--Advertisement--

कासगंज: चंदन हत्याकांड के 2 नामजद आरोपी सगे भाई अरेस्ट, पुलिस कर रही पूछताछ

कासगंज में 26 जनवरी को हुई थी चंदन की हत्या।

Danik Bhaskar | Feb 07, 2018, 09:02 PM IST
कासगंज में 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान बवाल हुआ था। कासगंज में 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान बवाल हुआ था।

कासगंज (यूपी). यहां बुधवार को पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी मिली है। चंदन हत्याकांड के 2 नामजद आरोपी सगे भाई नसीम और वसीम को कासगंज पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है। तीसरा आरोपी शकील पहले ही गिरफ्तार हो चुका है। दोनों के पास से एक-एक तमंचा और कारतूस मिले है। ये गिरफ्तारी सदर कोतवाली क्षेत्र के हजारा नहर के पास हुई है। इस हिंसा में दर्ज हुए अबतक कुल 18 मामलों में 55 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई। ये जानकारी कासगंज के एसपी पीयूष श्रीवास्तव ने दी है।

क्या है पूरा मामला ?

- 26 जनवरी को कासगंज जिले के कोतवाली इलाके में बिलराम गेट चौराहे पर तिरंगा यात्रा के तहत विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी के कार्यकर्ता बाइक से रैली निकाल रहे थे।
- इस दौरान नारेबाजी को लेकर समुदाय विशेष के लोगों से बहस हो गई। तकरार में दोनों तरफ से फायरिंग, पत्थरबाजी हुई, जिसमें तिरंगा यात्रा में शामिल चंदन गुप्ता नाम के शख्स की गोली लगने से मौत हो गई। दूसरे पक्ष के एक शख्स को भी गोली लगी थी।
- इसके बाद यहां तोड़फोड और आगजनी की घटनाएं सामने आ रही हैं। 28 जनवरी, 2018 को सीएम योगी आदित्यनाथ ने हिंसा में मारे गए युवक के परिवार वालों को 20 लाख रुपए मुआवजा देने का एलान किया था।

मृतक के पिता को मिल रही धमकियां
- मृतक चंदन के पिता सुशील ने बताया, ''1 जनवरी, 2018 की सुबह मैं घर के बाहर बैठा था। कुछ लोग बाइक पर आए और धमकी देने लगे। उन्होंने कहा- आरोपी जेल जा रहे हैं, लेकिन दूसरे लोग अभी भी यहां हैं। हमसे दुश्मनी मत लो, वरना देख लेंगे।''
- इसके चलते मृतक के पिता ने प्रदेश सरकार से सुरक्षा की भी मांग की। साथ ही सीएम से परिवार की सुरक्षा के लिए लाइसेंसी हथियार की भी मांगा। इसपर पुलिस ने उनके घर की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई।

नसीम के ऊपर नामजद मुकदमा लिखा गया था। नसीम के ऊपर नामजद मुकदमा लिखा गया था।
वसीम और नसीम दोनों सगे भाई है। वसीम और नसीम दोनों सगे भाई है।