गोरखपुर में पटरी पर लौटी जिंदगी, लोग बोले- पहली बार ऐसा यहां हुआ, बवाल के 22 आरोपी गिरफ्तार

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गोरखपुर पुलिस ने 50 प्रदर्शनकारियों को चिन्हित किया। - Dainik Bhaskar
गोरखपुर पुलिस ने 50 प्रदर्शनकारियों को चिन्हित किया।
  • शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद अचानक बिगड़ा शहर का माहौल
  • प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर किया पथराव तो लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले छोड़ पुलिस ने पाया हालात पर काबू
  • पुलिस ने तीन केस दर्ज किया, आरोपियों को चिन्हित करने काम जारी

गोरखपुर. नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद अचानक माहौल बिगड़ गया। यहां शाहमारूफ इलाके में युवकों का समूह पहले से सक्रिय था। जिसे समझने में पुलिस से चूक हुई। प्रदर्शनकारी रोड पर उतरे। उन्हें रोकने की कोशिश हुई तो पथराव शुरू हो गया। पुलिस ने लाठीचार्ज व आंसू गैस के गोले दागकर स्थिति पर काबू पाया। इसके बाद शुक्रवार को शहर अब शांत है। स्कूल कॉलेज बंद हैं। लेकिन लोगों की जिंदगी पटरी पर लौट आई है। प्रशासन अलर्ट है। यहां 22 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है। प्रदर्शन के दौरान बवाल करने वाले आरोपियों को चिन्हित किया गया है।

ये भी पढ़े
उप्र के 28 जिलों में इंटरनेट ठप; 31 जनवरी तक धारा 144 लागू, स्कूल-कॉलेजों में छुट्टी, परीक्षाएं रद्द

प्रशासन मुस्तैद, डर के माहौल में लोग
नागरिकता कानून पर गुरुवार को उग्र प्रदर्शन के दूसरे दिन शनिवार को स्थिति कंट्रोल में है। यहां घंटाघर नखास और आसपास की दुकानें बंद हैं। लोग दहशत में हैं। लोगों का कहना है बाबा गोरखनाथ की धरती पर ऐसा पहली बार हुआ है। कभी भी यहां फिर से स्थिति बिगड़ सकती है।

  • अनिल गुप्ता ने कहा- कल का माहौल बहुत खराब हो चुका था, हम लोग गरीब हैं। छोटे-मोटे दुकानदार हैं, दुकान खोलकर बैठे थे। लेकिन अचानक कुछ लोग आए नारेबाजी करना शुरू कर दिए। काउंटर तोड़ डाले। हम लोग खुद दहशत में हैं। कब क्या हो जाए कोई नहीं जानता।
  • रमजान अली ने कहा- आज दुकानें कुछ खुली हुई हैं। मैं गाड़ी चलाता हूं और गाड़ी भी लेकर आया हूं।
  • मोहम्मद आरिफ ने कहा- कल पुलिस ने सूझबूझ से प्रदर्शनकारियों पर काबू पाया है। पुलिस द्वारा भी आंसू गैस के गोले छोड़े गए थे, लेकिन आज की स्थिति शांत है।

पुलिस ने दर्ज किए तीन केस
बवाल व प्रदर्शन मामले में पुलिस ने 22 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। यहां तीन मुकदमे दर्ज हुए हैं। दो मुकदमा पुलिस ने और एक मुकदमा भीड़ के हमले में घायल हुए नागरिक सुरक्षा के उप नियंत्रक सत्य प्रकाश सिंह की तहरीर पर दर्ज किया गया है। माहौल बिगाड़ने वाले 50 आरोपियों को पुलिस ने चिन्हित किया है।