--Advertisement--

वाइफ का अफेयर चल रहा है, सबसे पहले क्या करेंगे? जज इंटरव्यू में हुए ऐसे Qn

एयरफोर्स छोड़ कर सिविल जज बने विनोद पांडे ने शेयर किया एक्सपीरिएंस।

Danik Bhaskar | Mar 03, 2018, 06:40 PM IST

इलाहाबाद. यूनियन लोक सेवा आयोग की तरफ से 2018 यूपीएससी एग्जाम्स की तारीख का एलान हो चुका है। फॉर्म भरने की आखिरी तारीख 6 मार्च है। इस मौके पर DainikBhaskar.com ऐसे प्रतियोगी एग्जाम्स में सफल हुए स्टूडेंट्स से मिलवा रहा है। इन सक्सेसफुल एस्पिरेंट्स ने वो सवाल-जवाब शेयर किए जो इनसे इंटरव्यू में पूछे गए थे। इस कड़ी में पहला नाम है PCS (J) 2016 में थर्ड रैंक हासिल करने वाले विनोद पांडे।

12वीं पास करते ही ज्वाइन की थी एयरफोर्स

- विनोद बताते हैं, "मैं मूल रूप से प्रतापगढ़ की लालगंज तहसील के रामगढ़ रैला गांव का रहने वाला हूं। मेरे पिता पोस्ट ऑफिस में एजेंट हैं।"
- "मेरा बचपन काफी गरीबी में बीता। 1997 में 12वीं क्लास पास होते ही मेरा सिलेक्शन एयरफ़ोर्स में बतौर सार्जेंट (टेक्निकल विंग) हो गया था। मैंने जॉब करते हुए आगे की पढ़ाई जारी रखी। 2010 में मेरी मुंबई में पोस्टिंग थी। उसी दौरान मैंने बॉम्बे यूनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री पूरी की। मैंने ईवनिंग और नाइट क्लासेज अटैंड करते हुए लॉ कंप्लीट किया। मैं यहीं नहीं रुका। 2013 में मैंने कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से LLM किया। 2014 में नेट भी क्वालिफाई कर लिया था।"

मुंबई बम ब्लास्ट केस के वकील से मिली थी प्रेरणा

विनोद बताते हैं, "LLB के दौरान आए दिन वर्कशॉप ऑर्गेनाइज होती थीं, जिनमें कई नामी वकील और जज अपने एक्सपीरिएंस शेयर करकते थे। वहीं मेरी मुलाका मुंबई बम ब्लास्ट के पब्लिक प्रॉसिक्यूटर उज्जवल निकम से हुई। उनका लेक्चर मेरी लाइफ का टर्निंग प्वाइंट था। मैं इतना प्रभावित था कि मैंने एयरफोर्स से वीआरएस लेकर सिविल सर्विस एग्जाम क्रैक करने की ठान ली।"
- "2016 में मैं घर लौटा और पीसीएस-जे की तैयारी में जुट गया। मेरा पहले ही अटेम्प्ट में सिलेक्शन हुआ है।"

20 मिनट में पूछे गए 25 से ज्यादा सवाल

- 18 सितंबर 2017 को इलाहाबाद में डॉ. लॉरिक यादव की अध्यक्षता वाले बोर्ड ने उनका इंटरव्यू लिया। पैनल में एक हाईकोर्ट जज और दो सब्जेक्ट एक्सपर्ट्स मौजूद थे। इंटरव्यू तकरीबन 20 मिनट तक चला था।

आगे जानें वाइफ के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के सवाल पर क्या था इनका जवाब...