Hindi News »Uttar Pradesh »Gorakhpur» Property Dealer Murder In Gorakhpur

उधार के 22 लाख रूपए लौटाने को बुलाया, 4 दिन बाद इस हाल में मिला शख्स

गोरखपुर में एक शख्स ने उधार के रूपए न देने पड़े इसलिए अपने दोस्त का गला दबाकर जान से मार दिया।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 13, 2017, 07:03 PM IST

गोरखपुर. गोरखपुर यूनिवर्सिटी में हिंदी विभाग में प्रोफेसर के बेटे ने दो साथि‍यों के साथ मिलकर अपने दोस्त का मर्डर कर दिया। मृतक शुक्रवार शाम से ही घर से गायब था। पुलिस ने खुलासा करते हुए कहा, ''उधार के रुपए न देने पड़ें, इसलिए प्रोफेसर के बेटे ने दोस्त को अपने स्‍कूल बुलाकर उसे मार दिया और डेडबॉडी जंगल में फेंक दी। आरोपियों को अरेस्ट कर लिया गया है।''
मर्डर के बाद तेजाब से मिटा दिया सबूत
- एसपी सिटी विनय कुमार सिंह ने कहा, ''शक के आधार पर मृतक के दोस्त राहुल रॉय और उसके स्‍कूल में काम करने वाले राहुल पांडेय को अरेस्ट किया गया था। कड़ाई से पूछताछ करने पर उन्होंने जुर्म कबूला।''
- ''बेलीपार थाना क्षेत्र में रिटायर्ड रेलकर्मी जटाशंकर परिवार और दोनों बेटे (योगेश और गंगेश) के साथ रहते थे। बड़ा बेटा योगेश प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करता था।''
- ''लिटिल स्‍टार एकेडमी के निदेशक और गोरखपुर यूनिवर्सिटी के हिंदी विभाग के प्रोफेसर आरडी रॉय के बेटे राहुल से उसकी दोस्‍ती थी। योगेश ने राहुल को 22 लाख रुपए उधार दिए थे। वो पिछले कई दिनों से उससे वो रुपए मांग रहा था।''
- ''बार-बार रुपए की मांग करने पर शनिवार शाम को राहुल ने योगेश को (11 अक्‍टूबर) पैडलेगंज स्थित अपने घर बुलाया।''
- ''यहीं पर उसने योगेश की गला दबाकर हत्‍या की और मुंह-नाक से निकल रहे खून के धब्‍बों को तेजाब से धो दिया। दूसरे दिन 12 अक्‍टूबर को उसकी डेडबॉडी को बोरे में भरकर कैम्पियरगंज थानाक्षेत्र के पास के जंगल में फेंक दी।''
- ''योगेश को मारने से पहले राहुल ने घर के सीसीटीवी कैमरे बंद कर दिए थे। हालांकि, घर के आसपास लगे कैमरे में योगेश घर के अंदर दाखिल होते हुए तो दिखाई दिया, लेकिन बाहर नहीं निकला।''
- ''पुलिस ने राहुल और उसके कर्मचारी को अरेस्ट कर सख्‍ती से पूछताछ की तो दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसका एक साथी अभी भी फरार है।''

पत्नी ने दी तहरीर
- योगेश की पत्‍नी पुष्‍पा ने कहा, ''राहुल और मेरे पति अच्छे दोस्‍त थे। वो इतना बड़ा दरिंदा निकलेगा, यह नहीं सोचा था। 11 अक्टूबर शाम वो राहुल की कॉल पर रुपए लेने के लिए घर से निकले थे। देर रात तक न आने पर किसी अनहोनी की आशंका में हमने पुलिस को नामजद तहरीर दी थी। दूसरे दिन कैम्पियरगंज के पास जंगल में उनकी डेडबॉडी मिली।''
- मृतक के भाई राजेश ने कहा, ''इस हत्या में आरोपी का पूरा परिवार मिला है। जिसकी जांच सीबीआई से होनी चाहिए। उधार के पैसे वापस न देने पड़ें, इसलिए उसने भाई की हत्या कर दी।''
- मृतक के पिता ने कहा, ''बेटे के लापता होने के बाद राहुल घर पर मुझे सांत्वना देने भी आया था। उस वक्त ये नहीं सोचा था कि वही असली कातिल है।''
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gorakhpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×