Hindi News »Uttar Pradesh »Gorakhpur» Sahara Chief Subrata Roy In Gorakhpur

इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक

भले ही सहारा ग्रुप आर्थिक संकटों से जूझ रहा हो, लेकिन कुछ दिनों पहले तक ये देश का एक बड़ा औद्योगिक ग्रुप था।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 13, 2017, 01:15 PM IST

  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    'सहाराश्री' ने स्कूटर से बिस्किट और नमकीन बेच बिजनेस शुरू किया था। इनसेट में सुब्रत रॉय का स्कूटर।
    गोरखपुर.सुब्रत रॉय दो दिन के लिए गोरखपुर पहुंचे थे। उन्‍होंने कहा- ''मैं जब भी गोरखपुर आता हूं, मुझे बहुत अच्छा लगता है। ये मेरा घर है। पूरी दुनिया में तमाम शहर हैं लेकिन गोरखपुर मेरे लिए खास है। उम्‍मीद है - मुश्किलें जल्‍द खत्‍म हो जाएंगी। लेकिन, ये मेरे हाथ में नहीं है। हम आशावादी होकर उम्‍मीद ही कर सकते हैं।''
    2000 रुपए से शुरू किया था बिजनेस
    - सुब्रत रॉय का जन्म 10 जून, 1948 को बिहार के अररिया जिले में हुआ था। कोलकाता में शुरुआती पढ़ाई करने के बाद इन्होंने गोरखपुर के एक सरकारी कॉलेज से मेकैनिकल इंजिनियरिंग की।
    - गोरखपुर में सहारा की शुरुआत 1978 में हुआ। वो एक स्कूटर से चलते थे। तब दिन में 100 रुपए कमाने वाले लोग उनके पास 20 रुपए जमा कराते थे। सहारा ने एजेंट्स के जरिए लोगों से पैसा इकट्ठा करना शुरू किया।
    - कहा जाता है कि एक जमाने में वे बिस्किट और नमकीन बेचा करते थे। वो भी लंब्रेटा स्कूटर पर। आज ये स्कूटर कंपनी मुख्यालय में रखा हुआ है।
    सुब्रत रॉय पैरोल पर हैं जेल से बाहर
    - सुब्रत रॉय ने सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन लिमिटेड और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड कंपनी बनाई थी।
    - आरोप है कि इसके जरिए उन्‍होंने रियल एस्टेट में इन्वेस्‍टमेंट के नाम पर 3 करोड़ से अधिक इन्वेस्‍टर्स से 17,400 करोड़ रुपए इकट्ठा कर लिया था।
    - सितंबर 2009 में सहारा प्राइम सिटी ने आईपीओ लाने के लिए सेबी में डॉक्‍युमेंट जमा किया। सेबी ने अगस्त, 2010 में दोनों कंपनियों के जांच का आदेश दिया था।
    - जांच में खामी पाने पर सेबी ने सवाल उठाए तो मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा। सुप्रीम कोर्ट ने ग्रुप की दोनों कंपनियों को इन्वेस्टर्स को 24,000 करोड़ रुपए लौटाने के आदेश दिया था। उसे नहीं चुकाने के मामले में वे 4 मार्च 2014 से दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद थे।
    - सहारा की मां छवि राय के अंतिम संस्‍कार में शामिल होने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने उन्‍हें 6 मई 2016 को पैरोल पर रिहा करने का आदेश दि‍या था। तभी से वो जेल से बाहर हैं।
  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    लखनऊ के गोमती नगर में है सहारा का महल जैसा बंगला।
  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    वाइफ स्वप्ना रॉय के साथ सुब्रत राय।
  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    बॉलीवुड स्टार्स संग सुब्रत रॉय की अच्छी फ्रेंडशिप है।
  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    2000 हजार रुपए से 1978 में शुरू की थी कंपनी।
  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    और स्लाइड देखें स्वप्ना राय, सुब्रत राय, बहू रिचा और बेटा सुशांतो राय (बाएं से)
  • इसी स्कूटर से बेचते थे नमकीन-बिस्किट, ऐसे बने अरबों की कंपनी के मालिक
    +6और स्लाइड देखें
    इंवेस्टर्स के 24,000 करोड़ रुपए न चुकाने के मामले में वे 4 मार्च 2014 से दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद थे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gorakhpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×