--Advertisement--

वो दिन दूर नहीं जब BSP का सिंबल भी हो जाएगा जब्त: स्वामी प्रसाद मौर्य

श्रम मंत्री ने गोरखपुर के लेबर अड्डे से मजदूरों को संबोध‍ित किया।

Danik Bhaskar | Jan 18, 2018, 06:44 PM IST

गोरखपुर (यूपी). योगी सरकार के श्रम मंत्री और पूर्व बसपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा प्रमुख मायावती पर गोरखपुर में जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, ''मायावती को अपने पार्टी की चिंता करनी चाहिए जिस नीति और कार्यक्रम को लेकर उन्होंने बसपा बनाया था। उस पर अमल करना चाहिए। न्यायपालिका में क्या हो रहा है, उसपर इनको देखने और ध्यान देने की जरूरत नहीं है।''

मायावती पर साधा निशाना...

- हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों द्वारा मीडिया के सामने आकर लोकतंत्र को खतरा बताया था। बसपा प्रमुख मायावती ने इसपर चिंता व्यक्त किया था। स्वामी ने कहा, ''उत्तर प्रदेश की जनता को अब किसी के बहकावे में आने वाली नहीं है। जो जज पीड़ितों असहायों को न्याय देते हैं, वह लोकतंत्र को खतरे से भी बचाना जानते हैं।''

- ''न्यायपालिका के भीतर जजों की आपसी लड़ाई जजों के द्वारा खुद ही सुलझ जाएगी। इसकी चिंता मायावती न करें। उन्हें खुद अपने दल का भविष्य खतरे में दिखाई दे रहा है।''
- ''खबर ये भी चर्चा में है कि वह फूलपुर लोकसभा उपचुनाव बसपा के सिंबल पर न लड़कर बिना सिंबल के मैदान में उतरने का मन बना रही है। यूपी की राजनीति में बसपा की जो स्थिति है, कि वो दिन दूर नहीं जब बसपा पार्टी का सिंबल ही जब्त हो जाए।
- जनता बसपा की नीतियों और कार्यप्रणाली से वाकिफ है। अब दलित समाज भी मायावती के बहकावे में नहीं आने वाला इसलिए वह चाहे सिंबल से चुनाव लड़े या बिना सिंबल के, उनको जनता का समर्थन नहीं मिलने वाला।''

लेबर अड्डा पर किया प्रोग्राम

- स्वामी प्रसाद मौर्य ने खजांची चौराहा लेबर अड्डा पर आयोजित पंजीयन, संगोष्ठी एवं हितलाभ योजनाओं में धनराशि वितरण समारोह में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा, ''ऐसा पहली बार हो रहा है कि प्रदेश का श्रम मंत्री अब लेबर अड्डों पर जाकर सीधे मज़दूरों से मिल रहा है और योजनाओं की जानकारी दे रहा है।''

- डॉ. भीमराव अम्बेडकर पहले श्रम मंत्री थे, जिन्होंने मज़दूरों के लिए योजनाएं बनाई। पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने समाज के अंतिम व्यक्ति के उत्थान के लिए विचारधारा दी और अंत्योदय के माध्यम से उनको कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित करने के लिए कहा।''
- ''वर्तमान सरकार उनके दिखाए गए रास्तों पर चलकर मजदूरों के हित के लिए योजनाएं क्रियान्वित कर रही है।''