--Advertisement--

उत्तरप्रदेश: कौशांबी में लाशों को जीप में लाद उनके ऊपर पैर रखकर पोस्टमार्टम हाउस लाया पुलिसवाला

एसपी प्रदीप गुप्ता ने पूरे मामले को संज्ञान में लेते हुए सिपाही को लाइन हाज़िर कर दिया

Dainik Bhaskar

Aug 17, 2018, 06:20 PM IST

कौशांबी. उत्तरप्रदेश के कौशांबी में पुलिस का संवेदनहीन चेहरा सामने आया है। यहां पुलिस के जवानो ने एक के ऊपर एक दो लाशों को जीप में डाला। इसके बाद उनके ऊपर पैर रखकर एक सिपाही बैठ गया। इन दोनों की मौत गुरुवार को खड़ंजा बिछाने को लेकर दो पक्षों में हुए खूनी संघर्ष में हुई थी। मामला सामने आने के बाद एसपी प्रदीप गुप्ता ने आरोपी सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया है। पूरे मामले की जांच सर्किल अफसर चायल को दी गई है।

गुरुवार को सराय आकिल थाना क्षेत्र के चंदूपुर निवासी ग्राम प्रधान कमलेश उर्फ भइयन तालाबी नंबर की भूमि पर खड़ंजा बिछवा रहे थे। इस बीच गांव के ही ईश्वर शरण उर्फ कल्लू ने विरोध किया। इस पर ग्राम प्रधान ने तिल्हापुर चौकी पहुंचकर इसकी जानकारी दी। चौकी प्रभारी मनोज यादव ने सिपाही मसीउद्दीन व राजकुमार मिश्र को गांव भेजा। इसके बाद प्रधान फिर से खड़ंजा बिछवाने लगे। यह देख कल्लू आग बबूला हो उठा। उसने ललकारते हुए दो नाली बंदूक से ग्राम प्रधान के भाई रामलखन को गोली मार दी।

हालात काबू करने के लिए बुलानी पड़ी तीन थानों की पुलिस: रामलखन की मौत के बाद दोनों पक्ष से दर्जनों लोग लाठी व कुल्हाड़ी लेकर आमने-सामने आ गए। आक्रोशित ग्राम प्रधान पक्ष के लोगों ने पथराव करते हुए गोलीबारी शुरू कर दी। इस दौरान कल्लू के सीने में भी तमंचे की गोली जा लगी। इससे कल्लू ने भी मौके पर ही दम तोड़ दिया। पथराव में दोनों सिपाही भी मामूली तौर से घायल हुए। उन्होंने भागकर अपनी जान बचाई और सूचना थानाध्यक्ष व चौकी प्रभारी को दी। देखते ही देखते तीन थानों की फोर्स पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने दोनों पक्ष से आठ लोगों को धर-दबोचा।

गांव में तनाव: प्रधान कमलेश की तहरीर पर पुलिस ने मृतक कल्लू के भाई समेत आठ व विपक्ष के शिकायती पत्र पर प्रधान कमलेश समेत छह लोगों समेत कई अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया। घटना के बाद से गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। इसे देखते हुए एसपी ने गांव में क्यूआरटी व थाने की फोर्स तैनात कर दिया है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended