Hindi News »Uttar Pradesh »Allahabad» UP PCS-J Passout Candidate Interview To Dainik Bhaskar

कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?

इलाहाबाद की रहने वाली कल्पना यादव ने PCS J में 108वीं रैंक हासिल की है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 11, 2017, 12:12 AM IST

  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
    इलाहाबाद.यूपी लोक सेवा आयोग की तरफ से आयोजित PCS(J) 2016 का रिजल्ट 13 अक्टूबर को आ चुका है। इसमें इलाहाबाद की रहने वाली कल्पना यादव ने 108वीं रैंक हासिल की है। सिविल जज की परीक्षा उन्होंने फर्स्ट अटेंप्ट में क्लियर की है।DainikBhaskar.com से खास बातचीत में कल्पना ने उन सवालों को शेयर किया, जिनका जवाब देकर वे जज बनीं।
    सवाल- आप एक कॉन्स्टेबल हैं और एक भागे हुए अपराधी का पीछा कर रही हैं। वो किसी के घर में घुस जाता है और उसके पीछे आप भी घुस जाती हैं। अपराधी तो किसी तरह भाग जाता है, लेकिन किंतु आप देखती हैं कि उस घर में किसी बच्चे के साथ कोई सेक्सुअल एक्टिविटी में इन्वॉल्व है। आप इसके खिलाफ कार्रवाई कर सकती हैं? क्योंकि वो घर के अंदर प्राइवेसी में ऐसा कर रहा है?
    जवाब-
    सर, मैं POCSO(पॉक्सो) एक्ट में कार्रवाई करूंगी। राइट टू प्राइवेसी कोई एब्सोल्यूट राइट नहीं है। इसकी आंड़ में कोई अपराध नहीं कर सकता।
    इलाहाबाद से हुई पढ़ाई, शुरू से ही रहीं टॉपर
    - कल्पना के पिता विजय कुमार यादव शिक्षा विभाग में कार्यरत हैं। माता कृष्णा यादव हाउस वाइफ हैं। दोनों इलाहाबाद में ही रहते हैं। कल्पना की पढ़ाई भी वहीं हुई।
    - उन्होंने प्राइमरी से ट्वेल्थ तक की पढ़ाई सेंट एंथोनी कॉन्वेंट गर्ल्स इंटर कॉलेज से की। इसके बाद इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बीएएलएलबी (ऑनर्स) किया। सभी में वो फर्स्ट क्लास स्टूडेंट रहीं।
    प्रिपरेशन के दौरान FB-Whatsapp कर दिया था बंद
    - कल्पना ने बताया, ''प्रिपरेशन के दौरान मैंने Facebook और WhatsApp को एकदम बंद कर दिया था। तैयारी के दौरान मेरे पास कोई फोन भी नहीं था। जरूरी बातचीत के लिए मैं मम्मी-पापा के फोन यूज करती थी।''
    - ''मैंने कोई कोचिंग नहीं की। अपनी तैयारी घर पर ही की है। इसमें मेरे भइया महेंद्र ने बहुत सहयोग किया। वो एडवोकेट हैं।''
    - ''पढ़ाई के बाद शाम को मैं रोजाना छत पर 30-35 मिनट तक वॉक करती थी और रेडियो सुनती थी।''
    परिवार में रहा है पढ़ाई का माहौल, इसलिए बनना चाहती थी जज
    - कल्पना पांच भाइयों की इकलौती बहन हैं और सबसे छोटी हैं। इनके सबसे बड़े भाई महेंद्र इलाहाबाद हाईकोर्ट में एडवोकेट हैं, दूसरे भाई नरेंद्र आईएएस 2008 बैच के आईआरएस हैं, जो इस समय डिप्टी कमिश्नर डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस दिल्ली में कार्यरत हैं। तीसरे भाई सत्येंद्र शिक्षक हैं। चौथे भाई सुरेंद्र दिल्ली में डॉक्टर (MBBS) और पांचवे भाई अमरेंद्र दिल्ली में आईएएस की तैयारी कर रहे हैं।
    - वो कहती हैं- ''घर में हमेशा से पढ़ाई का माहौल रहा है। मुझे जज की छवि जो समाज में है, वो हमेशा से इंप्रेस करती थी। ये पोस्ट एक सम्मानित, विचारशील, बौद्धिक और आदर्श व्यक्ति के रूप में समझी जाती है। इसलिए मैं जज बनना चाहती थी।''
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
  • कोई किसी बच्चे के साथ सेक्शुअल एक्ट‍िविटी में इन्वॉल्व है...क्या करेंगी?
    +9और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Allahabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×