--Advertisement--

जिन्ना विवाद: दरगाह आला हजरत ने जारी किया जिन्ना के खिलाफ फ़तवा, कहा-जिन्ना के समर्थन में खड़े होना जायज नहीं

अलीगढ़ में शुरू हुआ जिन्ना विवाद अब बरेली पहुंच गया है।

Dainik Bhaskar

May 08, 2018, 01:33 PM IST
दरगाह के प्रवक्ता मौलाना शहाबुद्दीन ने कहा कि दरगाह आला हजरत से जिन्ना के खिलाफ फ़तवा जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन्ना देश के बंटवारे के लिए जिम्मेदार हैं। दरगाह के प्रवक्ता मौलाना शहाबुद्दीन ने कहा कि दरगाह आला हजरत से जिन्ना के खिलाफ फ़तवा जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन्ना देश के बंटवारे के लिए जिम्मेदार हैं।

बरेली. अलीगढ़ में शुरू हुआ जिन्ना विवाद अब बरेली पहुंच गया है। बरेलवी मसलक की सबसे बड़ी दरगाह आला हजरत से जिन्ना के खिलाफ फ़तवा जारी किया गया है। फ़तवा में कहा गया है कि जिन्ना मुल्क के बंटवारे के जिम्मेदार हैं। उसके समर्थन में खड़ा होना जायज नहीं है। फ़तवा में कहा गया है कि देश में जिन्ना की जहां भी तस्वीरे लगी हैं सभी को उतार देना चाहिए।

क्या कहा दरगाह आला हजरत के प्रवक्ता ने ?

-दरगाह के प्रवक्ता मौलाना शहाबुद्दीन ने कहा कि दरगाह आला हजरत से जिन्ना के खिलाफ फ़तवा जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन्ना देश के बंटवारे के लिए जिम्मेदार हैं।

- मुसलमानों को जिन्ना के समर्थन में खड़े होना जायज नहीं है। जिन्ना दुश्मन देश का हिस्सा हैं। वह हमारे देश का हिस्सा नहीं है। ऐसे में उनकी जहां भी तस्वीर लगी है उसे उतार देना चाहिए।

किसने पूछा था सवाल ?

-पिछले कई दिनों से अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्ना का फोटो लगाने को लेकर विवाद चल रहा है। बरेली के सीबीगंज निवासी बख्तियार खान ने दरगाह आला हजरत मरकजे दारुल इफ्ता उलेमा से जिन्ना का फोटो लगाये जाने को लेकर शरई रोशनी में सवाल पूछा था। इस पर दारुल इफ्ता के जिम्मेदारों शरई रोशनी में फतवा देते हुए जवाब दिया है। जिसमे जिन्ना की तस्वीर लगाना जायज नहीं माना गया है।

भाजपा सांसद की चिट्‌ठी से शुरू हुआ था विवाद
-विवाद भाजपा सांसद और एएमयू कोर्ट मेंबर सतीश गौतम की चिट्‌ठी से शुरू हुआ था। छात्रसंघ हॉल में लगी मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर पर सवाल उठाते हुए उन्होंने 26 अप्रैल को वीसी प्रो तारिक मंसूर को पत्र लिखा।

-30 अप्रैल को पत्र सामने आने के बाद हिंदू संगठनों ने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की। वहीं, एएमयू छात्र संघ इसे नहीं हटाने पर अड़ा है। तस्वीर हटाने के लिए हिंदू युवा वाहिनी के कुछ कार्यकर्ता बुधवार को एएमयू कैंपस में घुस गए थे। इस दौरान हुए लाठीचार्ज में कई छात्र घायल हो गए थे।

क्या है प्रदर्शनकारी छात्रों की मांग?

- अलीगढ़ में धरना दे रहे छात्रों की मांग है कि जिन्ना की तस्वीर हटाने के लिए बुधवार को कैंपस में घुसे हिंदू युवा वाहिनी के लोगों को गिरफ्तार किया जाए और मामले की न्यायिक जांच हो। जिन्ना प्रकरण को तूल देने के लिए सोशल मीडिया पर समर्थन व विरोध में लगातार मैसेज, फोटो व वीडियो शेयर किए जा रहे हैं।

1938 में एएमयू आए थे जिन्ना

बता दें कि एएमयू के यूनियन हॉल में जिन्ना सहित 30 हस्तियों की तस्वीरें लगी हैं। जिन्ना 1938 में एएमयू आए थे। तभी उन्हें यूनियन की सदस्यता दी गई थी। 1920 में एएमयू के गठन के वक्त महात्मा गांधी पहले मानद सदस्य थे।

मुसलमानों को जिन्ना के समर्थन में खड़े होना जायज नहीं है। जिन्ना दुश्मन देश का हिस्सा हैं। मुसलमानों को जिन्ना के समर्थन में खड़े होना जायज नहीं है। जिन्ना दुश्मन देश का हिस्सा हैं।
X
दरगाह के प्रवक्ता मौलाना शहाबुद्दीन ने कहा कि दरगाह आला हजरत से जिन्ना के खिलाफ फ़तवा जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन्ना देश के बंटवारे के लिए जिम्मेदार हैं।दरगाह के प्रवक्ता मौलाना शहाबुद्दीन ने कहा कि दरगाह आला हजरत से जिन्ना के खिलाफ फ़तवा जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन्ना देश के बंटवारे के लिए जिम्मेदार हैं।
मुसलमानों को जिन्ना के समर्थन में खड़े होना जायज नहीं है। जिन्ना दुश्मन देश का हिस्सा हैं।मुसलमानों को जिन्ना के समर्थन में खड़े होना जायज नहीं है। जिन्ना दुश्मन देश का हिस्सा हैं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..