Hindi News »Uttar Pradesh »Agra» Baba Jai Gurudev New Temple Will Be Build In Mathura

इस बाबा से माफी मांगने पहुंची थीं इंदिरा गांधी, कई बड़े नेता झुकाते थे सिर

अब जय गुरुदेव बाबा का नया मंदिर बनने जा रहा है। ये मंदिर 250 फुट से ज्यादा ऊंचा होगा।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 29, 2015, 02:09 PM IST

  • आगरा. बाबा जय गुरुदेव ऐसे धार्मिक और सामाजिक संत थे, जिनके सामने पू्र्व प्रधानमंत्री समेत कई दिग्गज नेता सिर झुकाते थे। इनमें अटल बिहारी वाजपेयी, चंद्रशेखर और बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी के साथ सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव भी शामिल रहे हैं। आपातकाल का विरोध करने पर बाबा को जेल भिजवाने वाली इंदिरा गांधी ने भी बाद में उनसे माफी मांगी ली थी। अब जय गुरुदेव बाबा का नया मंदिर बनने जा रहा है। इसकी खासियत है कि ये मंदिर 250 फुट से भी ज्यादा ऊंचा होगा।
    बाबा जय गुरुदेव के उत्तराधिकारी पंकज ने बताया कि पुराना मंदिर भी काफी विशाल है। नया मंदिर भी इसी की तरह विशालकाय और संगमरमर का होगा। इसका निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है। हालांकि, इस मंदिर के निर्माण में अभी पांच साल का वक्त लगेगा।
    बाबा ने आपातकाल का किया था विरोध
    पंकज ने बताया कि जब बाबा जीवित थे, उस वक्त तमाम नेता उन्हें आकर नमन करते थे और उनसे सलाह लेते थे। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के आपातकाल का उन्होंने विरोध किया था और कहा था कि दिल्ली की गद्दी सड़ गई है। इसके बाद सरकार ने 29 जून 1975 को उन्हें जेल में डाल दिया। इस वजह से बाबा के समर्थकों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। हंगामे को देखते हुए बाबा को आगरा से बेंगलूरु और फिर दिल्ली के तिहाड़ जेल में भेजा गया था।
    इंदिरा गांधी ने मांगी थी माफी
    तिहाड़ जेल से 23 मार्च 1977 को बाबा जय गुरुदेव को रिहा किया गया। इसके तुरंत बाद वे मथुरा आश्रम आ गए। इस दिन को उनके भक्‍त मुक्ति दिवस के रूप में मनाते हैं। मथुरा पहुंचने के कुछ दिन बाद ही तत्‍कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी उनके आश्रम पहुंची। उन्‍होंने बाबा से जेल के संदर्भ में माफी मांगी और राजनीतिक समर्थन मांगा था।
    बाबा के बचपन का नाम था तुलसीदास
    मथुरा आश्रम के बुजुर्ग उम्‍मेद यादव कहते हैं कि जय गुरुदेव का बचपन का नाम तुलसीदास था। बाबा की जन्मतिथि की कोई पक्की जानकारी नहीं है, लेकिन उनका जन्म उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के भरथना स्थित गांव खितौरा में हुआ था। गुरु के महत्व को सर्वोपरि रखने वाले बाबा जय गुरुदेव भी इसी नाम से प्रसिद्ध हो गए। उनके प्रचार का खास माध्यम दीवारों पर लिखा हुआ उनका नारा होता था 'जयगुरु देव, सतयुग आएगा'।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, चुनाव से पहले आशीर्वाद लेते थे नेता...
  • चुनाव से पहले आशीर्वाद लेते थे नेता
    पंकज बताते हैं कि चुनाव से पहले कई बड़े नेता बाबा से आशीर्वाद लेने आते थे। साथ ही उनसे कई मामलों में सुझाव भी लेते थे। इस संत का निधन 18 मई 2012 की रात मथुरा में हुआ। हालांकि, आज भी उनके लाखों भक्‍त हैं।
    बाबा से सलाह लेते थे कई राजनेता
    मथुरा के वरिष्ठ पत्रकार राधेलाल त्रिपाठी ने बताया कि जय गुरुदेव के आश्रम में नेताओं का आना-जाना लगा रहता था। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी और चंद्रशेखर बाबा से मिलने के लिए आश्रम में आते थे। वहीं, समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव, कांग्रेस नेता नारायण दत्‍त तिवारी, पूर्व राज्यपाल रोमेश भंडारी, होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह और अन्‍य राजनेता भी उनसे सलाह-मशविरा लेते थे।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, वैचारिक क्रांति से सुधारना चाहते थे समाज...
  • वैचारिक क्रांति से सुधारना चाहते थे समाज

    बाबा का मकसद था कि समाज की बिगड़ी हुई व्यवस्था को वैचारिक क्रांति के जरिए सुधारे। किसान, मजदूर और काश्तकार संगठन की स्थापना में भी उनका योगदान माना जाता है। बताया जाता है कि जेल में रहने के दौरान ही बाबा जय गुरुदेव ने खुद की पार्टी बनाने का विचार किया। अपनी आध्‍यात्मिक यात्रा के दौरान जय गुरुदेव ने साल 1980 और 90 के बीच 'दूरदर्शी पार्टी' बनाई। उन्होंने संसद का चुनाव लड़ा। उस वक्त वे टाट (एक तरह का वस्त्र) पहने उनके भक्त और समर्थक प्रचार-प्रसार करते थे। बाबा का मानना था कि जो लोग उनके कहने पर टाट पहन सकते हैं तो वे चुनाव भी जिता सकते हैं। हालांकि, बाबा को राजनीति के मैदान में करारी शिकस्त मिली।
    आगे की स्लाइड्स में देखें, आश्रम में मिलने आने वाले नेताओं की फोटोज...
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Agra News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Baba Jai Gurudev New Temple Will Be Build In Mathura
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Agra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×