माघ मेला / मकर संक्रांति; 16 घाटों पर आस्था की डुबकी लगा रहे श्रद्धालु, अब तक 42 लाख लोग कर चुके हैं स्नान

मकर संक्रांति पर सुबह से ही संगम तट पर जुटे हैं श्रद्धालु। मकर संक्रांति पर सुबह से ही संगम तट पर जुटे हैं श्रद्धालु।
कपकपाती ठंड में स्नान के लिए पहुंचे श्रद्धालु कपकपाती ठंड में स्नान के लिए पहुंचे श्रद्धालु
संगम तट पर उमड़ा श्रद्धालुओं का रेला। संगम तट पर उमड़ा श्रद्धालुओं का रेला।
संगम में स्नान करती साधुओं की टोली। संगम में स्नान करती साधुओं की टोली।
मकर संक्रांति पर स्नान करते श्रद्धालु। मकर संक्रांति पर स्नान करते श्रद्धालु।
माघ मेला में आए संत। माघ मेला में आए संत।
माघ मेले की सुरक्षा में तैनात अधिकारी माघ मेले की सुरक्षा में तैनात अधिकारी
माघ मेले में स्नान के लिए पहुंचा परिवार। माघ मेले में स्नान के लिए पहुंचा परिवार।
बुधवार सुबह संगम में स्नान करने पहुंचे कुछ युवा। बुधवार सुबह संगम में स्नान करने पहुंचे कुछ युवा।
X
मकर संक्रांति पर सुबह से ही संगम तट पर जुटे हैं श्रद्धालु।मकर संक्रांति पर सुबह से ही संगम तट पर जुटे हैं श्रद्धालु।
कपकपाती ठंड में स्नान के लिए पहुंचे श्रद्धालुकपकपाती ठंड में स्नान के लिए पहुंचे श्रद्धालु
संगम तट पर उमड़ा श्रद्धालुओं का रेला।संगम तट पर उमड़ा श्रद्धालुओं का रेला।
संगम में स्नान करती साधुओं की टोली।संगम में स्नान करती साधुओं की टोली।
मकर संक्रांति पर स्नान करते श्रद्धालु।मकर संक्रांति पर स्नान करते श्रद्धालु।
माघ मेला में आए संत।माघ मेला में आए संत।
माघ मेले की सुरक्षा में तैनात अधिकारीमाघ मेले की सुरक्षा में तैनात अधिकारी
माघ मेले में स्नान के लिए पहुंचा परिवार।माघ मेले में स्नान के लिए पहुंचा परिवार।
बुधवार सुबह संगम में स्नान करने पहुंचे कुछ युवा।बुधवार सुबह संगम में स्नान करने पहुंचे कुछ युवा।

  • प्रयागराज में 10 जनवरी को शुरू हुआ था माघ मेला, 43 दिनों तक चलेगा
  • स्नान के लिए बनाए गए हैं 16 घाट, महिलाओं के लिए 700 चेंजिंग रूम बने

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2020, 12:54 PM IST

प्रयागराज. गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम की नगरी प्रयागराज में माघ मेला-2020 मनाया जा रहा है। यहां स्नान, दान, तप-जप के लिए तमाम श्रद्धालु व संत कल्पवास कर रहे हैं। बुधवार सुबह से ही श्रद्धालु लगातार संगम में स्नान के लिए पहुंच रहे हैं। मेला प्रशासन से जुड़े अधिकारियों का दावा है कि मकर संक्रांति के मौके पर कड़ी सुरक्षा के बीच अब तक 42 लाख से अधिक भक्त संगम में डुबकी लगा चुके हैं। वहीं नागवासुकि से अरैल के बीच संगम के 16 घाटों पर श्रद्धालुओं के स्नान की व्यवस्था की गई है। 

