--Advertisement--

2 जनवरी से जुटेगा संगम तट पर श्रद्धालुओं का ताता, ऐसा होगा रूट डायवर्जन

तीर्थराज प्रयाग स्थल में 2 जनवरी से 13 फरवरी तक माघ मेला आयोजित किया जाएगा।

Dainik Bhaskar

Dec 28, 2017, 06:17 PM IST
माघ मेले में स्नान पर्व के एक दिन पहले ही श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होने लगी है। इसे देखते हुए रूट डायवर्जन किया जाएगा। माघ मेले में स्नान पर्व के एक दिन पहले ही श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होने लगी है। इसे देखते हुए रूट डायवर्जन किया जाएगा।

इलाहाबाद(यूपी). तीर्थराज प्रयाग स्थल में 2 जनवरी से 13 फरवरी तक माघ मेला आयोजित किया जाएगा। माघ माह मोक्ष प्रदान करने वाला माह माना जाता है। कल्पवास और मेला के प्रमुख स्नान पर्व के एक दिन पहले ही श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होने लगी है। इसे देखते हुए क्षेत्र में सभी प्रकार के वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी जाएगी और बड़े वाहनों के मार्ग में परिवर्तन किया जाएगा। चौतरफा लागू होगा रूट डायवर्जन...

- रीवा-बांदा मार्ग की तरफ से इलाहाबाद की ओर आने वाले भारी वाहनों को गौहनिया मार्ग से निकाला जाएगा।
- वाराणसी-प्रतापगढ़ की ओर जाने वाले वाहनों को कमार मेजा रोड से मिजार्पुर होकर भेजा जाएगा।
- मिजार्पुर मार्ग से इलाहाबाद होकर कानपुर, लखनऊ , प्रतापगढ़ की ओर जाने वाले वाहन मिजार्पुर से औराई, हंडिया बाईपास से निकाले जाएंगे।
- रामपुर चौराहा से ट्रकों का शहर में प्रवेश बंद रहेगा।
- वाराणसी से कानपुर की तरफ आवागमन करने वाले मालवाहनों को हंडिया-कोखराज बाईपास से निकाला जाएगा।
- वाराणसी मार्ग से आने वाले बड़े वाहनों को हंडिया बाईपास से कोखराज की ओर मोड़ दिया जाएगा।
- लखनऊ मार्ग से इलाहाबाद होकर रीवा-मिजार्पुर की ओर जाने वाले सभी वाहनों को नवाबगंज बाईपास से होकर निकाला जाएगा, जो हंडिया बाईपास से औराई, मिजार्पुर होकर जाएंगे।
- प्रतापगढ़ मार्ग से इलाहाबाद शहर से रीवा-मिजार्पुर की ओर जाने वाले वाहनों को सोरांव बाईपास से निकाला जाएगा जो हंडिया बाईपास से औराई मिजार्पुर होकर जाएंगे।
- फायर ब्रिगेड चौराहे से एनवाई रोड पर सिविल लाइंस थाना तिराहे तक सभी प्रकार के वाहनों का आवागमन प्रतिबंधित रहेगा।
- इस मार्ग पर केवल पैदल स्नानार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा।


माघ मेला के ये है प्रमुख 6 स्नान पर्व

- पौष पूर्णिमा का पहला स्नान पर्व दो जनवरी को होगा।
- इस दिन करीब 30 लाख श्रद्धालुओं के यहां स्नान करने की संभावना है।
- दूसरा स्नान पर्व मकर संक्रांति 14 जनवरी को है, इस दिन लगभग 75 लाख श्रद्धालुओं के स्नान करने की उम्मीद प्रशासन को है।

- माघ मेले का तीसरा और सबसे बड़ा स्नान पर्व मौनी अमावस्या 16 जनवरी को होगा।
- इस दिन देश के कोने-कोने से श्रद्धालु संगम में स्नान करने के लिए आयेंगे।
- उस दिन सबसे अधिक डेढ़ से दो करोड़ श्रद्धालु पतित पावनी गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती में स्नान करेंगे।

- चौथे स्नान पर्व बसंत पंचमी के दिन 22 जनवरी को करीब 50 लाख श्रद्धालु स्नान करेंगें।

- माघी पूर्णिमा के पांचवे स्नान पर्व 31 जनवरी को करीब 40 लाख स्नानार्थियों के स्नान करने की उम्मीद है।

- छठवें और अंतिम स्नान पर्व 13 फरवरी महाशिवरात्रि पर प्रशासन ने 10 लाख स्नानार्थियों की भीड़ होने की संभावना जतायी है।


क्या कहते है माघ मेला एएसपी ?

- मेला एएसपी पंकज पांडेय ने बताया, ''स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के लिए चारों तरफ वाहन पार्किंग की भी व्यवस्था की गई है। भारी वाहनों के प्रवेश एक दिन पहले रोके जाएंगे और एक दिन बाद तक प्रतिबंध लागू रहेगा।''

माघ मेला 2 जनवरी से 13 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा। माघ मेला 2 जनवरी से 13 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।
X
माघ मेले में स्नान पर्व के एक दिन पहले ही श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होने लगी है। इसे देखते हुए रूट डायवर्जन किया जाएगा।माघ मेले में स्नान पर्व के एक दिन पहले ही श्रद्धालुओं की भीड़ जमा होने लगी है। इसे देखते हुए रूट डायवर्जन किया जाएगा।
माघ मेला 2 जनवरी से 13 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।माघ मेला 2 जनवरी से 13 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..