Hindi News »Uttar Pradesh »Allahabad» Plea Against CM Yogi Dismissed

हाईकोर्ट से मिली योगी आदित्यनाथ को बड़ी राहत, गोरखपुर दंगों पर नहीं चलेगा केस

जनवरी 2007 में गोरखपुर में दंगा भड़का था।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 02, 2018, 08:44 AM IST

  • हाईकोर्ट से मिली योगी आदित्यनाथ को बड़ी राहत, गोरखपुर दंगों पर नहीं चलेगा केस
    +1और स्लाइड देखें
    योगी आदित्यनाथ के खिलाफ विवादित भाषण देने का आरोप था। फाइल

    इलाहाबाद. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गुरुवार को सीएम योगी आदित्यनाथ को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने 2007 में गोरखपुर में हुए दंगों के मामले में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी को समन जारी करने का आदेश खारिज करने के सत्र अदालत के फैसले को बरकरार रखा। इस मामले में गोरखपुर के तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ समेत कई लोगों के खिलाफ गोरखपुर में मामला दर्ज कराया गया था।

    -मालूम हो कि इस प्रकरण में योगी आदित्यनाथ के साथ-साथ आठ अन्य अभियुक्तों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गयी थी। यह आदेश न्यायमूर्ति बीके नारायन ने वादी राशिद खान की याचिका पर दिया है। वादी की तरफ से अधिवक्ता एसएफए नकवी व राज्य सरकार की तरफ से महाधिवक्ता राघवेन्द्र प्रताप सिंह, अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल, विनोदकांत एवं अपर शासकीय अधिवक्ता एके सण्ड ने तर्क रखे।

    क्या था आरोप

    -वादी की तरफ से आरोप लगाया गया था कि आरोपियों द्वारा दिये गये भड़काऊ भाषण से गोरखपुर जिले में अराजकता व्याप्त हो गयी थी। विवेचना के उपरांत दो जून 2009 को सभी आरोपियों के विरूद्ध आरोप पत्र दाखिल किया गया। लेकिन धारा 153ए के तहत अभियोजन स्वीकृति न होने की दशा में आरोप पत्र नहीं दाखिल किया गया। निचली अदालत द्वारा दोनों आरोप पत्र पर 13 अक्टूबर व 28 नवम्बर 2009 को संज्ञान लिया गया था।

    -इन दोनों संज्ञान लेने के आदेश के विरूद्ध एक अभियुक्त महेश खेमका ने आपराधिक पुनरीक्षण अर्जी दाखिल की थी। जिस पर अपर जिला सत्र न्यायाधीश, गोरखपुर ने 28 जनवरी, 2017 को अभियोजन स्वीकृति सक्षम अधिकारी द्वारा न दिये जाने के आधार पर संज्ञान लेने के आदेश को निरस्त करते हुए नये सिरे से निर्णय लेने का निर्देश दिया था। अपर जिला सत्र न्यायाधीश गोरखपुर के इस आदेश को वादी द्वारा हाईकोर्ट में चुनौती दी गयी थी जिसे हाईकोर्ट ने गुरुवार को खारिज कर दिया।


    क्या है पूरा मामला?
    - जनवरी 2007 में गोरखपुर में दंगा भड़का था। आरोप है कि उस समय वहां के तत्कालीन सांसद आदित्यनाथ ने दो समुदायों के लोगों के बीच टकराव में एक युवक की मौत होने के बाद कथित हेट स्पीच दी थी। इसके बाद दंगे को हवा मिली। बीजेपी एमपी को तब अरेस्ट किया गया था और 10 दिनों तक जेल में रखा गया था। कोर्ट से जमानत मिलने पर वह बाहर आए थे।

  • हाईकोर्ट से मिली योगी आदित्यनाथ को बड़ी राहत, गोरखपुर दंगों पर नहीं चलेगा केस
    +1और स्लाइड देखें
    फाइल
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Allahabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×