प्रशासन ने बुधवार को यहां करीब 80 लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने का अनुमान लगाया है। भोर से ही श्रद्धालुओं ने पवित्र त्रिवेणी में पुण्य की डुबकी लगानी शुरू कर दी है। वहीं, मंगलवार की भोर से ही स्नान करने श्रद्धालु पहुंचने लगे थे। बुधवार तड़के गंगा और संगम तट श्रद्धालुओं से लबालब दिखाई देने लगा। स्नान, ध्यान और दान का सिलसिला जारी है। मंगलवार को स्नान के बाद भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु तंबुओं की नगरी में रुके रहे, बुधवार को भी पुण्य की डुबकी लगा रहे हैं। 

2500 बीघा क्षेत्रफल में बसाया गया है मेला परिसर

माघ मेला पहली बार 2500 बीघा क्षेत्रफल में बसाया गया है। पिछले साल इसका दायरा 2000 बीघा था। यहां करीब पांच लाख तंबुओं व तिरपाल का अस्थायी शहर बयाया गया है। माघ मेले की शुरुआत पौष पूर्णिमा से हुई है। मकर संक्रांति पर्व पर मुख्य स्नान होगा। इसके लिए सोमवार से ही श्रद्धालु संगम पहुंचे लगे थे। बुधवार को मकर संक्रांति पूर्व पूरे देश में मनाया जाएगा। लेकिन मंगलवार से ही लोगों ने स्नान-दान शुरू कर दिया है। 

नागवासुकि से अरैल के बीच संगम के 16 घाटों पर श्रद्धालुओं के स्नान की व्यवस्था की गई है। महिलाओं के लिए 700 चेंजिंग रूम बना गए हैं। वर्ष 2018 के मेले में 5 सेक्टर थे, जबकि इस बार 6 सेक्टर में मेला बसाया जा रहा है। माघ मेले के दौरान रेलवे ने मकर संक्रांति पर्व पर 225 मेला स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया है।

मकर संक्रांति की यह पौराणिक मान्यताएं

भारतीय विद्या भवन के प्राचार्य डॉ. त्रिवेणी प्रसाद त्रिपाठी के मुताबिक मकर संक्रांति के साथ कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हैं। माना जाता है कि इस दिन सूर्य भगवान अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उनके घर जाते हैं। शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं। इसलिए इस दिन को मकर सक्रांति के नाम से जाना जाता है। ये भी कहा जाता है कि इसी दिन भगवान विष्णु ने असुरों का अंत कर युद्ध समाप्ति की घोषणा की थी व सभी असुरों का सिर मंदार पर्वत में दबा दिया था। उसी दिन से मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है।

यह भी माना जाता है मकर संक्रांति के दिन ही गंगा जी भागीरथ के पीछे- पीछे कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में उनसे जा मिली थी। अन्य मान्यता है कि गंगा को धरती पर लाने वाले भागीरथ ने अपने पूर्वजों के लिए इस दिन तर्पण किया था, जिसे स्वीकार कर गंगा समुद्र में जाकर मिल गई थी। ये भी मान्यता है कि सर शय्या पर लेटे हुए भीष्म पितामह ने अपना शरीर त्यागने के लिए मकर संक्रांति के दिन का ही चयन किया था। एक अन्य मान्यता के अनुसार मकर संक्रांति के दिन ही यशोदा ने कृष्ण जन्म के लिए व्रत किया था, जिसके बाद मकर संक्रांति के व्रत का प्रचलन हुआ।

संक्रांति पर दान का विशेष महत्व
संक्रांति पर दान करने का विशेष महत्व है। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस दिन किए गए दान का अक्षय पुण्य प्राप्त होता है। इस दिन जरूरतमंद लोगों को कंबल, गर्म वस्त्र, घी, दाल-चावल की खिचड़ी आदि का दान करें। गरीबों को भोजन कराएं तो और भी ज्यादा शुभ रहता है।

प्रमुख स्नान- 

तारीख प्रमुख स्नान श्रद्धालुओं की संख्या का अनुमान
15 जनवरी मकर संक्रांति 80 लाख
24 जनवरी मौनी अमावस्या 25 लाख
30 जनवरी  बसंत पंचमी 75 लाख
09 फरवरी माघी पूर्णिमा 75 लाख
21 फरवरी महाशिवरात्रि 15 लाख
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना