टॉयलेट में बैठी महिला की फोटो वैक्यूम क्लीनर ने खींची:सोशल मीडिया पर लीक हुई; आपका स्मार्ट टीवी, फोन तो नहीं रखता नजर

9 दिन पहले

वेनेजुएला में टॉयलेट सीट पर बैठी हुई एक महिला की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। लो एंगल से ली गई फोटो किसी इंसान ने नहीं बल्कि टॉयलेट में सफाई कर रहे रोबो वैक्यूम क्लीनर ने ली थी। आजकल घर में हम कितने ही स्मार्ट डिवाइसेस का इस्तेमाल करते हैं जिनमें कैमरा और माइक्रोफोन भी है।

जरूरत की खबर में जानेंगे कि कौन-कौन से डिवाइसेस हैक किए जा सकते हैं, इससे क्या नुकसान है, कैसे पता चलता है कि आपका डिवाइस हैक हो गया है और इससे बचा कैसे जाए?

हमारे एक्सपर्ट हैं…

  • पुश्कल पांडे, डायरेक्टर, तथ्या फोरेंसिक विंग फेडेरेशन, नोएडा
  • वरालिका निगम, पीएचडी स्कॉलर ऑफ लॉ, लखनऊ यूनिवर्सिटी
  • अमित कुमार, डीसीपी क्राइम, भोपाल

सबसे पहले समझते हैं कि अगर आपके स्मार्ट डिवाइस हैक हो जाएं तो क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं।

स्मार्ट डिवाइस के हैक होने से हो सकते हैं ये चार बड़े नुकसान…

  • फाइनेंशियल लॉस: आपके डिवाइस को हैक कर आपके बैंक अकाउंट डिटेल्स तक पहुंचा जा सकता है।
  • सेफ्टी इश्यूज: डिवाइस को हैक करने के बाद आपकी लोकेशन और आपकी पर्सनल जानकारी के जरिए क्रिमिनल्स आप तक पहुंच सकते हैं।
  • डेटा लीक: आपका निजी डेटा लीक हो सकता है।
  • आइडेंटिटी थेफ्ट: कम्प्यूटर, लैपटॉप या स्मार्टफोन पर कई बार हम अपने डॉक्यूमेंट्स रखते हैं। इन तक पहुंचकर हैकर्स असल दुनिया में हमारी जगह ले सकते हैं। वो हमारी आइडेंटिटी का इस्तेमाल करके क्राइम भी कर सकते हैं जिसका इल्जाम हम पर लगेगा।

सवाल: क्या किसी भी डिवाइस में लगे कैमरे का गलत तरीके से इस्तेमाल हो सकता है?
जवाब:
हां, बिल्कुल। आप जितने भी डिवाइस इस्तेमाल करते हैं वो इंटरनेट से कनेक्ट होता है इसलिए उनके कैमरे को गलत तरीके से इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है।

ऐसे पता करें कि आपके डिवाइस का कैमरा हैक हो गया है…

  • जिस भी डिवाइस में कैमरा दिया जाता है, उनमें कैमरे के बराबर में एक इंडिकेटर लाइट होती है। चैक करें कि कहीं वह बिना आपकी मर्जी के तो नहीं जल रही।
  • अगर डिवाइस ऑन करते ही लाइट अपने आप ऑन हो जाती है तो आपके ब्राउसर एक्सटेंशन में प्रॉब्लम हो सकती है। एक-एक करके ब्राउसर एक्सटेंशन डिलीट करके पहचान सकते हैं कि किसमें प्रॉब्लम है।
  • डिवाइस की एप्लिकेशन्स एक-एक कर खोल कर देखें। जिस एप्लिकेशन को ऑन करते ही बिना परमिशन मांगे लाइट जल जाती है, उस एप्लिकेशन के जरिए कैमरा हैक हो सकता है।
  • टास्क मैनेजर पर जाकर देख सकते हैं कि वेबकैम चल रहा है या नहीं।
  • सभी चीजें बंद करके वेबकैम खोल कर देखें। अगर यह पॉप अप आए कि आपका कैमरा पहले ही इस्तेमाल किया जा रहा है तो समझ जाएं कि कैमरा हैक हो चुका है।
  • गैलरी में अगर कोई ऐसे वीडियो और फोटोज हैं जो आपको याद ही नहीं हैं कि आपने कब ली तो समझ जाएं कि गड़बड़ है।
  • मालवेयर स्कैन करके देखें। कई बार मालवेयर सॉफ्टवेयर के जरिए कैमरा हैक किया जाता है।

