--Advertisement--

मैं जिंदा हूं-मुझे मार दिया गया, रोते हुए महिला ने बताई बेटि‍यों की करतूत

ताजनगरी के फतेहाबाद में 70 साल की एक महिला को सरकारी दस्तावेजों में मृत घोषित करने का मामला सामने आया है।

Danik Bhaskar | Dec 15, 2017, 07:59 PM IST
सरकारी पेपर्स में महिला को मृत सरकारी पेपर्स में महिला को मृत

आगरा. ताजनगरी के फतेहाबाद में 70 साल की एक महिला को सरकारी पेपर्स में मृत घोषित करने का मामला सामने आया है। सरकारी ऑफि‍सों के चक्कर काटते-काटते थक चुकी महिला ने खुद को जिंदा साबित करने के लिए सीएम योगी से इंसाफ की गुहार लगाई है। महिला हाथ में तख्ती पर 'योगी जी मैं जिंदा हूं' लिखकर विकास भवन (सीडीओ ऑफिस) के गेट पर खड़ी हो गई। मामले में जिला परियोजना अधिकारी डॉ. अवधेश कुमार बाजपेयी का कहना है कि इस पूरे मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ निश्चित तौर पर विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

महिला ने रोते हुए बयां की सौतेली बेटि‍यों की करतूत


- आगरा के चीफ डेवलपमेंट ऑफि‍सर के ऑफि‍स पर खुद के जिंदा होने का सबूत देने पहुंची बुजुर्ग महिला का नाम 'रामबेटी' है।
- पति का नाम ख्याली राम है। रामबेटी फतेहाबाद के नीबरी गांव की रहने वाली हैं।

- उन्होंने कहा, ''मेरे पति ने दो शादियां की थी। दूसरी पत्नी का नाम बिट्टा देवी है। 8 सितंबर 2016 को बिट्टा देवी की मौत हो गई थी। पति की 6 बीघा जमीन को हड़पने के लिए सौतेली बेटियों ने साजिश रची और स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर मुझे कागजों में मृत घोषित करवा दिया। जबकि, बिट्टा देवी अब तक कागजों में जिंदा है।''
- मुझे मृत घोषि‍त कर उन्होंने मेरी फर्जी वसीयत बनवाई और उसी को लगाकर 11 लाख की जमीन पर कब्जा कर लिया है। इस काम में पति भी उनका ही साथ दे रहा है।
- बेटे धर्मवीर ने कहा, ''मां एक साल से खुद को जिंदा साबित करने के लिए अधिकारियों के चक्कर लगा रही हैं, लेकिन अब तक उन्हें कोई राहत नहीं मिली।''