जरूरत की खबर:500 रुपए का नेग देकर गर्मी की शादियों में जमकर तो नहीं खाते, तला-भुना खाना कर सकता है बीमार

2 महीने पहलेलेखक: अलिशा सिन्हा

शादी… गर्मी में हो या सर्दी में। खाने के ऑप्शन ढेर सारे होते हैं, लेकिन गर्मी के दिनों में ज्यादा और बिना सोचे-समझे खाना भारी पड़ सकता है। इसलिए अपनी मर्जी से कपड़े पहनें, मेकअप करें, लोगों से मिलें, लेकिन खाना सोच-समझ कर ही खाएं।

आपके साथ ऐसा जरूर होता होगा-

  • कोई न कोई दोस्त ऐसा जरूर होता है जो पार्टी में 10 स्टॉल लगे हैं तो सभी स्टॉल पर जाकर खाता है।
  • आपका मन न हो तो भी आपको खाने के लिए वो दोस्त मोटिवेट करता है।
  • कुछ को लगता है कि उन्हें इतना अच्छा खाना फिर कभी नहीं मिलेगा, इसलिए आज जी भर कर खा लो।

गर्मी की शादियों में ज्यादा खाने-पीने से क्या होता है, कैसे दूसरों के कहने पर ज्यादा खाना नहीं खाना चाहिए। दूल्हा-दुल्हन को शादी वाले दिन क्या और कैसे खाना-पीना चाहिए। ऐसे जरूरी सवालों का जवाब जानने के लिए हमने बात की डाइटिशियन अंजू विश्वकर्मा से...

अगर शादी में खाना खाने को लेकर आपने लापरवाही की तो क्या हो सकता है-

  • पेट खराब
  • गैस की परेशानी
  • लूज मोशन
  • उल्टी- दस्त
  • बीपी, शुगर या थायरॉइड है तो ये बढ़ सकता है।

ये परेशानी सिर्फ शादी में आने वाले गेस्ट के साथ ही नहीं, बल्कि दूल्हा-दुल्हन के साथ भी हो सकती है। इसलिए दूल्हा-दुल्हन को भी शादी वाले दिन अपनी डाइट का जरूर ख्याल रखना चाहिए।

अगर शादी में खाना खाकर तबीयत बिगड़ गई तो क्या खाएं?

  • एक गिलास पानी में थोड़ा नमक और शक्कर डालकर पिएं।
  • चावल और दही खाने से पेट ठंडा रहता है।
  • बटर मिल्क, फ्रूट्स, खिचड़ी भी खा सकते हैं।
  • ये सब खाने का मन नहीं है तो ओट्स, केला या साबूदाना खाएं।

याद रखें- अगर समस्या ज्यादा है तो डॉक्टर से इलाज कराएं।

सोर्स- डाइटिशियन अंजू विश्वकर्मा

चलते-चलते ये भी जान लीजिए ...

अगर शादी में नॉनवेज भी बना है और आपने ज्यादा खा लिया तो…

  • कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ सकता है।
  • शरीर का तापमान बढ़ सकता है।
  • इससे आपको गर्मी ज्यादा लगेगी।
  • पसीने और बदबू की शिकायत होगी।

इसलिए ख्याल रहे कि शादी में अगर नॉनवेज बना है तो लिमिट में ही खाएं। ज्यादा न खाएं।

खाने के बाद मीठा खाते हैं तो याद रखें कि…

  • चाश्नी में डूबे रसगुल्लों और जलेबियों की जगह फ्रूट मिक्स दही खाएं। अगर फिर भी मीठा खाना ही है तो क्वॉन्टिटी का ध्यान रखें। ज्यादा न खाएं।