--Advertisement--

गोरखपुर: BRD मेडिकल कॉलेज के प्र‍िंसिपल ऑफिस में लगी आग

गोरखपुर में बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ऑफिस में आग लग गई।

Danik Bhaskar | Jan 08, 2018, 11:42 AM IST

गोरखपुर. यहां सोमवार सुबह 10 बजे बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ऑफिस में आग लग गई। मौके पर 3 फायर ब्रिगेड की गाड़ी घटनास्थल पर पहुंच गई और कड़ी मशक्कत के बाद आग को काबू किया। बताया जाता है कि इसी कमरे में बीआरडी मेडिकल कॉलेज गैस त्रासदी मामले के रिकॉर्ड भी रखे हुए थे। कुछ सप्ताह पूर्व डॉ गणेश कुमार ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल का पदभार ग्रहण किया था, जो अभी छुट्टी पर हैं। अंदाजा लगाया जा रहा है कि ये आग शार्ट सर्किट से लगी है।

4 घंटे में काबू हुई आग...

- आग की सूचना मिलते ही दमकल की 3 गाड़ियों ने घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया। प्रिंसिपल ऑफिस और उनके सहायक कक्ष आग की वजह से पूरी तरीके से तहस-नहस हो गए।
- इस बीच आग लगने के कारणों के लिए जांच कमेटी गठित की गई है। सीएफओ की अध्यक्षता में जांच कमेटी आग के कारणों का पता लगाएगी।
- प्रभारी प्राचार्य बीआरडी मेडिकल कॉलेज एके श्रीवास्तव ने कहा, ''प्रिंसिपल के कमरे के अलावा स्टेनो और रिकॉर्ड रूम में आग लग गई थी। आग को काबू कर लिया गया है। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं है।
- एसपी नार्थ गणेश साहा ने कहा, ''आग किन कारणों से लगी इसकी जांच की जा रही है। आग पर नियंत्रण कर लिया गया है, सीएफओ की अध्‍यक्षता में एक कमेटी गठित की गई है, जो आग के कारणों का पता लगाएगी।''

सरकारी आंकड़ों में महज 24 घंटे में मासूमों सहित हुई थी 30 की मौत...

- बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 10 और 11 अगस्त 2017 की रात की घटना के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर मुख्य सचिव राजीव कुमार के नेतृत्व में गठित चार सदस्यीय टीम ने ऑक्सीजन की कमी के लिए चार लोगों को दोषी मानते हुए आपराधिक मुकदमा दर्ज करने की संस्तुति की थी।

- मुख्य सचिव की रिपोर्ट के आधार पर इस मामले में मुकदमा दर्ज हुआ, लेकिन आरोपी उन सभी लोगों को बनाया गया, जिनको डीएम की रिपोर्ट में दोषी ठहराया गया था। डीजीएमई केके गुप्त की तहरीर पर 23 अगस्त 2017 को दिन में 12.45 बजे हजरतगंज कोतवाली में इस मामले में मुकदमा दर्ज हुआ।