पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इस टेस्ट में पास होना है जरूरी:कोरोना से ठीक हुए मरीजों में लंग्स डैमेज होने का खतरा, ब्लड गैस टेस्ट से मिलेगी सटीक जानकारी

नई दल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना को दुनिया में दस्तक दिए एक साल हो चुके हैं। इसके चलते दुनियाभर में अब तक करीब 20 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। लोगों ने इससे बचने के लिए तमाम तरह के तरीके अपना लिए हैं। इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए लोग खान-पान और एक्सरसाइज पर भी खूब ध्यान दे रहे हैं। अब वैक्सीन भी आ गई है, लेकिन एक्सपर्ट्स का कहना है कि अभी ऐहतियात बरतना बेहद जरूरी है।

भोपाल AIMS में डॉक्टर विनीत द्विवेदी कहते हैं कि कोरोना न केवल हमारे इम्यून सिस्टम को, बल्कि हमारे शरीर के ऑर्गन्स को भी डैमेज कर देता है। इससे बचने के लिए कोरोना पीड़ितों को योग करने और ऑक्सीमीटर रखने की सलाह भी दी जा रही है।

अगर वायरस का लोड ज्यादा है तो इससे लंग्स डैमेज होने का खतरा भी बढ़ जाता है, जिसके चलते ब्लड में ऑक्सीजन लेवल घट जाता है, जो पोस्ट कोविड जैसी तमाम समस्याओं की वजह बन रहा है। इसलिए कोरोना से ठीक हुए मरीजों को ब्लड गैस टेस्ट कराना चाहिए। खासकर ऐसे मरीज जिनमें वायरस लोड ज्यादा था, उन्हें तो जरूर इस प्रक्रिया से गुजरना चाहिए।

क्या होता है ब्लड गैस टेस्ट?

  • इस टेस्ट के जरिए शरीर में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर का पता चलता है। जिससे डॉक्टर यह पता कर पाते हैं कि फेफड़े और लिवर ठीक तरह से काम कर रहे हैं या नहीं।
  • ब्लड सेल्स शरीर में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड ट्रांसपोर्ट करते हैं। यह लंग्स के जरिए ही हो पाता है। ब्लड गैस टेस्ट में पता चलता है कि लंग्स ब्लड में ऑक्सीजन की कितनी सप्लाई कर रहे हैं। यह भी पता चलता है कि हमारे लंग्स कितनी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड को रिमूव कर रहे हैं।
  • टेस्ट के बाद अगर ब्लड में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का PH लेवल कम पाया जाता है तो इसका मतलब लंग्स सही ढंग से काम नहीं कर रहे हैं। इसका मतलब यह भी है कि पीड़ित की किडनी खराब है, हार्ट की समस्या है या शुगर लेवल बढ़ा हुआ है।

ब्लड गैस टेस्ट क्यों जरूरी?

  • अगर किसी में सांस की दिक्‍कत, जी मचलना या बेचैनी जैसे लक्षण हैं, तो उसे ब्लड गैस टेस्ट कराना चाहिए। ऐसा होने के पीछे कई वजहें हो सकती हैं। अगर कोरोना से ठीक हुए मरीजों में ये लक्षण दिख रहे हैं तो इसकी वजह लंग्स डैमेज भी हो सकता है। ऐसे केस में लापरवाही नहीं की जा सकती है।
  • डॉ. द्विवेदी कहते हैं कि ब्लड टेस्ट के जरिए शरीर में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर का सटीक पता लगाया जा सकता है।

कब बिगड़ता है ब्लड का PH स्तर?

हमारे ब्लड में कई तरह की गैस पाई जाती हैं। जब इनका स्तर सामान्य से ज्यादा या कम हो जाता है तो ब्लड का PH स्तर बिगड़ जाता है। इसके चलते हमारा इम्यून सिस्टम काफी कमजोर हो जाता है। कोरोना से ठीक हुए मरीजों में इस तरह के लक्षण देखे जा रहे हैं इसलिए डॉक्टर्स और एक्सपर्ट्स कोरोना के बाद ब्लड गैस टेस्ट को जरूरी बता रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

और पढ़ें