--Advertisement--

इस शख्स को लोग बुलाते हैं स्पैरो मैन, अपने हाथों से पिलाता पक्षि‍यों को दूध

गोरखपुर में सुजीत अपने घर में घोसला बनाकर 800 गौरैया को पालते हैं।

Danik Bhaskar | Dec 26, 2017, 09:00 PM IST
गोरखपुर में सुजीत ने 800 गौरैैया गोरखपुर में सुजीत ने 800 गौरैैया

गोरखपुर (यूपी).यहां बेलघाट इलाके के रहने वाले सुजीत कुमार 800 से अधिक गौरैया का ठिकाना अपने घर में बना चुके हैं। गौरैया बचाने को ये काम 14 साल से कर रहे हैं। ये अपने हाथों से इन पक्ष‍ियों को दूध पिलाते हैं। इनके काम के कारण लोग इन्हें स्पैरो मैन बुलाते हैं।

आइसक्रीम स्टिक से बनाता है घोसला...

- सुजीत 14 साल पहले घर में एक गौरैया के जोड़ें को पालना शुरू किया। इनके लिए आइसक्रीम स्टिक से घोसला बनाया। इस जोड़े ने 4 अंडा दिया, धीरे-धीरे इनके आंगन में गौरैया की संख्या बढ़ने लगी। आज इनकी संख्या बढ़कर 800 से ऊपर हो गई।
- सुजीत ने बताया, ''पहले घरवाले इनकी चहचहाहट सुनकर परेशान होते थे लेकिन धीरे-धीरे ये जिंदगी का एक हिस्सा बन गए। छोटे बच्चों से लेकर घर के हर सदस्य के साथ ये गौरैया इस तरह से रहती हैं मानों ये लोग भी इनके परिवार का हिस्सा हो।''
- ''घर के सभी मेंबर पक्षियों को खास देखभाल करते है, गौरैया के बच्चों को अपने हाथों से दाना पानी और दूध पिलाया जाता है। इनके लिए घर में लगे सभी सीलिंग पंखे को हटा दिया है।''
- ''घर की दीवारों और छतों पर हर जगह गौरैया के लिए घोसला बनाकर टांग दिया है, हालांकि गौरैया सिर्फ गर्मियों में अंडे देती है लेकिन इस बार ठंड में भी अंडे देखने को मिल रही है।''

पत्नी करती है मदद
- सुजीत ने बताया, ''इस काम में पत्नी गुंजा और भाई दोनों सहयोग करते हैं। इन नन्ही चिड़िया के लुप्त होने के पीछे मोबाइल रेडियेशन और खेतों में प्रयोग होने वाला कीटनाशक दवा है।''
- पत्नी गुंजा ने कहा, ''शुरू-शुरू में अच्छा नहीं लगा, फिर इनका लगाव देखकर सोचा लोग कुत्ता पालते हैं, तो चिड़ियां क्यों नहीं पाल सकते है। अब ये पक्षी हमारे बच्चें की तरह रहते हैं।''
- पड़ोसी विनय ने कहा, ''सुजीत का ये काम काबिले तारीफ है। वो लोगों को संदेश देते है कि कैसे विलुप्त होने वाली पक्षी को बचाया जाए। उनको देखकर हम लोग बहुत कुछ सीखते हैं।''​