पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना के दौर में रिस्क न लें:कहीं आपका सप्लीमेंट FAKE तो नहीं? ऐसे समझें नकली और असली सप्लीमेंट में फर्क

15 दिन पहले

कोरोना महामारी ने लोगों को स्वास्थ्य के प्रति बेहद सतर्क बना दिया है। सेहतमंद रहने के लिए लोग तमाम उपाय जैसे हेल्दी खाने, एक्सरसाइज से लेकर हेल्थ सप्लीमेंट तक पर अब ज्यादा ध्यान दे रहे हैं।

हालांकि मार्केट में इतने सारे हेल्थ सप्लीमेंट उपलब्ध हैं कि ये समझ पाना मुश्किल हो जाता है कि कौन से असली हैं और कौन से नकली। असली सप्लीमेंट की तरह दिखने वाले नकली सप्लीमेंट में कई बार वो सब्सटेंस होते हैं, जिन पर बैन लगा हुआ है जैसे स्टेरॉयड, हानिकारक केमिकल और नकली इंग्रीडिएंट्स। ये केमिकल बॉडी को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं।

कोरोना की वजह से बढ़ी सप्लीमेंट की मांग से असली और नकली दोनों तरह के हेल्थ सप्लीमेंट का बाजार फल-फूल रहा है। हाई-क्वालिटी सप्लीमेंट ज्यादातर इम्पोर्ट किए जाते हैं इसलिए ये महंगे होते हैं। तो चलिए जानते हैं असली और नकली सप्लीमेंट पहचानने के कुछ आसान तरीके...