--Advertisement--

सामने आया कासगंज हिंसा का वीडियो; बंदूक लिए दिखे युवा, कई राउंड हुई फायरिंग

कासगंज हिंसा का वीडियो सामने आया है। वीडियो में युवक फायरिंग करते हुए दिख रहे हैं।

Danik Bhaskar | Jan 31, 2018, 10:04 AM IST
घटना के बाद से फरार चल रहा था सलीम। घटना के बाद से फरार चल रहा था सलीम।

कासगंज. यूपी के कासगंज जिले में चंदन गुप्ता हत्याकांड के मुख्य आरोपी सलीम वर्की को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुल‍िस सूत्रों के अुनसार, सलीम की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल तमंचा बरामद कर ल‍िया है। बताया जाता है क‍ि तमंचा कासगंज के बाकनेर के पास झाड़ियों से बरामद क‍िया गया। वहीं, हिंसा से जुड़े 2 वीडियो सामने आए हैं। एक में तिरंगा यात्रा के दौरान फायरिंग करते कुछ लोग दिखाई दे रहे हैं। मुस्लिम बहुल इलाके में कुछ युवाओं का एक समूह दिखाई दे रहा है और गोलियां चलने की आवाजें भी आ रही हैं। 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा निकालते हुए मृतक चंदन गुप्ता का वीडियो भी सामने आया है। चंदन बाइक चलाते हुए दिखाई दे रहा है। इसे चंदन का आखिरी वीडियो माना जा रहा है। पुलिस वीडियो की जांच कर रही है। DainikBhaskar.com इन वीडियो की पुष्टि नहीं करता।

सबको माफ किया: अकरम

- कासगंज हिंसा में जख्मी अकरम ने कहा कि उसने सबको माफ कर दिया है।

- मीडिया से बात करते हुए अकरम ने कहा कि वो 26 जनवरी को अपनी वाइफ से मिलने के लिए कासगंज होते हुए अलीगढ़ जा रहा था। कासगंज पहुंचते ही 100-150 लोगों ने उसे घेरकर हमला बोल दिया। हालांकि भीड़ में से ही कुछ लोगों ने अकरम को बचाया और उसे जाने दिया।

- हिंसा के दौरान अकरम की आंख में गंभीर चोट आई थी। बुधवार को विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल आगरा और फिरोजाबाद में तिरंगा यात्रा निकालेंगे।

-वहीं, एसपी पीयूष श्रीवास्तव ने बताया, वर्तमान में कासगंज में 4 कंपनी आरएएफ, 7 कंपनी पीएसी, 8 अपर पुलिस अधीक्षक, 14 सीओ, 25 थानाध्यक्ष, 100 सब इंस्पेक्टर, 500 कॉन्स्टेबल अभी भी तैनात हैं। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।


कांग्रेस नेताओं को कासगंज जाने की परमिशन नहीं

- प्रशासन ने कानून-व्यवस्था का हवाला देते हुए कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल को कासगंज जाने से रोक दिया है। कासगंज हिंसा के बाद राज बब्बर की अगुआई में एक प्रतिनिधिमंडल बुधवार को चंदन के परिजन से मिलने और स्थिति का जायजा लेने के लिए जा रहा था।

- मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहली बार चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि माहौल खराब करने वालों के साथ सख्ती से निपटा जाएगा। उधर, हिंसा के मामले में पुलिस ने 6 एफआईआर दर्ज कीं। कुल 123 की गिरफ्तारी हो चुकी है। इस बीच, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हिंसा को लेकर योगी सरकार से डिटेल रिपोर्ट मांगी है।


क्या है मामला?

- 26 जनवरी को कासगंज जिले के कोतवाली इलाके में बिलराम गेट चौराहे पर तिरंगा यात्रा के तहत विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी के कार्यकर्ता बाइक से रैली निकाल रहे थे।

- इस दौरान नारेबाजी को लेकर समुदाय विशेष के लोगों से बहस हो गई। तकरार में दोनों तरफ से फायरिंग, पत्थरबाजी हुई, जिसमें तिरंगा यात्रा में शामिल चंदन गुप्ता नाम के शख्स की गोली लगने से मौत हो गई। दूसरे पक्ष के एक शख्स को भी गोली लगी थी।
- इसके बाद यहां तोड़फोड और आगजनी की घटनाएं सामने आ रही हैं। रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंसा में मारे गए युवक के परिवार वालों को 20 लाख रुपए मुआवजा देने का एलान किया था।

वीडियो में फायरिंग करते हुआ दिखाई दे रहे हैं। वीडियो में फायरिंग करते हुआ दिखाई दे रहे हैं।
26 जनवरी को कासगंज में तिरंगा यात्रा के दौरान हिंसा हो गई थी। 26 जनवरी को कासगंज में तिरंगा यात्रा के दौरान हिंसा हो गई थी।
लाल घेरे में तिरंगा यात्रा निकालते हुए मृतक चंदन। लाल घेरे में तिरंगा यात्रा निकालते हुए मृतक चंदन।