--Advertisement--

अंबानी के एंटीलिया से भी ऊंचा होगा ये मंदिर, कुतुब मीनार जितनी गहरी है नींव

वृंदावन में बन रहे चंद्रोदय मंदिर में सेलिब्रेट की गई होली और गौरा पूर्णिमा।

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 06:20 PM IST

वृंदावन. यहां बन रहे वर्ल्ड के सबसे ऊंचे मंदिर चंद्रोदय पर होली और श्रीगौरा पूर्णिमा के मौके पर भव्य आयोजन हुआ। इस दिन को चैतन्य महाप्रभु के अपीयरेंस डे के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। इस मौके पर DainikBhaskar.com अपने आप में अनोखे चंद्रोदय मंदिर से जुड़ी खास बातें अपने रीडर्स को बता रहा है।

70 मंजिला होगा यह मंदिर

- यह मंदिर सहिष्‍णुता, धार्मिक सद्भाव, आधुनिकता, कला, इतिहास और संस्‍कृति को समेटे है। चंद्रोदय मंदिर मुकेश अंबानी के एंटीलिया से भी ऊंचा और सुविधाओं वाला बन रहा है।
- हालांकि यह मंदिर अभी अंडर-कंस्ट्रक्शन है, लेकिन होली पर हर साल यहां सत्‍संग होता है। चंद्रोदय मंदिर के प्रोजेक्‍ट डायरेक्‍टर सुबयक्‍ता नरसिंम्‍हा दास ने मंदिर से जुड़े रोचक फैक्‍ट्स शेयर किए।
- मंदिर की ऊंचाई 210 मीटर (70 मंजिल) होगी। जबकि मुकेश अंबानी का एंटीलिया 27 मंजिल का है।
- चंद्रोदय मंदिर परिसर में 50 एकड़ जमीन पर कई हेलीपैड बनेंगे। (मुकेश अंबानी की बिल्डिंग एटीलिया में तीन हेलीपैड हैं)
- पूरे मंदिर परिसर की क्षमता व्‍यस्‍त समय में पांच लाख लोगों की होगी।
- पूरी बिल्डिंग में 511 पिलर होंगे। इन पर पूरी बिल्डिंग का वजन 5 लाख टन होगा। जबकि ये पिलर नौ लाख टन वजन सह सकता है।
- टॉप फ्लोर पर व्‍यूइंग गैलरी होगी, यहां पर टेलिस्‍कोप लगा होगा, इससे जन्‍मस्‍थान, गोवर्धन पर्वत आदि ब्रज के धार्मिक स्‍थल देख सकेंगे।
- पिरामिड का विकसिक रूप होगा चंद्रोदय मंदिर।
- निर्माण कार्य में सभी धर्म के लोगों की बराबर भागिदारी है। इसके लीड आर्किटेक्‍ट सिख धर्म से जुड़े जेजे सिंह हैं। जबकि अमेरिकन कंपनी के स्‍ट्रक्‍चलर आर्किटेक्‍ट मुस्लिम हैं। लिफ्ट डिजाइन करने वाले ईसाई हैं।
- 200 साल में पहली बार मंदिर का आर्किटेक बदला हुआ दिखेगा। इतनी अवधि में अभी तक मंदिर आधुनिक तरीके से नहीं बनाया गया है।

आगे जानें इस वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाले मंदिर के प्रॉजेक्ट डीटेल्स...