--Advertisement--

शहीद का अंतिम संस्कार; पाकिस्तान की गोलीबारी में शहीद हुए थे रजनीश, जुलाई में थी बहन की शादी

शहीद का पार्थिव शरीर पैतृक गांव पहुंचते ही कोहराम मच गया।

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 05:47 PM IST
मंगलवार को शहीद हुए थे रजनीश। मंगलवार को शहीद हुए थे रजनीश।

एटा. भारत-पाक सीमा पर शहीद हुए रजनीश का अंतिम संस्कार थाना जैथरा क्षेत्र के सदियापुर गांव किया गया। शहीद के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम लगा था। बता दें कि मंगलवार को जम्मू के सांबा सैक्टर के चमलियाल में पाकिस्तान की नापाक गोलीबारी में देश के चार जाबांज शहीद हो गए थे। जिसमें एटा जिले के रजनीश यादव भी शामिल थे।

-शहीद रजनीश यादव का पार्थिव शरीर गुरुवार सुबह उनके पैतृक गांव जैथरा थाना क्षेत्र के सदियापुर पहुंचा। शहीद का शव पहुंचते ही परिवार औऱ गांव में कोहराम मच गया। वहीं, परिजनों ने पाकिस्तान के खिलाफ सरकार के नरम रुख को लेकर गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि एक बार सेना को एक सप्ताह के लिए अपने तरीके से काम करने दिया जाए।

2012 में हुए थे भर्ती
- शहीद रजनीश का जन्म 1986 में एटा जिले के जैथरा थाना क्षेत्र के सदियापुर गांव में हुआ था और 2012 में वो बीएसएफ में भर्ती हुए थे। शहीद रजनीश के भतीजे ने अखिलेश ने कहा कि पाकिस्तान की ये नापाक हरकत है। वो हमेशा छुपकर वार करता है, ये उसकी गीदड़ वाली चाल है।
- हमारे चाचा पेट्रोलिंग पर जा रहे थे तभी उनपर छुपकर वार किया गया। इससे हमारे देश के जवानों का मोरल डाउन होता है और हमारी सरकार कोई एक्शन नहीं लेती है।
- भारत सरकार सिर्फ अपनी गद्दी को देख रही है और सरकार चला रही है।


2013 में हुई थी शादी
-शहीद रजनीश की शादी 2013 में हुई थी। 4 साल का एक बेटा भी है जिसका नाम दर्श हैं। इनकी दो बहनें सपना और हेमलता हैं जबकि एक छोटा भाई है।
- अगले महीने जुलाई में बहन की शादी होने वाली थी जिसमें रजनीश को आना था।
- रजनीश के पिता राजवीर सिंह पेशे से किसान हैं।

शहीद को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। शहीद को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।