मथुरा / दिग्विजय सिंह का पीएम मोदी से सवाल; कश्मीर में सबकुछ सामान्य तो अब तक कर्फ्यू क्यों?



कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह।
X
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह।कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह।

  • दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को मथुरा में दिया बयान
  • अनुच्छेद 370 पर राहुल गांधी के बयान का किया बचाव, कहा- उन्होंने कुछ गलत नहीं बोला

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 04:11 PM IST

मथुरा. पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से सवाल किया कि, यदि कश्मीर में हालात सामान्य हैं तो अभी तक कर्फ्यू क्यों है? पुलिस से हथियार क्यों जमा कराए गए? कहा कि, पीएम मोदी आज जिस अमेरिका को अपना परम मित्र बताते हैं, वहीं का यूएस मीडिया दिखा रहा है कि, कश्मीर में हालात बहुत खराब हैं। लेकिन देश के सामने झूठी तस्वीर रखी जा रही हैं। 

 

अटल जी ने बताया कश्मीर मसले का हल

दिग्विजय सिंह ने पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ की। कहा कि, कश्मीर का एक संवेदनशील मसला है। उसके हल का सबसे सुंदर मॉडल अटल जी ने तीन शब्दों में बताया था। कहा था, जम्हूरियत, कश्मीरियत व इंसानियत से कश्मीर मसला हल हो सकता है। लेकिन पीएम मोदी व गृहमंत्री शाह ने इसे ताख पर रखकर निर्णय लिया है। 

 

पीएम मोदी पर किया वार

दिग्विजय सिंह ने दो दिन पहले मथुरा में पीएम मोदी द्वारा दिए गए बयान भी कटाक्ष किया। कहा कि, ऊं और गाय का नाम लेने से किसके रौंगटे खड़े हो जाते हैं? रौंगटे खड़े होने का मुहावरा उस समय चला था, जब इंदिरा जी ने पाकिस्तान के टुकड़े कर दिए थे। उस दौर में जब भुट्टो के बाल कटते थे तो वहां नाई इंदिरा जी का नाम लेता था तो उनके बाल खड़े हो जाते थे। यहां पर ऊं व गाय का नाम लेने से किसी को ऐतराज नहीं है। आप निरंतर अपनी असफलताओं को छुपाने के लिए इस तरह के बयानबाजी करते हैं।  

 

उन्होंने भाजपा को झुट्ठों पार्टी बताया। कहा कि, देश में गुजरात मॉडल ऑफ गवर्नेंस चला हुआ है। विरोधियों पर झूठे मुकदमे दायर करिए, झूठे मुकदमें में फंसाइए। ईडी, सीबीआई उनके पीछे लगाइए। पी चिदंबरम के मामले में उन पर क्या आरोप हैं जो जेल भेजा गया? वित्त मंत्री रहते हुए उन्होंने अधिकारियों की सिफारिश पर हस्ताक्षर किए। उन अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है? यह मोदी-शाह का पुराना गुजरात मॉडल है। 

 

इसरो वैज्ञानिकों को दी गई झूठी सांत्वना

दिग्विजय सिंह ने कहा कि, इसरो वैज्ञानिकों ने मिशन मंगलयान के बाद मिशन चंद्रयान एक में सफलता प्राप्त की। चंद्रयान दो में भी 95 फीसदी सफलता प्राप्त की। इसरो अच्छा काम कर रहा है। लेकिन पीएम मोदी ने जिन्हें जबरन पकड़कर सांत्वना दी। लेकिन वहां वरिष्ठ अधिकारियों के वेतन की कटौती क्यों कर रहे हैं? उन्हें तो इनाम मिलना चाहिए। कहा कि, यह वो संगठन है जिसके लिए जवाहर लाल नेहरू व इंदिरा गांधी का विजन था। उन्होंने इसरों के माध्यम से अवसर दिया इस तरह के सैटेलाइट बनने के लिए। लेकिन उसमें प्राइवेट इनवेस्टमेंट लाने की छूट दी जा रही है। यह उसी तरह से है जैसे एचएल में राफेल को लाया गया। यह नवरत्न कंपनी को खत्म करने का भाजपा सरकार का प्लान है। पीएम का मकसद है प्राइवेट सेक्टर को लाना, नौकरी से लोगों को निकालना।  

 

भाजपा को चंदा देते हैं बीफ एक्सपोर्टर

उन्होंने कहा कि, भाजपा एक ऐसी पार्टी है, जिसे बीफ एक्सपोर्टर चंदा देते हैं। यह बात भाजपा ने इलेक्शन कमीशन को लिखकर दिया है। वहीं भाजपा के सोनिया गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद लगाए गए परिवारवाद के आरोप पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि उनको क्या एतराज है? कांग्रेस के सदस्य बन जाएं और दूसरा बना लें। हम कांग्रेस के सदस्य हैं, हम किसको अध्यक्ष बनाते हैं, हमारा निर्णय है। वो कौन होते हैं पूछने वाले? 

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना