यूपी पीसीएस  / दादा का सपना पूरा हो, इसलिए सेकेंड टॉपर अनुपम ने छोड़ी थी 30 लाख रुपए की नौकरी



अनुपम मिश्रा। अनुपम मिश्रा।
परिवार के साथ अनुपम। परिवार के साथ अनुपम।
X
अनुपम मिश्रा।अनुपम मिश्रा।
परिवार के साथ अनुपम।परिवार के साथ अनुपम।

  • उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने गुरुवार शाम जारी किया परीक्षा परिणाम
  • साक्षात्कार में शामिल हुए थे 2029 अभ्यर्थी, 676 हुए सफल

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2019, 05:12 PM IST

प्रयागराज. यमुनापार के एडीए कॉलोनी में एमआईजी-29 के रहने वाले अनुपम मिश्रा ने पीसीएस-2017 में पूरे प्रदेश में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। पुलिस विभाग में कार्यरत दादा का सपना था कि उनका सबसे दुलारा पोता बड़ा होकर डिप्टी कलक्टर बने। बचपन में अनुपम को दादा के सपनों और डिप्टी कलक्टर का कोई ज्ञान नहीं था। इसलिए वह सिर्फ अपनी पढ़ाई पर फोकस किए हुए थे। बड़े होकर वह एमएनएनआईटी से कंप्यूटर साइंस में बीटेक करके अमरेकिन कंपनी में साफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी कर ली। 15 लाख के सालाना पैकेज पर नौकरी करने वाले अनुपम मिश्रा ने चार साल तक वहां काम किया। फिर अचानक उन्हें अपने दादा का सपना याद आया।

 

बस उसी सपने को पूरा करने के लिए अनुपम मिश्रा ने 2016 में मल्टीनेशनल कंपनी क्रोनोज को रिजाइन कर दिया। कंपनी ने उन्हें रिजाइन करने से मना करने के लिए 30 लाख के पैकेज तक का ऑफर दिया, लेकिन वह नहीं माने और नौकरी छोड़कर घर लौट आए। यहां उन्होंने अपनी तैयारी शुरू की। पहला एग्जाम आईएएस का दिया, जिसमें वह मेंस तक गए लेकिन एक नंबर की वजह से वह चूक गए। वर्ष 2017 में उन्होंने पीसीएस का एग्जाम दिया। जिसमें उन्होंने सेकेंड पोजीशन हासिल कर न केवल अपने दादा के सपनों को साकार किया, बल्कि अपने मां-बाप की मेहनत और त्याग को भी सार्थक कर दिया।


जीआईसी से इंटर तक की थी पढ़ाई

करछना तहसील के पीड़ी राम का पूरा गांव निवासी प्रमोद कुमार मिश्रा की दो बेटियों पूजा और प्रीति तथा एक बेटे अनुपम हैं। अनुपम ने प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा मोहल्ले के स्कूल से शुरू की। उसके बाद एलआईसी में हेड एडमिनिस्ट्रेटिव अफसर पिता ने उनका नाम जीआईसी में लिखा दिया। जहां से उन्होंने 2004 में हाईस्कूल एवं 2006 में इंटर की पढ़ाई पूरी की।

 

बिना टाइम टेबल के छह से सात घंट तक की पढ़ाई

अनुपम ने चार साल की नौकरी छोड़ने के बाद घर आकर पूरे एक वर्ष दर्शन शास्त्र और समाज शास्त्र विषय को लेकर तैयारी प्रारंभ की। वह बिना टाइम टेबल के प्रतिदिन छह से सात घंटे तक पढ़ाई करते थे। बताया कि उनकी बहन बहन पूजा बीटीसी करने के बाद टीचिंग जाब की तैयारी कर रही है जबकि छोटी बहन प्रीति इलाहाबाद विश्वविद्यालय में बाटनी के हेड प्रोफेसर अनुपम दीक्षित के अंडर में रिसर्च कर रही हैं।

 

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने गुरुवार की शाम यूपी पीसीएस-2017 का परिणाम घोषित कर दिया। साक्षात्कार के लिए 2029 अभ्यर्थियों को बुलाया गया था। इस दौरान 59 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे। इस बार 676 अभ्यर्थियों को सफल घोषित किया गया है। इस परीक्षा में प्रतापगढ़ के कुंडा निवासी अमित शुक्ला टॉपर रहे हैं, जबकि प्रयागराज के अनुपम मिश्रा दूसरे व इसी जिले की मीनाक्षी पांडेय तीसरे स्थान पर रहीं।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना