Hindi News »Uttar Pradesh »Agra» Son Murdered Mother Cases From Uttar Pradesh

8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा

गुजरात में प्रो. बेटे द्वारा मां की हत्या का खुलासा हुआ, DainikBhaskar.com आपको यूपी से जुड़े मामले बता रहा है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 06, 2018, 12:34 PM IST

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    आगरा. गुजरात के राजकोट में एक प्रोफेसर ने पिछले साल सि‍तंबर में अपनी मां की छत से फेंककर हत्या कर दी। मामले का खुलासा बीते गुरुवार को हुआ, जब एक गुमनाम चिट्‌ठी पर जब सोसाइटी के सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए। सख्ती से पूछताछ करने पर बेटे ने सच कबूल लिया। बता दें, ये पहला मामला नहीं जब बेटे ने ही मां की हत्या कर दी हो। इससे पहले भी इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं, जहां जन्म देने वाली मां को ही मौत के घाट उतार दिया गया। DainikBhaskar.com आपको यूपी के ऐसे ही 10 केस बता रहा है।

    केस- 1

    - वाराणसी के सारनाथ में राजेंद्र ने चाकू से मां की गर्दन पर दर्जनों वार कर उसे मौत की नींद सुला दिया।

    - पुलिस ने बताया था, राजेंद्र 4 महीने से बेरोजगार था, उसी पत्नी भी भी अपने 3 बच्चों को लेकर एक महीने से मायके में रह रही थी। वह मां से पैसे मांग रहा था, जब उसने इनकार किया तो राजेंद्र ने गुस्से में उसकी हत्या कर दी।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस- 2


    - आगरा के लोहामंडी थानाक्षेत्र में वृद्ध रामवती अपने बेटे दिनेश और बहू बबीता के साथ रहती थी।
    - सास और बहू के बीच आए दिन झगड़ा होता रहता था, जिसमें बेटा भी बहू का साथ देता था।
    - बबीता काफी समय से सास से प्रॉपर्टी और पैसा देने का दबाव बना रही थी।
    - बबीता और उसके पति को डर था कि कहीं उसकी मां पूरी संपत्ति और मकान दामाद को न दे दे।
    - रात करीब 3 बजे बबीता ने दिनेश के साथ मिलकर सास की गला दबाकर हत्या कर दी।
    - इसके बाद दिनेश चीखकर घर से बाहर आया और कहने लगा, मां मर गई, आंगन में पड़ी है।
    - पुलिस ने शक के आधार पर बबीता और दिनेश को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। पहले तो दोनों ने पुलिस को घुमाने की कोशि‍श की, लेकिन जब सख्ती हुई तो दोनों ने सच उगल दिया।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस- 3


    - घटना गोरखपुर के अशरफपुर थाना क्षेत्र की थी। बेटे राम जी ने बताया कि मां के अकाउंट में एक लाख रुपए जमा थे, वह उसे बेटियों को दे रही थी। वो बेटियों से जब भी फोन पर बात करती, यही कहती कि जमीन-जायदाद में से मुझे फूटी कौड़ी नहीं देगी। इसी लिए उसकी हत्या कर दी।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस- 4

    - आरोपी युवक अमित कैंट के बेली इलाके में परिवार के साथ रहता था। अमि‍त के दादा पुलिस विभाग में दारोगा के पद पर तैनात थे।
    - इकलौते बेटे ने मां से शराब के लिए 100 रुपए मांगे। जब मां ने देने से इनकार किया, तो पहले उसने लोहे की रॉड से उनपर वार किया।
    - इसके बाद तकिए से तब तक मुंह दबाए रखा, जब तक उनकी सांस बंद नहीं हो गई। घटना के समय घर में मां और उसकी सात साल की बहन ही थी।
    - मृत मां और बहन को कमरे में बंद कर ज्वेलरी और रुपए लेकर वहां से फरार हो गया।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस- 5


    - लखनऊ के पीजीआई इलाके में नशे में धूत युवक ने रात में मां की गर्दन दबाकर हत्या कर दी।
    - सुबह होश में आने पर जमीन पर पड़ी मां की लाश देखकर उसके हाथ-पांव फूल गए। डर की वजह से लाश को कमरे में बंद कर युवक दिल्ली भाग गया।
    - 4 दिन बाद बेटी, दामाद घर पहुंचे तो बदबू आने पर हत्या का खुलासा हुआ।
    - दामाद की तहरीर पर पुलिस ने बेटे के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस-6


    - लखनऊ की पॉश कालोनी इंदिरा नगर में रवि अपनी मां तारावती (58), बहन अनामिका (28) के साथ रहता था।
    - रवि अपने इस मकान को बेचना चाहता था। इसकी वजह से वो आए दिन अपनी मां से झगड़ा करता था।
    - 5 मई 2016 को रवि का मां से मकान बेचने को लेकर विवाद हुआ। विवाद इतना बढ़ गया कि उसने गमछे से गला घोंटकर अपनी मां को मारने की कोशि‍श की। जब वो नहीं मरी तो रवि ने चाकू से उसका गला काट दिया।
    - इसके बाद जब उसकी बहन अनामिका घर पहुंची तो मां की लाश देखकर चिल्लाने लगी। रवि ने उसे शांत रहने के लिए कहा, लेकिन जब अनामिका शांत नहीं हुई तो रवि ने उसपर भी चाकू से हमला कर दिया और उसे मार डाला।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस- 7


    - ग्रेटर नोएडा में नाबालिग बेटा मां-बहन की हत्या के बाद फरार हो गया। 3 दिन बाद बनारस से पकड़ा गया।
    - एसएसपी लव कुमार ने बताया था, ''सोफे पर बैठकर पढ़ने को लेकर मां अंजली ने बेटे (15) को मना किया और डाइनिंग टेबि‍ल पर बैठकर पढ़ने को कहा। इसी बात को लेकर मां-बेटे में झड़प हो गई।''
    - ''मां ने इसी को लेकर बेटे की पिटाई कर दी। फिर बेटे ने जिद पकड़ ली कि उसे सोफे पर ही पढ़ना है। इसके बाद मां ने दोबारा उसकी पिटाई कर दी।''
    - ''बेटे के दिमाग में विद्रोह का ये जहर घुलता रहा। 4 दिसंबर की रात करीब 10 बजे उसने पहले बैट से मां-बहन को जी भरकर पीटा। इसके बाद घरेलू कैंची से उनका गला रेत दिया।''
    - ''रात करीब 11:15 पर वो घर से बैग और मां का मोबाइल फोन लेकर चला गया।''
    - बता दें, ये बात भी सामने आई थी कि मोबाइल गेम से इंस्पायर होकर उसने मां और बहन को मौत के घाट उतार दिया।

  • 8 केस: गला काटने से मुंह दबाकर मारने तक, जब बेटा ही बना मां का हत्यारा
    +7और स्लाइड देखें

    केस- 8

    - कानपुर के बिल्हौर थानाक्षेत्र में कुमारी देवी(60) अपने बड़े बेटे गोंविंद (38) और छोटे बेटे गोपाल (37) के साथ में रहती थी।
    - कुमारी कुछ महीने पहले अपनी जमीन बेची, जिसमें 8 लाख रुपए मिले। गोविंद को 3.50 लाख दिए, जबकि गोपाल को 2.50 दे दिए।
    - गोपाल ने उन्हीं रुपयों से परचून की दूकान खोली, लेकिन बड़े बेटे गोविंद ने जुएं और शराब में रुपए उड़ा दिए।
    - इसके बाद मां से फिर रुपए मांगने लगा, लेकिन उसने मना कर दिया तो उसने धारदार हथियार से हमला कर दिया, मां की मौके पर ही मौत हो गई।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Agra News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Son Murdered Mother Cases From Uttar Pradesh
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Agra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×