कैमरा हैकिंग से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स…

  • अपने डिवाइस के कैमरे को किसी टेप वगैरह से ढंक दें। इसके लिए मार्केट में तरह-तरह के स्टिकर भी अवेलबल हैं।
  • ध्यान दें टेप को लगाने से आपके डिवाइस को बंद करने में कोई परेशानी नहीं आनी चाहिए।
  • एक अच्छा और विश्वसनीय एंटी वायरस इस्तेमाल करें।
  • अनजान लिंक पर क्लिक न करें। अनजान सोर्स से ऐप डाउनलोड करने से बचें।
  • सिक्योर वाई-फाई का ही इस्तेमाल करें।

सवाल: कैसे पता चलता है कि टीवी या फोन हैक हो गया है?

जवाब: ऐसे पहचानें कि आपका स्मार्ट टीवी हैक हो गया है…

  • टीवी की स्क्रीन पर पॉप अप और मैसेज दिखने लगें।
  • टीवी का रिमोट पूरी तरह से ठीक होने के बावजूद टीवी को कंट्रोल न कर पाए।
  • टीवी की स्पीड अचानक स्लो हो जाए।
  • टीवी की सेटिंग्स में अपने-आप बदलाव होने लगें।
  • बिना डाउनलोड करे नए ऐप और फाइल टीवी में दिखने लगें।
  • आपके नेटफ्लिक्स, अमेजन वगैरह के अकाउंट से आप लॉगआउट हो जाएं और कोशिश करने पर भी वापस लॉगइन न कर पाएं।

ऐसे पहचानें कि आपका फोन हैक हो गया है…

  • कॉल के दौरान आपको अजीब आवाजें सुनाई दे रही हैं।
  • फोन की बैटरी कैपेसिटी अचानक कम हो गई है।
  • जब आप फोन का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तब भी अचानक उसकी स्क्रीन ऑन हो जाती है या कोई एक्टिविटी दिखने लगती है।
  • स्विच ऑफ होने में पहले से ज्यादा समय लग रहा है।
  • जब आप फोन यूज नहीं कर रहे हैं तो भी फोन गर्म हो रहा है।
  • आपका फोन अचानक ज्यादा डेटा इस्तेमाल करने लगा है।​​​​​​

सवाल: मैं हर समय स्मार्ट वॉच पहनकर रखती हूं। इसके हैक होने से क्या नुकसान है?
जवाब:
आपकी स्मार्टवॉच भी हैक की जा सकती है। कई बार आप घर में इस्तेमाल हो रहे स्मार्ट डिवाइसेस को स्मार्टवॉच से कनेक्ट कर देते हैं। स्मार्टफोन से तो स्मार्टवॉच कनेक्ट रहती ही है। ऐसे में अगर स्मार्टवॉच हैक होती है तो सभी स्मार्ट डिवाइसेस की सिक्योरिटी को खतरा हो सकता है।

सवाल: क्या ये सच है कि हमारी मर्जी के बिना फोन में फोटो खिंच सकती है या हमारी रिकॉर्डिंग की जा सकती है?
जवाब:
हां, बिल्कुल। अगर आपका डिवाइस हैक हो जाए तो आपकी मर्जी के बिना डिवाइस का कैमरा और माइक्रोफोन एक्टिव हो सकता है। इससे वो आपके निजी पल और बातें रिकॉर्ड कर सकता है।

सवाल: साइबर सिक्योरिटी को लेकर देश में क्या कानून हैं?
जवाब:
साइबर सिक्योरिटी के लिए देश में इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट 2000 है। वहीं डेटा प्रोटेक्शन के लिए फिलहाल कोई नियम नहीं हैं। इसके लिए डिजिटल डेटा प्रोटेक्शन बिल प्रपोज किया गया है।

सवाल: साइबर क्राइम होने पर कहां और कैसे करें शिकायत?
जवाब:
साइबर क्राइम के लिए पूरे देश में एक हेल्पलाइन नंबर है 1930 जिस पर शिकायत कर सकते हैं। इसके अलावा हर जिले में साइबर क्राइम की एक डिस्ट्रिक्ट यूनिट भी होती है जहां जाकर शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

सवाल: बच्चों को स्मार्ट डिवाइस देने से पहले किन बातों का ख्याल रखें?
जवाब:
बच्चों को स्मार्ट डिवाइस देने से पहले इन 5 बातों का ख्याल रखना जरूरी है…

