Hindi News »Uttar Pradesh »Agra» Nur Jahan And Jahangir Love Story

शाहजहां से कम नहीं है, जहांगीर का सारी हदें पार कर देने वाला ये इश्‍क!

मुमताज से बेइंतहां प्‍यार के लिए पहचाने जाने वाले शाहजहां के पिता भी किसी के प्रेम में पागल थे।

Sanmay Prakash | Last Modified - Dec 10, 2013, 09:21 AM IST

  • आगरा.मुमताज से बेइंतहा प्‍यार के लिए पहचाने जाने वाले शाहजहां के पिता भी किसी के प्रेम में पागल थे। उन्‍होंने नूरजहां के लिए हर तरह की हदें पार कर दी थी। उसे सोते-जागते सिर्फ नूरजहां ही दिखती थी, पहली नजर में ही वह बेकरार हो गया था। जहांगीर ने नूरजहां के पहले पति शेख अफगान को मरवा दिया और उससे विवाह कर लिया।
    इतिहास के विशेषज्ञ रमेश राठौर बताते हैं कि अकबर के बेटे शहजादा सलीम (जहांगीर) और अनारकली के प्रेम के बारे में कहा जाता है, लेकिन इसके बारे में कोई तथ्‍य नहीं मिले हैं। यह केवल फिल्‍मी कहानी ही रह गई। हालांकि नूरजहां के प्रति सलीम (जहांगीर) पागल हो गया था। यह प्‍यार वैसा ही था जैसा शाहजहां अपनी बेगम मुमताज से करता था।
    नूरजहां का पहला नाम मेहरुन्निसा था। कहा जाता है कि जहांगीर ने उसे एक बाग में पहली बार देखा था। उस समय उसने दो कबूतर उसे पकड़ने को दिए। इनमें से एक कबूतर उड़ गया। जहांगीर ने पूछा कि यह कैसे हुआ। तो मासूमियत भरे अंदाज में नूरजहां ने दूसरा कबूतर उड़ाते हुए कहा…ऐसे। इस अदा पर जहांगीर दिल दे बैठा।
    आगे स्लाइड में पूरी प्रेम कहानी...
  • इसके बाद जहांगीर ने नूरजहां से विवाह करने का प्‍लान बनाया, लेकिन सफल नहीं हो सका। बाद में नूरजहां की शादी शेर अफगान से हो गई। इसके बाद वे दोनों बंगाल में रहने लगे।

  • बादशाह अकबर की मौत के बाद जहांगीर आगरा की गद्दी पर बैठा। तब सत्‍ता उसके हाथ में थी। उसने पहले प्‍यार को पाने के लिए नूरजहां को प्रस्‍ताव भेजा कि वह शेर अफगान को तलाक दे। लेकिन वह नहीं मानी।

  • तब जहांगीर ने साजिश रची। उसने बंगाल के गर्वनर कुतुबुद्दीन से कहकर धोखे से शेर अफगान की हत्‍या करवा दी। तब नूरजहां विधवा हो गई, जहांगीर को इसी दिन का इंतजार था। उसने उसे अपने शाही हरम में बुला लिया। इसके बाद भी नूरजहां शादी के लिए तैयार नहीं हुई। प्‍यार में पागल जहांगीर का मन राजकाज से हटने लगा। इसके बाद आखिरकार नूरजहां मान गई।

  • वर्ष 1611 जहांगीर और नूरजहां की शादी हुई। तब जहांगीर ने उसे यह नाम दिया। उससे पहले नूरजहां को मेहरून्निसा के नाम से जाना जाता था। इसके बाद हुकूमत की बागडोर में नूरजहां का भी दखल रहने लगा था।
    नूरजहां की मौत के बाद जहांगीर ने उन्हें लाहौर में दफनाया। यही नूरजहां की इच्‍छा थी।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Agra News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Nur Jahan And Jahangir Love Story
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Agra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×