पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहीद पंकज व विजय के परिजनों से मिलेंगे सीएम योगी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • रविवार की शाम चार बजे महाराजगंज शहीद पंकज के घर पहुंचे सीएम योगी
  • सोमवार को देवरिया के शहीद विजय मौर्या के घर जाएंगे योगी

महाराजगंज. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को पुलवामा में हुए फिदायीन हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान पंकज त्रिपाठी के घर पहुंचे। सीएम ने शहीद जवान के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया। कहा कि, दुख की इस घड़ी में पूरा देश व सरकार शहीदों के परिजनों के साथ है। इस हमले के साजलिश्कर्ताओं को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। वहीं, सोमवार को सीएम देवरिया में शहीद जवान विजय कुमार मौर्या के परिजनों से मुलाकात करेंगे। 


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को महाराजगंज पहुंचे। यहां शाम चार बजे शहीद जवान पंकज त्रिपाठी के गांव हरपुर बेलहिया पहुंचे। योगी ने शहीद पंकज के चित्र पर पुष्पांजलि व माल्यार्पण कर जवान को नमन किया। इसके बाद परिजनों से मुलाकात की। यहां से निकलने के बाद योगी गोरखनाथ मंदिर में रात्रि विश्राम करेंगे। सोमवार को सीएम योगी देवरिया जाएंगे। सीएम योगी शहीद विजय कुमार मौर्य के परिजनों से मुलाकात करने पैतृक गांव छपिया जयदेव पहुंचेंगे। 

 

शहीद की गर्भवती पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल
हरपुर बेलहिया गांव निवासी पंकज त्रिपाठी भी उसी गाड़ी में थे, जिसे फिदायीन ने पुलवामा में उड़ाया। जिसमें पंकज त्रिपाठी शहीद हो गए। पंकज की तीन बहने हैं। तीनों की शादी हो चुकी है, एक छोटा भाई है जो बीए प्रथम वर्ष का छात्र है। जून 2011 में पंकज की शादी फरेंदा के सोहरौलिया खुर्द की रहने वाली रोहणी के साथ हुई थी। शहीद पकंज त्रिपाठी का तीन वर्ष का मासूम बेटा प्रतीक भी है। शहीद पंकज की पत्नी गर्भवती हैं और उनकी हालत सबसे ज्यादा खराब है, किसान परिवार से तल्लुक रखने वाले पकंज की मां सुशीला देवी बेटे के बिछुड़ने का गम सहन नहीं कर पा रहीं। पंकज अभी ढाई महीने की छुट्टी के बाद 10 फरवरी को ही ड्यूटी ज्वाइन करने के लिए गये थे। 

 

नौ फरवरी को ड्यूटी पर वापस गए थे शहीद विजय 
भटनी थाना क्षेत्र के छपिया जयदेव गांव रहने वाले विजय मौर्या (30) पुत्र रामायन मौर्या सीआरपीएफ की 92वीं बटालियन में तैनात थे। वर्तमान में जम्मू कश्मीर के कूपवाड़ा में उनकी तैनाती थी। 2 फरवरी को वे 10 दिन की छुट्टी लेकर घर आए थे। वे नौ फरवरी को ड्यूटी पर जम्मू के लिए रवाना हो गए। घर पर उनके वृद्ध पिता रामायन के अलावा सिर्फ भाभी मौजूद हैं। पत्नी विजय लक्ष्मी और एक चार साल की बेटी के साथ देवरिया में थीं।