--Advertisement--

तय फीस के अलावा अतिरिक्त फीस लेने का कॉलेज को अधिकार नहीं: हाईकोर्ट

इलाहाबाद. हाईकोर्ट ने कहा कि निर्धारित फीस के अतिरिक्त किसी भी कॉलेज को बैंक गारंटी लेने का अधिकार नहीं है।

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 08:10 PM IST

इलाहाबाद. हाईकोर्ट ने कहा कि निर्धारित फीस के अतिरिक्त किसी भी कॉलेज को बैंक गारंटी लेने का अधिकार नहीं है। कोर्ट ने सुभारती मेडिकल कॉलेज मेरठ द्वारा नीट परीक्षा से दाखिले के लिए याची से 31 लाख 89 हजार 400 रुपए की बैंक गारंटी मांगने की जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। साथ ही सुभारती को आदेश दिया है कि वह याची को 5 लाख रुपए का मुआवजा दे। आगे पढ़‍िए पूरा मामला...


-यह आदेश न्यायमूर्ति तरुण अग्रवाल और न्यायमूर्ति अजय भनोट की खंडपीठ ने डॉ. मुक्ताकर सिंह की याचिका पर दिया है। याचिका पर अधिवक्ता के.पी. सिंह ने बहस की।

-कोर्ट ने कहा कि समय बीत चुका है इसलिए याची को पीजी मेडिकल कोर्स में प्रवेश नहीं दिया जा सकता। याची मुआवजा पाने का हकदार है। कोर्ट ने कालेज को तीन महीने में 5 लाख रुपए मुआवजे का बैंक ड्राफ्ट याची को देने का आदेश दिया है ।
-कोर्ट ने कहा कि प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण यूपी को मामले की जांच कर जवाबदेही तय कर अधिकारियों पर अर्थदंड लगाये और कॉलेज द्वारा बैंक गारंटी मांगने की भी जांच कर पांच महीने में कार्रवाई करे।

-भविष्य में ऐसा न हो, व्यवस्था की जाए। गाइडलाइन जारी की जाए। छात्रों की शिकायत पर कार्रवाई करने के लिए अगले सत्र में एक अधिकारी नियत किया जाए और मेडिकल कौंसिल से परामर्श कर कॉलेजों की मनमानी पर रोक लगाते हुए कॉलेजों को निर्धारित फीस लेने के लिए बाध्य किया जाए।