Home | Uttar Pradesh | Agra | Myth and facts about nidhivan of mathura

इस जंगल में आधी रात आते हैं श्रीकृष्ण, जिसने देखी लीला-हुआ अंधा-पागल

होली के त्योहार पर वृंदावन मथुरा कृष्णमयी हो जाता है। यहां का निधिवन श्रीकृष्णा की रासलीला के लिए मशहूर है।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Feb 28, 2018, 07:03 PM IST

1 of
Myth and facts about nidhivan of mathura

वृंदावन. होली के त्योहार पर वृंदावन मथुरा कृष्णमयी हो जाता है। यहां का निधिवन श्रीकृष्णा की रासलीला के लिए मशहूर है। कहा जाता है कि शाम 7 बजे के बाद यहां कोई नहीं रुकता, क्‍योंकि भगवान कृष्ण-राधा संग रास खेलने आते हैं। उन्हें रास करता देखने वाला अंधा हो जाता है। DainikBhaskar.com ने निधिवन के आसपास रहनेवाले लोगों से बात की और इस मान्यता के पीछे छुपे सच को जानने की कोशिश की।

 

Myth – निधिवन में कृष्‍ण रास रचाने आते हैं। यहां रुककर देखने वाले अंधे हो जाते हैं या मानसिक संतुलन खराब हो जाता है। इस जगह पर न बंदर और न चिडि़यां रहती है।

 

Fact – बांके बिहारी मंदिर के रिटायर्ड भंडारी हीरालाल ने बताया कि दस साल पहले एक व्‍यक्ति अंदर रह गया। सुबह उसे देखा गया और पकड़ लिया गया। उसे कुछ नहीं हुआ था।

Myth and facts about nidhivan of mathura
Myth and facts about nidhivan of mathura
Myth and facts about nidhivan of mathura
Myth and facts about nidhivan of mathura
Myth and facts about nidhivan of mathura
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now