Hindi News »Uttar Pradesh »Allahabad» UP PCS J Passout Candidate Interview To Dainik Bhaskar

भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब

DainikBhaskar.com से प्रियंका ने बातचीत की और इंटरव्यू में पूछे गए क्वेश्चन-आन्सर्स को शेयर किया।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 10, 2018, 12:37 AM IST

  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें

    इलाहाबाद(यूपी).यूपी लोक सेवा आयोग की तरफ से आयोजित PCS (J) 2016 का रिजल्ट 13 अकटूबर 2017 को जारी हुआ था। अरसदपुर, गाजीपुर की प्रियंका गांधी(29) ने पीसीएस-जे में 143वीं रैंक हासिल की है। थर्ड अटेम्प्ट में पीसीएस-जे का इंटरव्यू क्वालीफाई कर लिया। DainikBhaskar.comसे प्रियंका ने बातचीत की और इंटरव्यू में पूछे गए क्वेश्चन-आन्सर्स को शेयर किया।

    (आगे की स्लाइड में इन्फो में पढ़ें, इंटरव्यू में पूछे गए क्वेश्चन के जवाब)

    Q. ट्रिपल तलाक के फैसले को क्रिटिसाइज करिए ?
    A.वैसे तो मैं इस जजमेंट के फेवर में हूं, लेकिन कुछ कमियां हैं, जैसे तीन तलाक का मुद्दा पर्सनल लॉ का मुद्दा है। यह 1400 सालों से चली आ रही परंपरा है। पर्सनल लॉ को art-25 में प्रोटेक्शन दिया गया है। ट्रिपल तलाक मुस्लिम धर्म का इंटीग्रल पार्ट है, ऐसे असंवैधानिक डिक्लेयर करने के बजाए, जेंडर डिस्क्रिमिनेशन के प्रेक्टिस को लॉ बनाकर खत्म किया जाना चाहिए।

    भाई के सपनों को पूरा करने के लिए बनी जज

    - गाजीपुर की प्रियंका गांधी के पिता श्याम सुंदर प्रसाद में ही शिक्षक थे, जो रिटायर हो चुके हैं। मां शैल कुमारी हाउसवाइफ हैं। 10 भाई बहनों में प्रियंका गांधी नौवें नंबर पर हैं।
    - यह पढ़ाई में हमेशा से एवरेज स्टूडेंट रही हैं। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट यूपी बोर्ड 60% के साथ पास किया।
    - बीएचयू से एलएलबी 60% प्राप्त किए। इंडियन लॉ इंस्टिट्यूट न्यू डेल्ही से 59% के साथ एलएलएम कम्पलीट किया। वर्तमान में बीएचयू से पीएचडी चल रहा हैं।
    - प्रियंका ने बताया, ''मैं कभी जज नहीं बनना चाहती थी, इसी वजह से एलएलएम के बाद कभी इसके लिए पढ़ाई भी नहीं की।''
    - ''लेकिन मेरे भैया का सपना था कि मैं जज बनूं और उनको मेरे ऊपर इतना भरोसा था कि मुझे भी इसके बारे में सोचना पड़ा।''

    ऐसा शेड्यूलकिया फॉलो
    - प्रियंका बताती हैं, ''मैं अर्ली-टू-बेड एंड अर्ली-टू-राइज वाली लड़की हूं। मेरा मानना यह है कि सारे स्टूडेंट को ऐसा ही शेड्यूल फॉलो करना चाहिए।''
    - ''मॉर्निंग के टाइम जितना आप पढ़ सकते हो, उतना पूरे दिन और रात मिलाकर भी आप नहीं पढ़ सकते। मैंने सिर्फ एक से 2 साल तैयारी की है। इस रूटीन की वजह से ही मैं सिलेक्ट हुई हूं।''
    - ''सुबह 3 बजे उठती थी। तीन से चार घंटे न्यूज सुनती और उसके बाद 4 बजे से 10 बजे तक पढ़ाई करती थी।''
    - ''लगभग 6 से 8 घंटे पढ़ाई के बाद रिफ्रेशमेंट के लिए शाम को बाहर घूमने जाती थी या गाना सुनती थी।''

  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
  • भाई का सपना था इसलिए जज बनी, सेक्शुअल हैरेसमेंट के सवाल पर दिया ऐसा जवाब
    +7और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Allahabad News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: UP PCS J Passout Candidate Interview To Dainik Bhaskar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Allahabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×