Hindi News »Uttar Pradesh »Allahabad» Mohammad Kaif Birthday Special Story

इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन

DainikBhaskar.com मो. कैफ के बड़े भाई मो. आसिफ से बातचीत की।

सूर्य प्रकाश त्रिपाठी | Last Modified - Dec 01, 2017, 12:12 AM IST

  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    पूजा अपने हसबैंड कैफ से महंगा फोन यूज करती हैं। एफिडेविट के मुताबिक कैफ के पास 15 हजार का ब्लैकबेरी फोन है। वहीं पूजा 25 हजार का फोन यूज करती हैं।

    इलाहाबाद.यूपी के इलाहाबाद में 01 दिसंबर 1980 को जन्मे वर्ल्ड कप विजेता अंडर-19 क्रिकेट टीम के कप्तान मो. कैफ अपना 37 साल के पूरे हो गए। यहां की फूलपुर संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के टिकट पर 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ चुके मो. कैफ फिलहाल तो अपनी जर्नलिस्ट वाइफ पूजा कैफ, बेटे कबीर और बेटी के साथ दिल्ली शिफ्ट हो गए हैं, लेकिन उनकी यादें आज भी यहां जिंदा हैं। बचपन में इलाहाबाद की खलासी लाइन की गलियों में पतंग लूटने के लिए फर्राटा भरने वाला ये बच्चा आगे चलकर क्रिकेट की दुनिया का सितारा बन जाएगा, किसी ने सपने में भी ये नहीं सोचा था। DainikBhaskar.comकैफ के बड़े भाई मो. आसिफ और पुराने घर के पड़ोसी-इलाहाबाद क्रिकेट एशोसिएशन के ज्वाइन कन्वेयर सोमेश्वर पांडेय से बातचीत की।

     


    पिता-भाई भी खेल चुके हैं रणजी
    - एजी ऑफिस में कार्यरत बड़े भाई मो. आसिफ बताते हैं- ''उनके पिता मो. तारीफ रेलवे में एसआईटी थे। अब रिटायर हो गए हैं। मां कैसरजहां हाउस वाइफ हैं। अब्बू यूपी और रेलवे की तरफ से रणजी खेल चुके हैं।''
    - ''मैं और छोटा भाई मो. सैफ भी क्रिकेटर रहे हैं, मो सैफ ओएनजीसी में नौकरी करता है। कैफ तीसरे नंबर के हैं, चौथे नंबर पर बहन डॉ ऊष्मा तारिक हैं। उनका निकाह इलाहाबाद के ही डॉ. इमरान से हुआ है।''

     

    इलाहाबाद में आठवीं तक पढ़े कैफ, ग्रैजुएशन नहीं कर पाए पूरा
    - ''मो. कैफ नगर महापालिका स्कूल में पढ़ते थे। आठवीं क्लास तक उन्होंने यहीं पढ़ाई की, उसके बाद उनका सि‍लेक्शन ग्रीन पार्क स्टेडियम कानपुर में हो गया। तो वो 1992-93 मे वहां क्रिकेट सीखने चले गए।''
    - ''वहीं रहने के दौरान उन्होंने हाईस्कूल और इंटर मीडियट एग्जाम यूपी बोर्ड से पास किया। कानपुर यूनिवर्सिटी में उन्होंने बीए में एडमीशन लिया, सेकेंड ईयर तक एग्जाम भी दिया, लेकिन कंप्लीट नहीं कर पाए।''
    - ''क्रिकेट के जुनून के आगे उसके लिए सब बेकार था। व्यस्तता भी ज्यादा हो गई थी, इसलिए बीए कंप्लीट नहीं कर पाया।''

    पहले फुटबॉल में इंटरेस्टेड थे कैफ, अब्बू बने पहले गुरु
    - ''शुरू में फुटबॉल के प्रेमी रहे मो. कैफ को क्रिकेट की तरफ उनके अब्बू ने मोड़ा, वही उनके पहले गुरु थे। 10 साल की उम्र में ही उन्हें अब्बू ने क्र‍िकेट की ट्रेनिंग देना शुरू कर दी थी। कैफ बचपन से ही जुनूनी थे, वो जो ठान लेते थे वो करके रहते थे।''
     
    कैफ के बचपन के किस्से
    - ''कैफ बचपन में खेलने के लिए सुबह पांच बजे उठकर काटजू बाग पहुंच जाते थे। उनको दूध-रोटी और घी-रोटी-चीनी खाना बहुत पसंद था।''
    - ''इसके अलावा वो भीगा और भुना चना खाने के बहुत शौकीन हैं। प्रैक्टिस के दौरान उनके बैग में अक्सर चने भरे रहते थे।''
    - ''सुबह 5 से 10 काटजू बाग, शाम को 3 से 6 स्टेडियम और रात में 7 से 8 मोहल्ले की गली में ईंट का विकेट बना कर क्रिकेट की प्रैक्टिस करते थे।''

     

    क्रिकेट के लिए बड़े भाई की शादी में नहीं हुए शामिल
    - ''कैफ के अंदर क्रिकेट खेलने का जुनून इस कदर था कि वो कुछ भी छोड़ने को तैयार रहते थे। एक वाक्या 1995 का है।''
    - ''8 अक्टूबर 1995 को उनकी शादी थी। मैं घर का बड़ा लड़का था, पूरा परिवार एक्साइटेड था। उस वक्त वो कानपुर में क्रिकेट खेल रहे थे। छोटे होने की वजह से सब लोग चाहते थे कि कैफ शादी में आएं।''
    - ''पहले तो कैफ ने आने को कहा था लेकिन ऐन वक्त पर नहीं आए, बोले शादी के लिए क्रिकेट नहीं छोड़ सकता।''

     

    पतंग लूटने के लिए दिन भर मोहल्ले की गली में लगाते थे दौड़
    - उनके पड़ोसी सोमेश्वर पांडेय बताते हैं- ''कैफ बचपन में पतंग का शौकीन थे। पतंग उड़ाने से लेकर पतंग लूटने तक दिन भर गली में उनकी और उनके दोस्तों की धमा चौकड़ी लगी रहती थी।''
    - ''बिना खाना खाए वो दिन भर खेल में ही मस्त रहते थे। उनकी दौड़ और झपट्टा मारने की कला इतनी बेहतरीन थी कि उनके आगे कोई और पतंग नहीं लूट पाता था।''
    - ''यही कला आगे चलकर उनके क्रिकेट की फील्डिंग में उनकी सबसे अलग पहचान बनी।''

     

     

  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    ये फोटो कैफ ने जहीर की शादी के बाद पोस्ट की थी। लिखा था- फायर इन सागरिका आईज।
  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    मोहम्मद कैफ के 4 बैंक अकाउंट हैं। उनके दिल्ली में बने कैनरा बैंक अकाउंट में सबसे ज्यादा पैसा है। कैफ कैनरा बैंक में 1.5 करोड़ रुपए सेविंग्स में रखते हैं और 3.5 करोड़ बतौर FD।
  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    पूजा यादव जर्नलिस्ट रही हैं। अब वो इवेंट मैनेजमेंट का काम देखती हैं।
  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    कैफ की वाइफ पूजा के दिल्ली में 3 बैंक अकाउंट हैं। उनका टोटल बैंक बैलेंस महज 28 लाख रुपए का है। वहीं कैफ का बैंक बैलेंस 5.7 करोड़ रुपए का है।
  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    पूजा इन्वेस्टमेंट में बिलीव करती हैं। उन्होंने 8 म्यूचुअल फंड्स और बॉन्ड्स में इन्वेस्ट किया है। वहीं कैफ के कुल 2 जगह इन्वेस्टमेंट्स हैं। दोनों का कम्बाइन्ड इन्वेस्टमेंट 3.7 लाख रुपए का है।
  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    कैफ का इलाहाबाद की पीडी टंडन रोड पर शानदार बंगला है। 2001 में खरीदे इस बंगले की कीमत 1.44 करोड़ रुपए है।
  • इस ग्लैमरस लड़की का हसबैंड है ये क्रिकेटर, नहीं पूरा कर पाया ग्रैजुएशन
    +7और स्लाइड देखें
    2005 में कैफ ने कौशाम्बी में 6.5 लाख रुपए का खेत खरीदा था। उसकी प्रेजेंट कीमत 20 लाख रुपए है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Allahabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×