--Advertisement--

बिना 10th-12th पास किए कर सकते हैं ग्रेजुएशन, IGNOU दे रहा ये मौका

इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी 6 महीने का एक कोर्स संचालित कर रहा है।

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 10:02 PM IST
जनवरी 2018 से शुरू हो रहे इस शेशन के प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जनवरी है। जनवरी 2018 से शुरू हो रहे इस शेशन के प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जनवरी है।

महोबा. अगर किसी कि पढ़ाई बीच में ही छूट गई है और वह आगे पढ़ना चाहता है तो इग्नू आपको वो मौका दे रहा है। दरअसल, इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी 6 महीने का एक कोर्स संचालित कर रहा है। जिसमें कोई भी व्यक्ति, चाहे किसी भी उम्र का हो वह इस कोर्स के माध्यम से ग्रैजुएशन कर सकता है। बता दें, इग्नू द्वारा लगभग 200 कोर्स संचालित किए जाते हैं, जो अन्य केंद्रों में नहीं मिलेंगे। आगे पढ़ें कैसे करें अप्लाई...

- यहां के चरखारी डिग्री कॉलेज परिसर में संचालित इग्नू स्टडी सेंटर से अब बिना हाईस्कूल और इंटर के सीधे बैचलर डिग्री ऑफ प्रीप्रेटरी प्रोग्राम (बीपीपी) का कोर्स करके सीधे स्नातक की डिग्री हासिल कर सकता है। ।
- इग्नू के कोआर्डीनेटर डॉ. एनके सोनी ने बताया कि किसी कारणवश यदि कोई युवा उच्च शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाया है और पढ़ने की लालसा है, तो वह अपने स्नातक होने का सपना यहां से पूरा कर सकता है।
- जनवरी 2018 से शुरू हो रहे इस शेशन के प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जनवरी है। इस कोर्स की फीस 1200 रुपए है।

- इसमें एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स को ऑनलाइन अप्लाई करना होगा। साथ ही, एससी-एसटी स्टूडेंट्स को भी इतनी ही फीस जमा करनी होगी, लेकिन सत्यापन हो जाने के बाद उन्हें पूरी फीस वापस कर दी जाएगी।

- सीधे स्नातक में प्रवेश से पहले स्टूडेंट्स को बैचलर ऑफ प्रिप्रेटरी डिग्री प्रोग्राम में 6 महीने का उत्तीर्ण करना होगा। इसके बाद सीधे इग्नू से वह स्नातक में प्रवेश का हकदार होगा।
- परीक्षार्थी के एक बार फेल होने के बाद भी वह प्रति सब्जेक्ट 120 रुपए देकर दोबारा परीक्षा दे सकता है। साथ ही, पढ़ाई के लिए जरूर सारी बुक इग्नू द्वारा दी जाएगी, वो भी निःशुल्क।
- खास बात यह है कि बीपीपी कोर्स इंटर और हाई स्कूल के इक्यूवेलंट है। इसलिए जिस रोजगार में कैंडिडेट का चयन हाईस्कूल और इंटर के मार्कस पर होगा, वहां इस कोर्स के माध्यम से जॉब नहीं मिलेगी।

- वहीं, एेसे कैंडिडेट जो हाई स्कूल और इंटर के बाद स्नातक, परस्नातक, बीएड. 6 महीने का सर्टिफिकेट कोर्स और 1 साल का डिप्लोमा इग्नू से करता है तो वह सरकारी अथवा गैर-सरकारी रोजगार पाने का एलिजिबल होगा।

नहीं जरूरी है अटेंडेंस, घर बैठकर करें पढ़ाई

- वहीं, डॉ. रितू चतुर्वेदी बताती हैं कि लोगों में अभी इग्नू के शिक्षा के प्रति जागरूकता की कमी है, जबकि भारत का सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट और भारतीय संसद ने इग्नू को पूरी मान्यता प्रदान की है।
- इग्नू से शिक्षा ग्रहण करने के उपरांत रोजगार के क्षेत्र में सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में रोज़गार के अपार अवसर है। इसमें अटेंडेंस अनिवार्य नहीं है, स्टूडेंट अपने घर में रहकर भी पढ़ाई कर सकते हैं।
- इग्नू से शिक्षा ग्रहण कर रहे विनीता उपाध्याय, सिराज खान,गुलफ्सा आदि छात्रों ने बताया कि हायर एजुकेशन के लिए कम फीस जमा कर और कम उपस्थिति दर्ज करा कर भी पढ़ाई किया जा सकता है ।

इग्नू द्वारा लगभग 200 कोर्स संचालित किए जाते हैं, जो अन्य केंद्रों में नहीं मिलेंगे। इग्नू द्वारा लगभग 200 कोर्स संचालित किए जाते हैं, जो अन्य केंद्रों में नहीं मिलेंगे।
X
जनवरी 2018 से शुरू हो रहे इस शेशन के प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जनवरी है।जनवरी 2018 से शुरू हो रहे इस शेशन के प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जनवरी है।
इग्नू द्वारा लगभग 200 कोर्स संचालित किए जाते हैं, जो अन्य केंद्रों में नहीं मिलेंगे।इग्नू द्वारा लगभग 200 कोर्स संचालित किए जाते हैं, जो अन्य केंद्रों में नहीं मिलेंगे।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..