीन पर सबसे ज्यादा फोकस किया जाता है। यह कई तरह की बीमारियों के लिए बहुत कारगर है।

पीगन डाइट में क्या शामिल करें?

डॉ. हाइमन के मुताबिक इस डाइट प्लान के तहत आपकी प्लेट में 75% फल-सब्जियां और 25% मीट होना चाहिए।

पीगन डाइट के 5 फायदे-

1- ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती

अमेरिकी स्वास्थ्य संस्था न्यूरोलॉजी ने एक स्टडी की। इसके मुताबिक पीगन डाइट बच्चों और वयस्कों दोनों में हाई ब्लड प्रेशर को रोकने में मददगार होती है।

2- कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करती है

यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने की सबसे बड़ी वजह सैचुरेटेड फैट है। लेकिन पीगन डाइट में ऐसी चीजों को नहीं शामिल किया जाता, जिनमें जरा भी सैचुरेटेड फैट पाया जाता हो। लगातार एक महीने तक पीगन डाइट पर निर्भर रहने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर न केवल घटता है, बल्कि संतुलित भी हो जाता है।

3- डायबिटीज कंट्रोल होता है

यह डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत ही कारगर उपाय है। पीगन डाइट में शुगर बिल्कुल नहीं होती, जबकि नॉर्मल डाइट में तमाम सावधानियों के बाद भी शुगर किसी न किसी रूप में शरीर में पहुंचती ही रहती है। जिनका शुगर लेवल काफी बढ़ गया हो, उन्हें तुरंत पीगन डाइट की ओर चले जाना चाहिए। कई स्टडी में यह बात सामने आई है कि इससे ब्लड शुगर कंट्रोल हो जाती है।

4- हड्डियां मजबूत रहती हैं

पीगन डाइट हड्डियों के लिए भी फायदेमंद है। इसमें कैल्शियम और विटामिन-D की भरपूर मात्रा पाई जाती है। यह गठिया, सूजन और यहां तक कि बोन कैंसर के खतरों को कम करने में भी मददगार है।

5- हार्ट के लिए अच्छा

पीगन डाइट में सैचुरेटेड फैट और शुगर की मात्रा बिल्कुल नहीं होने से ब्लड प्रेशर के साथ-साथ, शरीर का शुगर लेवल और कोलेस्ट्रॉल भी कंट्रोल में रहता है। इन सभी चीजों पर ही दिल की सेहत निर्भर करती है। आपके शरीर में सैचुरेटेड फैट और शुगर की मात्रा जितनी संतुलित होगी, आपका हार्ट उतना ही स्वस्थ रहेगा।

खबरें और भी हैं...