--Advertisement--

अलीगढ़: जिन्ना विवाद के बीच एएमयू की परीक्षाएं स्थगित, स्टूडेंट्स का धरना जारी

2 मई से शुरू हुआ स्टूडेंट्स का धरना अभी जारी है।

Danik Bhaskar | May 07, 2018, 03:21 PM IST

अलीगढ़. अलीगढ़ में जिन्ना का विवाद अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब विवाद की स्थिति को देखते हुए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रशासन ने 2017-18 सत्र की 7 मई से शुरू होने वाली सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं। वहीँ 2 मई से शुरू हुआ स्टूडेंट्स का धरना अभी जारी है।

रविवार को बैठक में लिया गया फैसला

-यूनिवर्सिटी के पीआरओ उमर पीरजादा ने बताया कि रविवार को यूनिवर्सिटी के वीसी तारिक मंसूर, सभी डिपार्टमेंट्स के हेड और कॉलेज के प्रोफेसरों की एक बैठक बुलाई गयी थी। जिसमे वर्तमान स्थिति को देखते हुए 2017-18 सत्र की होने वाली सभी परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है।
-यह परीक्षाएं 7 मई से शुरू होनी थी लेकिन सभी की सहमती से अब यह परीक्षाएं 12 मई से शुरू होंगी। साथ 16 सदस्यीय कमेटी का भी गठन किया गया है जोकि पूरे प्रकरण की जांच कर वीसी को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

स्टूडेंट्स का धरना जारी है

-2 मई को हुए हंगामे के बाद शुरू हुआ स्टूडेंट्स का धरना अभी भी जारी है।
-इस बीच सोशल मीडिया पर एक विडियो वायरल हो रहा है। जिसमे हम लेकर रहेंगे आजादी के नारे लगाते स्टूडेंट्स दिखाई दे रहे हैं। दावा किया जा रहा है यह नारे धरने पर बैठे स्टूडेंट्स लगा रहे हैं। हालांकि पुलिस प्रशासन का कहना है कि अभी विडियो की जाँच जारी है।

जेएनयू और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के छात्र नेताओं ने एएमयू स्टूडेंट्स को दिया समर्थन

-वहीँ बीते शनिवार को जेएनयू दिल्ली और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से छात्रनेताओं का एक डेलिगेशन अलीगढ़ स्टूडेंट्स के समर्थन में पहुंचा। इस दौरान बिहार से सांसद पप्पू यादव भी स्टूडेंट्स के समर्थन में तकरीबन 4 बजे यूनिवर्सिटी पहुंचे। उन्होंने स्टूडेंट्स को आश्वासन दिया कि वह हर हाल में उनके साथ रहेंगे।

भाजपा सांसद की चिट्‌ठी से शुरू हुआ था विवाद
-विवाद भाजपा सांसद और एएमयू कोर्ट मेंबर सतीश गौतम की चिट्‌ठी से शुरू हुआ था। छात्रसंघ हॉल में लगी मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर पर सवाल उठाते हुए उन्होंने 26 अप्रैल को वीसी प्रो। तारिक मंसूर को पत्र लिखा। 30 अप्रैल को पत्र सामने आने के बाद हिंदू संगठनों ने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की। वहीं, एएमयू छात्र संघ इसे नहीं हटाने पर अड़ा है। तस्वीर हटाने के लिए हिंदू युवा वाहिनी के कुछ कार्यकर्ता बुधवार को एएमयू कैंपस में घुस गए थे। इस दौरान हुए लाठीचार्ज में कई छात्र घायल हो गए थे।

क्या है प्रदर्शनकारी छात्रों की मांग?

- धरना दे रहे छात्रों की मांग है कि जिन्ना की तस्वीर हटाने के लिए बुधवार को कैंपस में घुसे हिंदू युवा वाहिनी के लोगों को गिरफ्तार किया जाए और मामले की न्यायिक जांच हो। जिन्ना प्रकरण को तूल देने के लिए सोशल मीडिया पर समर्थन व विरोध में लगातार मैसेज, फोटो व वीडियो शेयर किए जा रहे हैं।

1938 में एएमयू आए थे जिन्ना

-बता दें कि एएमयू के यूनियन हॉल में जिन्ना सहित 30 हस्तियों की तस्वीरें लगी हैं। जिन्ना 1938 में एएमयू आए थे। तभी उन्हें यूनियन की सदस्यता दी गई थी। 1920 में एएमयू के गठन के वक्त महात्मा गांधी पहले मानद सदस्य थे।