Hindi News »Uttar Pradesh »Allahabad» Cbi Submit Status Report Of Unnao Case In Allahabad High Court

उन्नाव रेप केस: सीबीआई ने दाखिल की स्टेटस रिपोर्ट, हाईकोर्ट जांच की धीमी रफ़्तार से नाखुश

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सभी मामलों की सुनवाई के लिए 21 मई की तारीख दी है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 02, 2018, 04:28 PM IST

  • उन्नाव रेप केस: सीबीआई ने दाखिल की स्टेटस रिपोर्ट, हाईकोर्ट जांच की धीमी रफ़्तार से नाखुश
    +1और स्लाइड देखें

    इलाहाबाद. इलाहाबाद हाईकोर्ट में बुधवार को सीबीआई ने उन्नाव रेप मामले में अपनी स्टेटस रिपोर्ट दाखिल कर दी है। साथ ही पीड़िता की माँ ने भी मृतक पति पर आर्म्स एक्ट में मुकदमा दर्ज कराने वाले पिंटू सिंह के लापता होने की जांच के लिए अर्जी दाखिल की है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सभी मामलों की सुनवाई के लिए 21 मई की तारीख दी है। चीफ जस्टिस डीबी भोसले और सुनीत कुमार की बेंच के सामने 4 मामलों की स्टेटस रिपोर्ट पेश की गयी है।

    सीबीआई की जांच रफ्तार धीमी होने से कोर्ट नाराज

    -वहीँ इलाहाबाद हाईकोर्ट में सीबीआई ने सुबह 10 बजे अपनी स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की। कोर्ट ने केस की जांच की धीमी रफ़्तार पर सीबीआई को फटकार भी लगाई है।
    -कोर्ट ने कहा कि कोर्ट हर बार आदेश नहीं देगी। सीबीआई कानून के तहत मामले में कार्यवाई करे।
    -यही नहीं कोर्ट ने कहा है कि सीबीआई पीड़िता और उसके रिश्तेदारों का भी बयान दर्ज करे। साथ ही जेल में हुई पिता की मौत के आरोपियों पर भी कार्यवाई करे। पूरे मामले पर कोर्ट ने सुनवाई के लिए 21 तारीख तय की है।

    उन्नाव से लखनऊ ट्रांसफर होंगे आरोपी

    -सीबीआई ने कोर्ट ने अर्जी दी है कि उन्नाव में दर्ज पॉस्को एक्ट का मुकदमा लखनऊ ट्रांसफर कर दिया जाए। इसके लिए आरोपियों को नोटिस भी जारी किया गया है। साथ ही आरोपियों को उन्नाव जेल से लखनऊ शिफ्ट करने की अर्जी भी कोर्ट ने मंजूर कर ली है। यही नहीं कोर्ट ने कहा कि आरोपियों की जमानत रद्द करायी जाए।

    11 अप्रैल को कोर्ट ने स्वतः लिया था संज्ञान

    -इस मामले का बीते 11 को हाईकोर्ट की इलाहाबाद खंडपीठ ने स्वतः संज्ञान लेते हुए विधायक की गिरफ़्तारी के आदेश दिए थे।
    -कोर्ट ने यह भी कहा था कि हमारी निगरानी में केस की जांच आगे बढ़ेगी। यह आर्डर कोर्ट ने तब दिया था जब मामला काफी बढ़ गया था।

    13 अप्रैल को हुई थी विधायक की गिरफ्तारी

    -13 अप्रैल को सुबह 4 से 5 बजे के बीच सीबीआई ने विधायक कुलदीप सेंगर को उनके इंदिरा नगर स्थित आवास से हिरासत में लिया था। दिनभर की पूछताछ के बाद देर रात 9 से 10 के बीच उनकी गिरफ़्तारी का एलान किया गया था। इससे पहले उनके भाई अतुल सिंह और अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।

    मामला एक नजर में

    -मामला पिछले साल 4 जून का है। कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ रेप की शिकायत दर्ज कराई गई। आरोप है कि 3 अप्रैल को विधायक के भाई अतुल ने विक्टिम पर केस वापस लेने का दबाव बनाया। 8 अप्रैल को पीड़िता के परिवार ने सीएम हाउस के सामने आत्मदाह की कोशिश की। पुलिस ने बचाया। 9 अप्रैल को विक्टिम के पिता की उन्नाव जेल में मौत हो गई। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आया कि मृतक के शरीर पर चोट के 14 निशान थे। माखी थाने के एसओ समेत 6 कॉन्स्टेबल को सस्पेंड किया गया।
    - बवाल बढ़ा तो जांच सीबीआई को सौंप दी गई। इसके पहले आरोपी विधायक ने पुलिस के सामने सरेंडर करने का नाटक किया। इससे पहले आरोपी विधायक योगी से मिलकर सफाई पेश कर चुके हैं।

  • उन्नाव रेप केस: सीबीआई ने दाखिल की स्टेटस रिपोर्ट, हाईकोर्ट जांच की धीमी रफ़्तार से नाखुश
    +1और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Allahabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×