गोरखपुर / सीएम योगी ने कहा- भारत के संतों की परंपरा बहुत समृद्ध, इनका आशीर्वाद मानव ही नहीं जीवों को भी मिला



सीएम योगी आदित्यनाथ। सीएम योगी आदित्यनाथ।
X
सीएम योगी आदित्यनाथ।सीएम योगी आदित्यनाथ।

  • गोरक्षनाथ मंदिर में महंत दिग्विजय नाथ की 50वीं और ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पांचवीं पुण्यतिथि समारोह की शुरूआत
  • सीएम योगी ने समारोह की अध्यक्षता की, कई वक्ताओं ने भी रखे विचार

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 06:02 PM IST

गोरखपुर. गोरक्षपीठ के दिवंगत महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ के साप्ताहिक जयंती-पुण्यतिथि समारोह का गुरुवार को शुभारंभ किया गया। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, भारत के संतों की परंपरा समृद्धशाली रही है। जब देश कोई भी पक्ष सुप्त अवस्था में होता है तो उसे जागृत अवस्था में लाने के लिए संत शक्ति समय समय पर अपने उस स्वरुप दर्शन के माध्यम व मार्गदर्शन से प्रेरित करती रही है। संतों ने अपना आशीर्वाद केवल मानव मात्र ही नहीं, जीवों को भी दिया है।  

राम जन्मभूमि आंदोलन में गोरक्षपीठ की सक्रियता लोक कल्याण का हिस्सा

  1. सीएम ने कहा कि, महर्षि वाल्मीकि ने भारत के ज्ञान की परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए वैदिक संस्कृति और अलौकिक संस्कृति को आम जन की भाषा में रखा। आज देश और दुनिया की कोई भाषा नहीं जिस में भगवान राम का चरित्र प्रस्तुत न किया गया हो। महर्षि वेदव्यास सहित अन्य ऋषि-मुनियों ने भारत की परंपरा को कम संसाधन होने के बावजूद पूरे विश्व में स्थापित किया। जगतगुरु आदि शंकराचार्य ने भारत की सनातन परंपरा को एक नई ऊर्जा देने का कार्य किया था। शंकराचार्य ने समाज के उस वर्ग को भी समाज के साथ जोड़ा, जिसे अछूत माना जाता था। 

  2. सीएम ने कहा कि, दुनिया में कुछ ऐसे लोग हैं, जिन लोगों शांति अच्छी नहीं लगती है। 11 सितंबर को अमेरिका के ऊपर आतंकियों ने हमला किया था। स्वामी विवेकानंद ने शांति और लोककल्याण का संदेश भी 11 सितंबर को शिकागो में दिया था। राम जन्मभूमि आंदोलन में गोरक्षपीठ की सक्रियता भी इसी लोक कल्याण का हिस्सा है। महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद 1932 से लोक कल्याण के कार्यों में लगा हुआ है। 

     

  3. गुरुवार को ब्रह्मलीन महंत दिग्विजय नाथ की 50वीं और ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पांचवीं पुण्यतिथि समारोह की शुरूआत हुई। इस मौके पर आयोजित राष्ट्रीय पुनर्जागरण यज्ञ और संत समाज विषयक संगोष्ठी में गीता धाम जबलपुर के संत जगतगुरु स्वामी श्याम देवाचार्य जी महाराज, अयोध्या के जगद्गुरु रामानुजाचार्य स्वामी राघवाचार्य जी महाराज, इतिहास संकलन विभाग के सतीश चंद मित्तल एवं अन्य संतों ने विचार रखे। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना