कुंभ  / गाजे बाजे के साथ निकली निर्मल अखाड़े की पेशवाई, देखने के लिए सड़कों पर उमड़ी भीड़



निर्मल अखाडे की पेशवाई में दिखी तस्वीर। निर्मल अखाडे की पेशवाई में दिखी तस्वीर।
पेशवाई के दौरान निकलता जुलूस पेशवाई के दौरान निकलता जुलूस
पेशवाई के दौरान सजा धजा अखाडे का साधू। पेशवाई के दौरान सजा धजा अखाडे का साधू।
सिंहासन पर बैठे अखाड़े के महामंडलेश्वर सिंहासन पर बैठे अखाड़े के महामंडलेश्वर
पेशवाई के दौरान संतों का प्रदर्शन। पेशवाई के दौरान संतों का प्रदर्शन।
संगम में अलग मुद्रा में दिखा साधू। संगम में अलग मुद्रा में दिखा साधू।
संगम में अलग मुद्रामें दिखा साधू। संगम में अलग मुद्रामें दिखा साधू।
X
निर्मल अखाडे की पेशवाई में दिखी तस्वीर।निर्मल अखाडे की पेशवाई में दिखी तस्वीर।
पेशवाई के दौरान निकलता जुलूसपेशवाई के दौरान निकलता जुलूस
पेशवाई के दौरान सजा धजा अखाडे का साधू।पेशवाई के दौरान सजा धजा अखाडे का साधू।
सिंहासन पर बैठे अखाड़े के महामंडलेश्वरसिंहासन पर बैठे अखाड़े के महामंडलेश्वर
पेशवाई के दौरान संतों का प्रदर्शन।पेशवाई के दौरान संतों का प्रदर्शन।
संगम में अलग मुद्रा में दिखा साधू।संगम में अलग मुद्रा में दिखा साधू।
संगम में अलग मुद्रामें दिखा साधू।संगम में अलग मुद्रामें दिखा साधू।

  • दोपहर में पारम्परिक तरीके से निकला जुलूस
  • शाही तरीके से मेला क्षेत्र में अखाड़े ने किया प्रवेश 

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2019, 03:18 PM IST

प्रयागराज (इलाहाबाद). कुंभ में शाही स्नान से पहले अखाड़ों की पेशवाई का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में रविवार को प्रयाग में शाही अंदाज में निर्मल अखाड़े की पेशवाई निकाली गई। अखाड़े के महामंडेलष्वर पूरे राजसी ठाट बाट के साथ सिंहासन पर बैठे थे और उनके आगे आगे संतों का कारवां निकल रहा था। इस दौरान जुलूस में महिलाएं भी शामिल हुईं। पूरे रास्ते ढोल और नगाड़े बजते रहे और साधू संत थिरकते रहे।

 

प्रयाग में मेला क्षेत्र में प्रवेश करने का यह अपना अद्भुत एहसास है। संतों ने कहा कि सनातन परम्परा की रक्षा करने के लिए ही अखाड़ो का निर्माण किया गया था। मेला क्षेत्र में इससे पहले कई प्रमुख अखाड़ों की पेशवाई निकल चुकी है।  
 

COMMENT