प्रयागराज / वॉट्सऐप की मदद से एक माह बाद मिला गुजरात में चाचा से बिछुड़ा भतीजा



चाचा के साथ गनेश। चाचा के साथ गनेश।
X
चाचा के साथ गनेश।चाचा के साथ गनेश।

  • गुमशुदा तलाश ग्रुप से गांव के एक शख्स को मिली जानकारी तो उसने परिजनों को फोटो दिखाकर कराई पहचान
  • चाचा से बिछड़ने के बाद बालक एक होटल पर पहुंचा

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 02:30 PM IST

प्रयागराज. गुजरात में बिछुड़े बालक को उसके परिजन से मिलवाने में सोशल मीडिया ने अहम भूमिका निभाई है। दरअसल, गुजरात में एक व्यक्ति ने बच्चे की फोटो व उसके आधार कार्ड की फोटो को वॉट्सऐप ग्रुप पर साझा किया, जो बालक के गांव तक पहुंच गया। इसके बाद बच्चे की लोकेशन की जानकारी उसके चाचा को मिली, जो गुजरात में ही मौजूद थे। तत्काल चाचा ने मौके पर पहुंचकर भतीजे को अपने संरक्षण में लिया है। परिवार ने समाजसेवियों का आभार जताया है। 

 

ये भी पढ़ें

Yeh bhi padhein

 

यह है पूरा मामला
कौशांबी के मंझनपुर थाना क्षेत्र के शरीफपुर ओसा गांव निवासी गनेश (13 वर्ष) पुत्र सन्तलाल बहुत ही गरीब परिवार से है। गनेश एक माह पूर्व अपने रिश्ते में चाचा के साथ जीवन यापन के लिए गुजरात शहर के राजकोट गया। जहां वह अपने चाचा मनोज से बिछुड़ गया। इस बीच वह घूमते हुए एक सप्ताह पूर्व राजकोट में स्थित रसिक चरोला के होटल पर जा पहुंचा। होटल मालिक ने बच्चे से पता पूछा तो उसने अपना आधार कार्ड दिया।
  

ऐसे मिली मदद, परिजनों से मिला बच्चा
होटल मालिक ने किसी के माध्यम से 'अज्ञात गुमशुदा तलाश ग्रुप' में बच्चे की फोटो एवं आधार कार्ड वायरल किया। फोटो वायरल होने के बाद, ग्रुम एडमिन मोहम्मद आरिफ ने कौशांबी के एक समाजसेवी मोहम्मद गुलजार को बीते 11 सितंबर को जानकारी दी तो वह बच्चे के घर पहुंचे और परिजनों को फोटो दिखाकर पहचान कराया। होटल के मालिक से परिजनों की फोन से बात कराया। जिसके बाद बच्चे के परिजनों ने गुजरात में मौजूद बच्चे के चाचा मनोज को फोन करके पूरी जानकारी दी। इस तरह गुजरात में गुम हुए बच्चे को उसके परिजनों तक पहुंचने का काम सोशल मीडिया ने किया है। 

 

DBApp

 

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना