Hindi News »Uttar Pradesh »Agra» Hindu Organisation Create Nuisance At Tajmahal Entry Gate In Agra

ताज के एंट्री गेट पर हिंदूवादी संगठनों का उपद्रव, पर्यटक डर कर भागे; 500 साल पुराने मंदिर का रास्ता बंद करने से हैं नाराज

नेता रवि दुबे ने कहा किसी भी तरह से हम मंदिर मार्ग को बंद नहीं होने देंगे।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jun 10, 2018, 06:07 PM IST

  • ताज के एंट्री गेट पर हिंदूवादी संगठनों का उपद्रव, पर्यटक डर कर भागे; 500 साल पुराने मंदिर का रास्ता बंद करने से हैं नाराज
    +1और स्लाइड देखें
    ताज के एंट्री गेट पर पर्यटकों में उस समय भगदड़ मच गयी जब अचानक हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं ने आकर एंट्री गेट (ताज के पश्चिमी गेट) पर तोड़फोड़ शुरू कर दी।

    आगरा. ताज के एंट्री गेट पर पर्यटकों में उस समय भगदड़ मच गयी जब अचानक हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं ने आकर एंट्री गेट (ताज के पश्चिमी गेट) पर तोड़फोड़ शुरू कर दी। हिंदूवादी संगठन की नाराजगी कि वजह थी कि एएसआई ने बिना सूचना दिए 500 साल पुराने मंदिर का रास्ता बंद कर दिया। सूचना पर मौके पर पहुंचे पुलिस प्रशासन के आला अधिकारियों ने किसी तरह मामले को शांत कराया।

    क्या है मामला ?

    -ताज में एंट्री के लिए पश्चिमी गेट पर ही टिकट काउंटर हैं। यही बगल से एक रास्ता बसई घाट की ओर जाता है। जहां लगभग 500 साल पुराना सिद्धेश्वर महादेव मंदिर है। चूंकि ताज में आने वाले पर्यटकों की संख्या ज्यादा होने के कारण वहां बैरिकेटिंग कर दी गयी है। ऐसे में रविवार को दोपहर में हिंदूवादी संगठन के कुछ लोगों ने इसका विरोध करते हुए ताज के पश्चिमी गेट पर उपद्रव किया। बैरिकेटिंग वगैराह हटा दी गयी और तोड़फोड़ की गयी। इससे पर्यटकों में भी भगदड़ मच गयी।

    क्या मांग है हिन्दू संगठन की ?

    -सिद्धेश्वर महादेव मंदिर कमेटी के अध्यक्ष संजय दुबे का कहना है कि प्रशासन ने चोरी चुपके मंदिर का रास्ता बंद कर दिया है। उसकी हमें पहले सूचना भी नहीं दी गयी। इस मामले में जब हमने अधिकारियों को कम्प्लेन की तो कोई सुनवाई नहीं हुई। इसलिए हमें यह रास्ता अख्तियार करना पड़ा। उन्होंने कहा किसी भी हालत में मंदिर का रास्ता नहीं बंद होने देंगे।
    -वहीं, हिन्दूवादी नेता रवि दुबे ने कहा यह हमारी आस्था का प्रश्न है। 500 साल पुराने मंदिर का रास्ता बंद करने का कोई औचित्य नहीं है। हमारी धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाया गया है। किसी भी तरह से हम मंदिर मार्ग को बंद नहीं होने देंगे। हमें कोई वैकल्पिक रास्ता नहीं चाहिए।

    क्या कहना है अधिकारियों का ?

    -मौके पर स्थिति संभालने पहुंची एसीएम 4 गरिमा सिंह का कहना है कि जिन लोगों ने भी उपद्रव किया है उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाई की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा दोनों पक्षों को सुना जायेगा इसके बाद रास्ते पर कोई फैसला लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि यदि नियमों की अनदेखी करके रास्ता बंद किया गया है तो उस पर विचार किया जायेगा। हमारा मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं है।

  • ताज के एंट्री गेट पर हिंदूवादी संगठनों का उपद्रव, पर्यटक डर कर भागे; 500 साल पुराने मंदिर का रास्ता बंद करने से हैं नाराज
    +1और स्लाइड देखें
    ताज में एंट्री के लिए पश्चिमी गेट पर ही टिकट काउंटर हैं।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Agra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×