Hindi News »Uttar Pradesh News »Gorakhpur News» Cattle Shelter Bad Condition In Maharajganj

यहां गौशाला में हो रही गायों की मौत, अधिकारी तलाश रहे कारण

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 14, 2018, 11:00 AM IST

महाराजगंज में एक हफ्ते के अंदर 20 से अधिक गायों की मौत हो गई है।
  • यहां गौशाला में हो रही गायों की मौत, अधिकारी तलाश रहे कारण
    +1और स्लाइड देखें

    महाराजगंज (यूपी). यहां पूर्वांचल के इकलौते मधवलियां गौ सदन में बीते एक हफ्तें के अंदर 20 से ज्यादा गायों ने दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है कि कम जगह में अधिक गाय रखने के कारण गायों की मौत हो रही है। हालांकि अभी गायों के मरने की कोई अधिकारिक पुष्टी नहीं हुई है।

    ये है पूरा मामला...

    - बता दे पूर्वांचल के कई जिलों से छुट्टा पशुओं की देखभाल के लिए इस गौ सदन में गायों को लाया जाता है, जहां जिला प्रशासन और गो सदन समिति उसकी देखभाल करती है। लेकिन बीते एक सफ्ताह के अंदर हुई 20 गायों की मौत के बाद भी अब तक अन्य गायो को बचाने के लिए गौ सदन के तरफ से कोई व्यस्था नहीं की गई है।
    - गो सदन के प्रबंधक जितेंद्र पाल ने कहा, ''हमारे यहां काफी संख्या में गाय गोरखपुर से आई है, जबकि हमारे गोसदन की क्षमता कम है और छत भी पर्याप्त नहीं है। हम किसी तरह से व्यवस्था कर के इन गायों को रख रहे हैं बाकी उच्चाधिकारियों को भी सूचित किया जा रहा है, इसके बावजूद भी समुचित व्यवस्था नहीं की जा रही है।
    - गौ सेवक, सेवक राम ने कहा, ''यहां गायों के रहने की व्यवस्था सही नहीं है। कम जगह में अधिक गाय रखी गई है, ऊपर ये ठंड बहुत है। इससे गायों की मौत हो रही है। अधिकारियों को इसकी सूचना दे दी गई है।''

  • यहां गौशाला में हो रही गायों की मौत, अधिकारी तलाश रहे कारण
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gorakhpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Cattle Shelter Bad Condition In Maharajganj
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Gorakhpur

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×