--Advertisement--

इलाहाबाद: रिटायर्ड दरोगा की पीट-पीटकर हत्या, हिस्ट्रीशीटर सहित 10 लोगों पर मुकदमा; हाईकोर्ट ने मामले में लिया संज्ञान

हत्या का आरोप पड़ोस में रहने वाले हिस्ट्रीशीटर और उसके परिवार वालों पर है

Danik Bhaskar | Sep 04, 2018, 03:17 PM IST

इलाहाबाद. यहां के शिलाखाना मोहल्ले में सोमवार को एक रिटायर्ड दरोगा की पीट- पीटकर हत्या कर दी। मामला जमीनी विवाद का बताया जा रहा है। हत्या का आरोप पड़ोस में रहने वाले हिस्ट्रीशीटर और उसके परिवार वालों पर लगा है। मामले में पुलिस ने 10 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। मंगलवार को मामले में हाईकोर्ट इलाहाबाद ने स्वतः संज्ञान लिया। कोर्ट ने अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल से पूछा है कि सीसीटीवी फुटेज होने के बावजूद पुलिस आरोपियों को क्यों नहीं पकड़ पा रही है। कोर्ट ने 5 सितम्बर को केस से जुडी जानकारी मांगी है। साथ ही, इस मामले में जनहित याचिका कायम की। मामले में पुलिस ने एक आरोपी मोहम्मद युसूफ को गिरफ्तार किया है।

घर का सामान लाने साइकिल से निकले थे: 70 वर्षीय अब्दुल समद खां शिवकुटी के शिलाखाना में परिवार सहित रहते हैं। सोमवार को सुबह 9.45 बजे वह साइकिल से घर का सामान लाने निकले थे। घर के बाहर गली में पहुंचते ही उन पर लोहे की रॉड और लाठी-डंडों से हमला कर दिया गया। उन पर बेतहाशा वार किए गए। वह अचेत हो गए। हमलावर उन्हें मरा जान भाग गए। मोहल्ले वालों ने परिवार को सूचना दी। साथ ही सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस भी पहुंची।

अस्पताल में हुई मौत: परिजन उन्हें अचेत अवस्था में बेली अस्पताल ले गए। जहां से उन्हें एसआरएन अस्पताल रेफर कर दिया गया। तकरीबन शाम 4.30 बजे उनकी मौत हो गई। परिजनों की तहरीर पर पड़ोसी जुनैद समेत दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। जुनैद कमाल हिस्ट्रीशीटर बताया जा रहा है। मृतक अब्दुल समद 2006 में पुलिस विभाग के सब इंस्पेक्टर पद से रिटायर हुए थे। रिटायर्मेंट के बाद से ही वह शिलाखाना मोहल्ले में परिवार सहित रह रहे थे।

क्या कहना है पुलिस का: एसएसपी नितिन तिवारी ने बताया कि पूछताछ में मृतक के परिजनों ने पड़ोसी जुनेद कमाल से जमीनी विवाद होना बताया है। इसका मामला न्यायालय में विचाराधीन है। इस मामले में जुनैद, उसके तीन बेटों समेत 10 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।