--Advertisement--

माघ मेला 2018: तम्बुओं के शहर में पहुंचे बाशिंदे, 2 जनवरी से शुरू होगा कल्पवास

इलाहाबाद. माघ मेला 2018 का पहला स्नान 2 जनवरी यानी मंगलवार को शुरू होगा। इसी द‍िन पौष पूर्णिमा भी है।

Danik Bhaskar | Dec 31, 2017, 09:18 PM IST
माघ मेले में कल्पवास के लि‍ए पहुंचे श्रद्धालु। माघ मेले में कल्पवास के लि‍ए पहुंचे श्रद्धालु।

इलाहाबाद. माघ मेला 2018 का पहला स्नान 2 जनवरी यानी मंगलवार को शुरू होगा। इसी द‍िन पौष पूर्णिमा भी है। ऐसे में कल्पवासियों का कुनबा तम्बुओं की नगरी में बस गए हैं और उनका आना भी जारी है। इसके साथ ही माघ मेले की सुरक्षा व्यवस्था भी कड़ी बनाई गई है, जो एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड टीम के स्पेशल कमांडों की निगरानी में रहेगा। आगे पढ़‍िए इस बार माघ मेले की सुरक्षा व्यवस्था है सख्त...

(आगे की स्लाइड्स में देख‍िए अन्य PHOTOS)

-इस बार माघ मेला की सुरक्षा मेला शुरू होने से पहले ही पूरे क्षेत्र को चेक कर लिया गया है। एंटी माइंस टीम देश में बढ़ रही आतंकी गतिविधियों को ध्यान में रखते इस बार सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

-मेला क्षेत्र की सुरक्षा में 4 हजार से अधिक स्पेशल और पुलिस बल तैनात किए गए हैं। बम डिस्पोजल टीम और बम डिडेक्ट डिस्पोजल स्क्वॉयड की तैनाती की गई है।

-खुफिया एजेंसियां मेले में पहले से ही एक्टिव हैं। रविवार को पुलिस अधिकारियों ने संगम नोज से लेकर थानों का औचक निरीक्षण किया।

-कंट्रोल रूप में लगे सीसीटीवी कैमरों को जूम कराकर देखा और सिपाहियों की ड्यूटी प्वॉइंट को चेक किया।

-पुलिस अधीक्षक माघ मेला नीरज पांडेय ने बताया, माघ मेला में एटीएस के 22 कमांडों पहुंच चुके हैं। स्पेशल सुरक्षा के लिए कमांडों को लगाया गया है। उनके साथ एसटीएफ के कमांडों भी मौजूद रहेंगे। सर्विलांस की मदद हर संदिग्ध पर नजर रखी जाएगी।


मेला क्षेत्र में बनाए गए हैं 12 थाने और 12 फायर ब्रिगेड स्टेशन
-माघ मेला क्षेत्र में 12 थाने और 34 पुलिस चौकियां बनाई गई हैं। वहीं, 12 फायर ब्रिगेड स्टेशन भी बनाए गए हैं।
-इसके अलावा फायर बाइक की 12 टीमें लगातार मेला क्षेत्र में भ्रमण करती रहेंगी।

माघ मेले की सुरक्षा में ऐसी है स‍िक्युर‍िटी
पद टीम- संख्या
-एएसपी- 2
-सीओ- 6
-इंस्पेक्टर- 13
-एसआई- 260
-कॉन्स्टेबल- 1750
-महिला एसआई -20
-महिला कॉन्स्टबिल- 140
-टीएसआई -10,
-ट्रैफिक हेड कॉन्स्टेबल-150
-ट्रैफिक कॉन्स्टेबल- 100
-फायर ब्रिगेड- 14 गाड़ी
-फायर ब्रिगेड- 7 माउंट बाइक
-पीएसी- 14 कंपनी
-आरएफ.- 2 कंपनी
-कमांडो- 22 एटीएस
-बम निरोधक दस्ता- 7 टीम
-होम गार्ड- 1000
-पीआरडी- 200
- जल पुलिस थाना- 01
- गोताखोर- 30

ये भी रहेंगे अलर्ट
-8 एटीएस की टीमें मेला में अलर्ट मोड में हैं।
-18 एसटीएफ की टीमें मेला की निगरानी करेंगी।
-25 स्पेशल कमांडो भी मेला की सुरक्षा में तैनात होंगे।
-12 पीएसपी की कंपनी मेला की निगरानी करेंगे।
-3 कंपनी जल पुलिस, विशेष स्नान पर्वों में दो कंपनी पीएसी बढ़ाई जाएगी।
-5 ड्रोन कैमरे आसमान से तंबुओं के शहर की निगहबानी करेंगे।
-45 सीसीटीवी कैमरे पूरे मेला क्षेत्र और स्नान घाटों को वॉच करेंगे।
-5 वीडियो कैमरों को भी मेला में लगाया गया है।
-5 फोटोग्राफर मेला क्षेत्र के हालात पर निगाह बनाए रहेंगे।

संगम एरिया में पुलिस के साथ-साथ सेना भी रखेगी नजर
-यमुना तट पर अकबर के प्राचीन किले के ऊपर सेना का वॉच टावर बना है। इस टावर से सेना भी मेले की गतिविधियों पर हरदम नजर रखती है।
-जरूरत पड़ने पर पुलिस के आला अफसर सेना की मदद लेंगे। सुरक्षा की दृष्टि से हर मेले में सेना अपनी तरफ से अलर्ट रहती है। पुलिस वालोंं पर निर्भर करता है कि वह मदद लेते हैं या नहीं।


क्या कहते हैं मेला प्रभारी
-एसपी माघ मेला नीरज पांडेय ने बताया, सुरक्षा का जो घेरा बनाया गया है, वो अभेद्य होगा।
-इस बार मेला क्षेत्र की सुरक्षा व्यवस्था पिछले साल से ज्यादा तगड़ी है। कई स्पेशल टीम के साथ ही सुरक्षा बलों को तैनात किया जाएगा।
-सीसीटीवी कैमरे और ड्रोन कैमरे से भी मेला पर नजर रखी जाएगी।