जरूरत की खबर:क्या इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए बच्चों को देना चाहिए कैल्शियम और विटामिन के सप्लीमेंट? जानिए एक्सपर्ट की राय

4 महीने पहले

कोरोना काल में बच्चों को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है। ऐसा इसलिए, क्योंकि अब तक 12 साल से कम उम्र के बच्चों को वैक्सीन नहीं लगी है। इसलिए पेरेंट्स बच्चों की इम्यूनिटी​​​​​​ बूस्ट करने के लिए उन्हें कैल्शियम और विटामिन के सप्लीमेंट दे रहे हैं। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि इस तरह के सप्लीमेंट्स से बच्चों को फायदा होने की बजाय कहीं नुकसान तो नहीं हो रहा है? किन-किन बच्चों को इस तरह के सप्लीमेंट की जरूरत होती है? क्या इसे देने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए?

आज जरूरत की खबर में आइए इन सवालों के जवाब ढूंढने की कोशिश करते हैं...

सप्लीमेंट का मतलब क्या होता है?

कैल्शियम, आयरन, विटामिन A, B और D की गोलियां, जिन्हें बीमार होने पर कभी न कभी डॉक्टर ने खाने की सलाह दी होगी। ऐसी गोलियों को सप्लीमेंट कहते हैं।

क्या 5 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को होती है सप्लीमेंट की जरूरत?

कोकिलाबेन अस्पताल की चीफ डाइटीशियन भक्ति सामंत के अनुसार, बच्चों के शरीर का जब विकास होता है तो उन्हें विटामिन और कैल्शियम की जरूरत पड़ती है। बच्चे अगर सही तरीके से खाना खा रहे हैं तो उन्हें कैल्शियम और विटामिन भोजन से ही मिल जाता है, लेकिन अगर किसी वजह से कुछ चीजें बच्चों को नहीं दी जा रही हैं, तो ऐसे में 5 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को सप्लीमेंट देना चाहिए।

ज्यादातर बच्चे हेल्दी खाना पसंद नहीं करते। उन्हें खाने में जंक फूड या फास्ट फूड पसंद होता है। ऐसे में उन्हें एक बैलेंस डाइट नहीं मिल पाती है और पेरेंट्स परेशान होकर उन्हें इस तरह के सप्लीमेंट देने लगते हैं।

क्या इसे बिना डॉक्टर की सलाह के बच्चों को दे सकते हैं?

भक्ति सामंत कहती हैं कि भले ही सप्लीमेंट शरीर के विकास में मदद करते हैं, लेकिन इन्हें डॉक्टर की देखरेख में ही बच्चों को देना चाहिए।

शाकाहारी बच्चों को हो सकती है सप्लीमेंट की जरूरत

डॉक्टर भक्ति सामंत के अनुसार, कई बच्चे शाकाहारी खाना खाते हैं। शाकाहारी खाने में B-12, ओमेगा-3, जिंक, आयरन, विटामिन D-3 और अन्य पोषक तत्वों की कमी होती है। साथ ही कई बच्चे दूध पीना भी पसंद नहीं करते हैं। इसलिए किसी डॉक्टर की देखरेख में हम शाकाहारी बच्चों को सप्लीमेंट दे सकते हैं।

क्या बच्चों को एनर्जी बार या एनर्जी ड्रिंक्स दिया जा सकता है?

डॉक्टर भक्ति सामंत कहती हैं कि हर उम्र के लोगों, विशेषकर बच्चों के लिए बाजार में एनर्जी ड्रिंक्स और एनर्जी बार जैसे कई ऑप्शन हैं। इन्हें एनर्जी और ताकत बढ़ाने के नाम पर बेचा जाता है, लेकिन इन्हें पीने से बच्चों का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। बच्चों में मोटापा, डायबिटीज जैसी कई बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए ऐसी चीजें बच्चों को न दें। अगर देना चाहते हैं तो एनर्जी बार घर पर आसानी से बना सकते हैं।

बच्चों को क्या देना चाहिए?

  • घर पर बने हुए नाश्ते बच्चों की सेहत के लिए अच्छे होते हैं।
  • कुछ अलग खाने का मन करें तो बच्चों को ओट्स दे सकते हैं।
  • इसके अलावा बच्चों को घर पर बनाए गए स्नैक्स शाम को खिलाने की आदत डालें।