--Advertisement--

महादेवी वर्मा के नाम नगर निगम ने जारी किया नोटिस, 31 साल पहले हो चुका है निधन

अशोक नगर स्थित महादेवी वर्मा के आवास में अब उनके दत्तक बेटे रामजी पाण्डेय का परिवार रहता है।

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 10:00 AM IST
महादेवी वर्मा का निधन 11 सितंबर, 1987 को हुआ था। महादेवी वर्मा का निधन 11 सितंबर, 1987 को हुआ था।

इलाहाबाद. इलाहाबाद नगर निगम ने स्वर्गीय कवियित्री महादेवी वर्मा को नोटिस जारी किया है। नोटिस में कहा गया है कि अगर 15 दिनों के भीतर हाउस टैक्स जमा नहीं किया गया तो कुर्की का वारंट जारी किया जाएगा। अशोक नगर स्थित महादेवी वर्मा के आवास में अब उनके दत्तक बेटे रामजी पाण्डेय का परिवार रहता है। इस आवास पर अब तक 28,172 रुपये का हाउस टैक्स बाकी है। इसमें 28172 रुपये बकाया, 16644 ब्याज, मौजूदा (चालू) कर 3234 और शुल्क 25 रुपये शामिल है।


-महादेवी वर्मा के नाम गृहकर का नोटिस जारी करने का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। आपको बता दें कि 31 साल पहले महादेवी वर्मा के निधन हो गया था। गृहकर की नोटिस भेजे जाने को लेकर संस्कृति कर्मियों में नाराजगी है। सहित्य और संस्कृति कर्मियों ने पूरे मामले में जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
-आपको बता दें कि, कवियत्री महादेवी वर्मा के निधन 11 सितंबर, 1987 हो गया है। लेकिन नगर निगम के कर वसूली विभाग के अधिकारियों ने इसका भी कोई संज्ञान नहीं लिया और नोटिस जारी कर दिया।

मकान में रहते हैं दत्तक पुत्र

-दरअसल इलाहाबाद के अशोक नगर नेवादा में कवियत्री महादेवी वर्मा का मकान है। जिसमें अब उनके दत्तक बेटे रामजी पाण्डेय का परिवार रहता है। रामजी पाण्डेय के बड़े बेटे बृजेश पाण्डेय के मुताबिक वर्ष 1997-98 में उन्होंने नगर निगम को इस बंगले को ट्रस्ट के अधीन होने की जानकारी दे दी थी। जिसके बाद से गृहकर का कोई बिल कभी उन्हें प्राप्त ही नहीं हुआ है।
-उनके मुताबिक कवियत्री महादेवी वर्मा ने अपने जीवन काल में ही वर्ष 1985 में साहित्य सहकार न्यास का गठन कर दिया था। जो कि वर्ष 1987 से अस्तित्व में भी आ गया है। नगर निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों के इस तरह से नोटिस जारी किए जाने से इस महान शख्सियत का अपमान हुआ है।

क्या कहना है आयुक्त का

- नगर आयुक्त हरिकेश चौरसिया का कहना है कि गृहकर विभाग इन दिनों हाउस टैक्स वसूली के अभियान में जुटा है। लिहाजा उसी कड़ी में कर्मचारियों ने कवियत्री महादेवी वर्मा के नाम से भी गलती से नोटिस जारी कर दिया है। उन्होंने कहा है कि मामले के संज्ञान में आने के बाद नोटिस को निरस्त कर दिया गया है और अब बंगले में रहने वाले लोगों से पूछताछ के बाद वास्तविक स्वामी के नाम दोबारा नोटिस जारी की जायेगी।

- पीके मिश्रा मुख्यकार अधीक्षक नगर निगम इलाहाबाद ने कहा है कि कवियत्री महादेवी वर्मा के नाम से नोटिस जारी करने के मामले में जांच के बाद दोषी कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई भी की जायेगी।

कौन हैं महादेवी वर्मा

- महादेवी वर्मा का जन्म 6 मार्च, 1907 को उत्तर प्रदेश के फर्रुख़ाबाद में हुआ था। हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं।

-महात्मा गांधी के प्रभाव से उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भी हिस्सा लिया था। उन्होंने कई बड़ी रचनाओं के गिल्लू और दीपसिखा है। महादेवी वर्मा छायावादी युग की कवियत्री थीं।

नगर निगम ने बकाया हाउस टैक्स को लेकर नोटिस जारी किया है। नगर निगम ने बकाया हाउस टैक्स को लेकर नोटिस जारी किया है।
X
महादेवी वर्मा का निधन 11 सितंबर, 1987 को हुआ था।महादेवी वर्मा का निधन 11 सितंबर, 1987 को हुआ था।
नगर निगम ने बकाया हाउस टैक्स को लेकर नोटिस जारी किया है।नगर निगम ने बकाया हाउस टैक्स को लेकर नोटिस जारी किया है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..