  • आजकल सभी डिवाइसेस में चाइल्ड लॉक फीचर है। बच्चों के हाथ में कंट्रोल देने से पहले चाइल्ड लॉक लगा दें।
  • डिवाइसेस का इस्तेमाल करते हुए बच्चे कितना टाइम बिता सकते हैं वो फिक्स करें।
  • बच्चों के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर नजर रखें।
  • बच्चों को इंटरनेट के जरिए पर्सनल जानकारी शेयर करने से मना करें।
  • बच्चों को समझाएं कि पासवर्ड किसी के साथ शेयर न करें।
  • उन्हें बताएं कि पब्लिक वाई-फाई का इस्तेमाल न करें।

सवाल: बच्चों को ऑनलाइन क्लासेस के लिए क्या देना बेहतर होगा- स्मार्टफोन, टैबलेट या लैपटॉप?
जवाब:
ऑनलाइन क्लासेस के लिए आप बच्चों को स्मार्टफोन, टैबलेट या लैपटॉप कुछ भी दे सकते हैं, लेकिन इससे पहले चाइल्ड लॉक फीचर ऑन जरूर कर दें। साथ ही बच्चों को इन डिवाइसेस और उनके नुकसान के बारे में अवेयर कर दें।

चलते-चलते
ये हैं आपके स्मार्टफोन के लिए कुछ जरूरी कोड्स

  • *#06# : इससे आप अपने डिवाइस का आईएमईआई नंबर का पता लगा सकते हैं।
  • *#61# : कई बार स्कैमर्स आपके फोन की कॉल दूसरे नंबर पर फॉरवर्ड कर सकते हैं। इस कोड से उसका पता लगा सकते हैं।
  • #21# : इस कोड से कॉल फॉरवर्डिंग डीएक्टिवेट कर सकते हैं।
  • *#21# : इस कोड से पता कर सकते हैं कि फोन टैप हुआ है या नहीं।
  • *#*#7780#*#* : इस कोड का इस्तेमाल कर फोन को फैक्ट्री रिसेट कर सकते हैं। इससे फोन का सारा डेटा खत्म हो जाएगा।
  • *#*#34971539#*# : इस कोड से अपने फोन के कैमरे से रिलेटेड जानकारी हासिल कर सकते हैं।

जरूरत की खबर के कुछ और आर्टिकल भी पढ़ेंः

1. सोशल मीडिया पर भेजी भद्दी फोटो, बस में अश्लील इशारे:डरें नहीं, कानून की मदद से भिजवा सकती हैं जेल

पिछले ही हफ्ते की बात है कुश्ती में ओलिंपिक मेडल जीतने वाली साक्षी मलिक और बजरंग पूनिया साथी रेसलर्स विनेश फोगाट के साथ जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे थे। खिलाड़ियों का आरोप है कि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कई कोच नेशनल कैंप के दौरान महिला खिलाड़ियों का यौन शोषण करते हैं। (पढ़िए पूरी खबर)

2. सुप्रीम कोर्ट ने गोद लिए बच्चे की पेंशन रोकी:पति या पत्नी के नहीं रहने पर किसे मिलती है पेंशन, जानें नियम

एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकारी कर्मचारी की विधवा अगर पति की मौत के बाद बच्चा गोद लेती है तो वह फैमिली पेंशन का हकदार नहीं होगा। दरअसल, महाराष्ट्र के नागपुर के श्रीधर चिमुरकर साल 1993 में सरकारी नौकरी से रिटायर हुए थे। 1994 में उनकी मौत हो गई। 1996 में उनकी पत्नी माया मोतघरे ने राम श्रीधर चिमुरकर को बेटे के रूप में अपनाया था। कोर्ट ने यह भी कहा कि सरकारी कर्मचारी के जीवनकाल के दौरान कानूनी रूप से गोद लिए गए बच्चे फैमिली पेंशन के हकदार हैं।(पढ़िए पूरी खबर)

3. ऑनलाइन खाना मंगाया तो फूड-पॉइजनिंग का जोखिम:कैंसर, मिसकैरेज और डायबिटीज का खतरा; इग्नोर करने से होगी मौत

केरल में एक 20 साल की लड़की की मौत की वजह बना ऑनलाइन खाना ऑर्डर करना। उसने पास ही के रेस्टोरेंट से ऑनलाइन ऑर्डर कर बिरयानी मंगवाई, जिसे खाकर उसे फूड-पॉइजनिंग हो गई। हफ्तेभर इलाज के बाद लड़की की मौत हो गई। (पढ़िए पूरी खबर)