--Advertisement--

हर साल होगी 5 हजार SI और 47 हजार कांस्टेबलों की भर्ती: DGP

इलाहाबाद. यूपी के डीजीपी सुलखान स‍िंह ने कहा, प्रदेश में 1.60 लाख पुलिस कर्मियों के स्थान खाली पड़े हैं।

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 10:44 PM IST
डीजीपी सुलखान ने इलाहाबाद में मीड‍िया से बातचीत के दौरान ये बातेें कही। डीजीपी सुलखान ने इलाहाबाद में मीड‍िया से बातचीत के दौरान ये बातेें कही।

इलाहाबाद. यूपी के डीजीपी सुलखान स‍िंह ने गुरुवार को कहा, प्रदेश में 1.60 लाख पुलिसकर्मियों के स्थान खाली पड़े हैं जिसे 3 साल में पूरा कर लिया जाएगा। 5 हजार एसआई (सब इंस्पेक्टर) और 47 हजार सिपाहियों की भर्ती हर साल की जाएगी। डीजीपी इलाहाबाद पुल‍िस लाइन में न‍िरीक्षण करने के बाद मीड‍िया से बातचीत के दौरान ये बातें कही। आगे पढ़‍िए सुरक्षा व्यवस्था पर क्या बोले डीजीपी...

-उन्होंने कहा, इस साल अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए 3 पुलिस अफसरों ने अपने प्राणों की बलि दी है। 150 से अधिक पुलिसवाले घायल हुए हैं।

-पुलिस अपराधों को रोकने के लिए पूरी तरह से सजग है। यहां तक कि 15 साल से भागे अपराधियों को जेल भेजने का काम पुलिस ने किया है। इसके बावजूद प्रदेश की कानून व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। इसमें सुधार का लगातार प्रयास जारी है।

-डीजीपी ने कहा, प्रदेश में लगातार अपराध कम हो रहे हैं। अब तक सैकड़ों अपराधियों को जेल भेजा जा चुका है। अपराधियों के खिलाफ चलाए गए अभियान में हमने खोया भी है।

-हमारा सदैव प्रयास रहा है कि पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों का व्यवहार जनता के प्रति अच्छा रहे। बेहतर व्यवहार के लिए लगातार पुलिस कर्मचारियों को निर्देश दे रहें है।

-थाने आए फररियादियों से किसी तरह का दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।


आदेश के अध्ययन के बाद करेंगे कार्रवाई
-डीजीपी ने हाईकोर्ट के आदेश पर धर्मिक स्थालों से लाउड स्पीकर हटाने के मामले पर कहा, जब तक निर्देश का गहन अध्यायन नहीं कर लिया जाता, तब तक कुछ कहना ठीक नहीं होगा। पूर्व में भी ऐसे निर्देशों पर पुलिस कार्रवाई कर चुकी है। यह कोई नया मामला नहीं है।
-वहीं, रेलवे भूमि घोटाला संबंधी चल रही जांच के संबंध में उनका कहना था कि इसे बीच में किसी भी सूरत में रोका नहीं जाएगा। कहीं भी किसी भी आपराधिक मामले की जांच पुलिस पूरी करेगी।

-पुलिस अधिकारियों पर कहीं कोई दबाव नहीं है। पुलिस अधिकारी कानूनी कार्रवाई करने में पीछे नहीं हटेंगे।


आईपीएस अफसरों के अधिकार सुरक्षित
-आईएएस अफसरों से विवाद और आईपीएस अधिकारियों के अधिकार को लेकर फैली भ्रांत‍ियों के संबंध में सुलखान सिंह ने कहा, इस बारे में मेरी बात मुख्य सचिव से हो गई है। आदेश भी अब तक जारी हो गए होंगे। इस मसले पर अब कोई विवाद नहीं रह गया है।


कुंभ और माघ मेले के लिए अनुभवी अफसर होंगे मौजूद
-उन्होंने कहा, कुम्भ या माघमेला को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए पुलिस के पास काफी संख्या में अनुभवी अधिकारी हैं जिससे कोई समस्या नहीं आएगी। इस दौरान उन्होंने माघ मेले की तैयारियों के बारे में गहनता से पड़ताल की।

-साइबर क्राइम पर नियंत्रण करने के लिए पुलिस कर्मचारियों और अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। साइबर विशेषज्ञों का सहयोग लेकर क्राइम ब्रांच ही जांच करेगी। इसके लिए साइबर सेल का गठन किया जाएगा।

-ऐसे मामलों के मुकदमा संबंध‍ित थाना क्षेत्र में ही पंजीकृत किए जाएंगे और प्रत्येक जिले में साइबर सेल बनेगा। साइबर थानों की स्थापना की जरूरत नहीं है।

जरूरी नहीं की हर केस खुल ही जाए
-सुलखान सिंह ने डॉक्टर बंसल की हत्या को लेकर उठे प्रश्न पर कहा, जरूरी नहीं है कि सभी अपराध खुल ही जाए, लेकिन प्रयास होता है कि हर अपराध खुले।

-पुलिस के अफसर हर केस में लगे होते हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद डीजीपी सुलखान सिंह वायुयान से लखनऊ के लिए रवाना हो गए।


यूपीकोका से संगठ‍ित अपराध पर न‍ियंत्रण लगेगा
-उन्होंने कहा, यूपी के इस नए कानून यूपीकोका से संगठित अपराध पर कारगर नियंत्रण लगेगा। प्रदेश में संगठित अपराधियों से निपटने के लिए अब तक ऐसा कोई प्रभावी कानून नहीं था जिसे यूपीकोका पूरा करेगा।

-उन्होंन दावा किया क‍ि इसमें किसी का भी उत्पीड़न नहीं होगा, क्योंकि इसमें महाराष्ट्र में बने मकोका की कमियों को पूरा करने के बाद कई नए प्रावधान जोड़कर बनाया गया है। यूपीकोका से यूपी में संगठित अपराध पर प्रभावी नियंत्रण हो सकेगा।


डीजीपी ने पुल‍िस लाइन का न‍िरीक्षण क‍िया। डीजीपी ने पुल‍िस लाइन का न‍िरीक्षण क‍िया।