गोरखपुर

--Advertisement--

यहां मई-जून के महीने में ही युवक-युवती बनते हैं दूल्हा-दुल्हन, ये है वजह

मामला सीएम योगी आद‍ित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर के संतकबीरनगर ज‍िले का है।

Danik Bhaskar

Dec 07, 2017, 04:44 PM IST
स‍िम्बोल‍िक। स‍िम्बोल‍िक।

संत कबीरनगर. सीएम योगी आद‍ित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर मंडल के संतकबीरनगर में एक ऐसा गांव है, जहां फसल कटने के बाद ही शहनाइयां बजती हैं। अप्रैल, मई और जून के महीने में ही यहां के युवक-युवती दूल्हे-दुल्हन बन पाते हैं। क्योंक‍ि जब तक फसल की कटाई नहीं होती, यहां बरात नहीं आती। वजह है गांव में सड़क का न होना। गांव में कोई सुवि‍धा न होने की वजह से कई लोगों की तय हुई शाद‍ियां भी टूट चुकी हैं।

आगे की स्लाइड्स में इन्फो के जर‍िए जान‍िए पूरी वजह...

ये है पूरा मामला

- मामला संतकीबरनगर ज‍िले के बड़गो गांव का है। यहां के दो ऐसे दल‍ित पूर्वे हैं, जहां की आबादी करीब एक हजार से अध‍िक है।

- गांव के प्रधान राजेंद्र न‍िषाद ने बताया, गांव के उत्तरी और पूर्वी ह‍िस्से में चकबंदी के दौरान सड़क नहीं छोड़ी गई। ऐसे में वहां का व‍िकास रुका हुआ है।

- ''क‍िसानों से कई बार र‍िक्वेस्ट भी क‍रता हूं क‍ि 7 से 8 फूट जमीन दे दें, ताक‍ि दल‍ित पूर्वा और भगत पूर्वा को जोड़ा जा सके।''

- ''गांव में बैठक कर मैंने चकबंदी कराने के ल‍िए चकबंदी आयुक्त को लेटर भेजा है, जो शासन स्तर पर लंब‍ित है। गांव में शुभ मुहूर्त में शादी का न होना यहां सड़कें नहीं होना मुख्य कारण है।''

- ''फसल कटने का इंतजार रहता है, जब तक फसल नहीं कट जाती है, शाद‍ियां नहीं हो पाती है।''


Click to listen..