प्रयागराज / पहली बार 2500 बीघा क्षेत्रफल में बसेगा मेला, पौष पूर्णिमा से शुरू होगा एक माह का कल्पवास

10 जनवरी से शुरू होगा माघ मेला। 10 जनवरी से शुरू होगा माघ मेला।
माघ मेले में सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी देतीं एसपी माघ मेला पूजा यादव। माघ मेले में सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी देतीं एसपी माघ मेला पूजा यादव।
X
10 जनवरी से शुरू होगा माघ मेला।10 जनवरी से शुरू होगा माघ मेला।
माघ मेले में सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी देतीं एसपी माघ मेला पूजा यादव।माघ मेले में सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी देतीं एसपी माघ मेला पूजा यादव।

  • माघ मेले का क्षेत्रफल बढ़ने से सुरक्षा संरक्षा और घाटों का एरिया भी बढ़ाया गया 
  • 10 जनवरी पौष पूर्णिमा को होगा पहला स्नान

Dainik Bhaskar

Jan 03, 2020, 04:21 PM IST

प्रयागराज. कुंभ-2019 आयोजन ने विश्व पटल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। यही वजह है कि, यहां कल्पवासियों की संख्या में खासा इजाफा हुआ है। संगम की रेती पर 31 सौ संस्थाओं को भूमि दी गई है। यह आंकड़ा चार पहुंचने की संभावना है। नतीजा माघ मेला 2020 का दायरा 500 बीघा बढ़ा दिया गया है। पौष पूर्णिमा स्नान के साथ 10 जनवरी से मेला शुरू हो रहा है। इसी दिन से 1 माह के लिए जप, तप, स्नान, ध्यान, दान और व्रत का कल्पवास शुरू हो जाएगा। 


इस बार का माघ मेला कई मायनों में विशेष है। क्षेत्रफल में यह माघ मेला अब तक का सबसे बड़ा होगा। इस बार लगभग ढाई हजार बीघे में तंबुओं की नगरी बसाई जा रही है। वर्ष 2018 के माघ मेले की अपेक्षा 40 फीसद क्षेत्रफल इस बार बढ़ाया गया है। वैसे इस साल लगभग 2000 बीघे में मेला बसाने का लेआउट तैयार हुआ था। मगर दलदल और कटान के साथ ही ज्यादा संस्थाओं के आने के कारण क्षेत्रफल को करीब 500 बीघे बढ़ा दिया गया है। सेक्टर 5 और 6 में यह क्षेत्रफल बढ़ाया गया है। 

वर्ष 2018 के मेले में 5 सेक्टर थे, जबकि इस बार 6 सेक्टर में मेला बसाया जा रहा है। सेक्टर 1 क्षेत्रफल के लिहाज से सबसे बड़ा होगा। इसमें संगम परेड मैदान शामिल है। सेक्टर एक में ही सरकारी विभागों के कार्यालय कंट्रोल रूम, पुलिस लाइन, मीना बाजार व झूले लगाए जाएंगे। सेक्टर एक को छोड़कर सभी सेक्टरों में कल्प वासियों को बसाया जाएगा। सेक्टर 2 काली मार्ग से नागवासुकि तक होगा, जबकि सेक्टर 3, 4 और 5 झूसी क्षेत्र में होगा। सेक्टर 6 अरैल क्षेत्र में होगा। खाक चौक, दंडी बाड़ा और आचार्य बाड़ा भी झूसी क्षेत्र में ही होंगे। मेलाधिकारी रजनीश कुमार मिश्रा का कहना है कि तैयारियों को फिनिशिंग टच दिया जा रहा है।

13 थाने और 40 पुलिस चौकियां बनेंगी

सुरक्षा के लिहाज से इस बार मेला क्षेत्र में कुल 13 पुलिस थाने बनाए गए हैं और उनसे संबद्ध 40 पुलिस चौकियां बनाई गई हैं। पिछले माघ मेला में 12 थाने और 36 पुलिस चौकी थी। मेला क्षेत्र को दो जोन और 6 सेक्टरों में बांटा गया है। पुलिस लाइन माघ मेला के गंगोत्री सभागार में माघ मेला सुरक्षा एवं पुलिस की तैयारियों के सम्बन्ध में पुलिस अधीक्षक मेला पूजा यादव द्वारा इस बार के माघ मेले में नाविकों को कड़े निर्देश निर्देश दिए हैं। यात्रियों को लाइफ जैकेट पहनाने के लिए साथ-साथ कई जगह वन-वे की व्यवस्थाएं भी माघ मेले प्रशासन द्वारा की जाएगी। साथ ही लगभग 22 सौ से अधिक पुलिसकर्मी इस माघ मेले में सुरक्षा की दृष्टि से रहेंगे। तैनात सीसीटीवी हाईटेक ड्रोन एवं प्रथम बार 112 नंबर की बाइक एवं कार का प्रयोग ही माघ मेले में पुलिस बल द्वारा किया जाएगा।   


स्नान घाटों पर विशेष सुरक्षा व्यवस्था की जाएगी। यहां जल पुलिस की भी व्यवस्था होगी। जिनके साथ गोताखोरों की टीम तैनात रहेगी। जल पुलिस नदी में वोट और मोटर बोट पर तैनात होंगे। स्नान घाटों पर महिला पुलिस के साथ ही पुलिस पीएसी के जवान अलर्ट मोड पर रहेंगे। साथ में खुफिया एजेंसियां भी घाटों के आसपास नजर रखती रहेंगी।

मेला क्षेत्र में बनाए गए 20-20 बेड के 2 बड़े अस्पताल

माघ मेला क्षेत्र में आने वाले श्रद्धालु और कल को वासियों को स्वास्थ्य सुविधाएं देने के मद्देनजर कुल 2 चिकित्सालय बनाए गए हैं, जो 20-20 बेड के होंगे। इनके अलावा तीन आयुर्वेदिक और 3 होम्योपैथिक चिकित्सालय बनाए जा रहे हैं। यहां पर 10 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं। हर सेक्टर में दो-दो पीएससी बनाए जाएंगे।


5 किमी लम्बा होगा स्नान घाट

माघ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की तादात को देखते हुए इस बार मेला क्षेत्र में तकरीबन 5 किलोमीटर लंबा स्नान घाट बनाया जा रहा है। गंगा और यमुना किनारे कुल 16 स्नान घाट बनाए जाएंगे। सबसे बड़ा संगम स्नान घाट होगा। सर्कुलेटिंग एरिया में 3 किलोमीटर के स्नान घाट की तैयारी चल रही है। यहां 1 मिनट में 13 से 15000 श्रद्धालु स्नान कर सकेंगे। महिलाओं के लिए 700 चेंजिंग रूम बनाए जा रहे हैं। 50 हाई मास्ट रोशनी के लिए लगाए गए हैं। एलइडी फिटिंग भी लगाई जा रही है, जो 300 वाट की होंगी। रात में सभी स्नान घाट दूधिया रोशनी से जगमग दिखाई देंगे। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना